MP NEWS- सरकारी स्कूल टीचर ने खुद को डॉक्टर घोषित किया, क्लीनिक खोल लिया

भिंड।
मध्य प्रदेश के भिंड जिले में सरकारी शिक्षक स्कूल में पढ़ाने की जगह फर्जी तरीके से चिकित्सक बन बैठा है। यह स्वास्थ्य विभाग के अफसरों को भी चुनौती देते हुए बिना प्रशासनिक अनुमति के शिक्षक मरीजों को घर पर बुलाता है और उनका उपचार किए जाने के नाम पर ठगी करता आ रहा है।

BHIND NEWS- जिला शिक्षा अधिकारी के नोटिस का जवाब भी नहीं दिया

उक्त शिक्षक ने जिले के शिक्षा विभाग के अफसर व चिकित्सा विभाग के अफसरों को खुली चुनौती देते हुए क्लीनिक सजाई हुई थी। हालांकि इस बात की जानकारी लगते ही शिक्षा विभाग की ओर से नोटिस भेजा गया है।शासकीय प्राथमिक विद्यालय औछाई का पुरा में पदस्थ प्राथमिक शिक्षक रणधीर सिंह बघेल समय पर स्कूल नहीं पहुंचते हैं। उनके स्कूल न पहुंचने पर लगातार स्कूल के अंदर छात्रों की संख्या कम होती जा रही है। इस बात की सूचना पर पूर्व में भी जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय की ओर से शिक्षक को नोटिस थमाया गया था। जिसका जवाब भी शिक्षक द्वारा उचित समय पर नहीं दिया गया था।

गांव वालों ने बताया- हमारे स्कूल का शिक्षक अब डॉक्टर बन गया

पिछले दिनों शिक्षक द्वारा गांव के लोगों को गुमराह करते हुए उपचार दिए जाने का मामला सामने आया था। इस बात की जानकारी लगते ही जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय की ओर से शिक्षक के खिलाफ एक्शन लिया गया है हालांकि प्राथमिक तौर पर जिला शिक्षा अधिकारी हरभुवन सिंह तोमर द्वारा शिक्षक को कारण बताओ नोटिस थमाया गए हैं जिसका जवाब 3 दिवस के अंदर देने की बात कही गई है।

डिग्री है ना डिप्लोमा- खुद को डॉक्टर घोषित कर दिया

शिक्षक रणधीर सिंह बघेल के पास डिग्री है ना डिप्लोमा हैं। इसके बावजूद भी वह लगातार ग्रामीण क्षेत्र के मरीजों को घर पर बुलाता उन्हें देखता और उनके दवाई भी देता। इस शिक्षक का मकान भिंड के बाईपास रोड पर है और दुकान भी है। यहां मरीजों को बुलाता और मरीजों का उपचार करता है। इसके मकान की बगल से ही एक मेडिकल स्टोर है। इस मेडिकल स्टोर से फर्जी चिकित्सक दवाई खरीदने के लिए मरीजों को भेजता है। यह चिकित्सक लंबे समय से लोगों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करता आ रहा है।

ये मामला संज्ञान में आया है। ये सरकारी शिक्षक किस तरह क्लीनिक चला रहा है इस बात की जांच करा रहे हैं। यह बहुत ही नियम विरुद्ध बात है। शिक्षक के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। मामला सही पाए जाने पर शिक्षक पर बर्खास्त किए जाने की कार्रवाई होगी फिलवक्त शिक्षक को नोटिस थमाया गया है और उसे 3 दिवस के अंदर जवाब मांगा गया है। हरभुवन सिंह तोमर, DEO, भिंड

✔ इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें एवं यहां क्लिक करके हमारा टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल पर कुछ स्पेशल भी होता है।