मध्य प्रदेश अतिथि विद्वान आमंत्रण प्रक्रिया से महासंघ नाराज - MP karmchari news

मध्य प्रदेश के सरकारी महाविद्यालयों में रिक्त पदों के विरुद्ध अतिथि विद्वानों की नियुक्ति के लिए उच्च शिक्षा विभाग सतपुड़ा भवन ने तृतीय समय सारणी का कैलेंडर बकायदा जारी कर दिया है। जिसके अनुसार सत्यापित आवेदकों के आवेदन 19 जनवरी से 24 जनवरी तक, कार्यरत अतिथि विद्वानों/सत्यापित आवेदकों का विकल्प भरने का 19 जनवरी से 24 जनवरी, आवंटन 25 जनवरी एवं ज्वाइनिंग की जानकारी समस्त प्राचार्य 25 जनवरी से 31 जनवरी तक पोर्टल में दर्ज़ कराएंगे। 

नए आवेदक भी शामिल किए जा रहे हैं

बड़ी बात ये है कि इसमें स्थांतरण चाहने वाले अतिथि विद्वानों के साथ ही नए आवेदक भी शामिल किए जा रहे हैं। साथ ही उच्च शिक्षा विभाग ने इस बार अतिथि विद्वानों की कैटेगिरी को भी समाप्त कर दिया है। जैसा कि विदित हो की अतिथि विद्वान लगातार अतिथि विद्वान नाम से अतिथि नाम हटाने एवं भाजपा सरकार द्वारा महापंचायत में की गई घोषणा को पूरी करवाने के लिए प्रयासरत हैं। 

अलग से लिस्ट जारी करता तो ज्यादा सही रहता

डॉ आशीष पांडेय, मीडिया प्रभारी अतिथि विद्वान महासंघ का कहना है कि, कार्यरत अतिथि विद्वानों के स्थानांतरण के साथ ही नए आवेदकों की च्वाइस फिलिंग करवाना एवं लिस्ट एक साथ जारी करना समझ से परे है। इससे स्थानांतरण का लाभ अतिथि विद्वानों को नहीं मिल पाएगा। उच्च शिक्षा विभाग कार्यरत अतिथि विद्वानों का अलग से लिस्ट जारी करता और शेष बची सीटों में विज्ञापन करता तो ज्यादा सही रहता। साथ ही विभाग को सरकार को 50 हज़ार फिक्स वेतन, 65 वर्ष तक स्थाई करने की जो घोषणा हुई थी। उसको अमल में लेते हुए संशोधित आदेश करना चाहिए। जिससे अतिथि विद्वानों की समस्या का समाधान किया जा सके। 

⇒ पिछले 24 घंटे में सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार पढ़ने के लिए कृपया यहां क्लिक कीजिए। इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें। यहां क्लिक करके भोपाल समाचार का व्हाट्सएप ग्रुप ज्वाइन करें यहां क्लिक करके भोपाल समाचार का टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल - व्हाट्सएप ग्रुप पर कुछ स्पेशल भी होता है।

#buttons=(Accept !) #days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Check Now
Accept !