GWALIOR MELA NEWS- ऑटोमोबाइल सेक्टर में आईं 2 वर्ल्ड फेमस हसीनाएं, संडे को भारी भीड़ का पूर्वानुमान

ग्वालियर
। ग्वालियर व्यापार मेले में ऑटोमोबाइल सेक्टर की वर्ल्ड फेमस 2 सुंदरियां आ गई है। इन दोनों को देखने के लिए मेले में हर रोज हजारों की भीड़ आती है। जैसे लोग ऐश्वर्या राय और माधुरी दीक्षित को नजदीक से देखना चाहते हैं ठीक वैसे ही इनके दीवाने इन्हें अपनी आंखों से देखना चाहते हैं। इलेक्ट्रॉनिक्स सेक्टर भी सजधज कर तैयार हो गया है। मकर संक्रांति 15 जनवरी रविवार के दिन भारी भीड़ होने की संभावना है।

ग्वालियर मेला ऑटोमोबाइल सेक्टर में ऑडी और बीएमडब्ल्यू 

ग्वालियर व्यापार मेला - ऑटोमोबाइल सेक्टर एक बार फिर चमक उठा है। ऑडी और बीएमडब्ल्यू कार भी आ गई है। इन कारों को देखने के लिए हजारों लोग आते हैं। जीप कंपनी का भी शोरूम चालू हो चुका है। 50% छूट के कारण वाहनों की बिक्री तेजी से बढ़ती जा रही है। मात्र 4 दिन में 1000 से ज्यादा वाहन बिक चुके हैं। यदि बाइक की बात करें तो सबसे ज्यादा 350 सीसी की बाइक बिक रही है। कारों में लग्जरी सेगमेंट की बिक्री ज्यादा है क्योंकि 50% डिस्काउंट काफी फायदा देता है। 

ग्वालियर मेला में इलेक्ट्रॉनिक्स सेक्टर मकर संक्रांति से शुरू 

ग्वालियर मेला परिसर में इलेक्ट्रॉनिक्स सेक्टर मकर संक्रांति से शुरू हो जाएगा। मनीष सेल्स के संचालक नवीन महेश्वरी ने बताया कि मेले में उनके स्टॉल शुरू हो गए हैं। ग्राहक मकर संक्रांति पर तमाम इलेक्ट्रॉनिक्स सामग्री की खरीदी मेले में आकर कर सकते हैं। ज्योतिषाचार्य सुनील चोपड़ा ने बताया कि इस साल संक्राति 15 जनवरी को मनाई जाएगी। पुण्य काल मुहूर्त रविवार प्रात: 6:47 बजे से शाम 5:40 बजे तक रहेगा। मकर संक्रांति अपने आप में महामुहूर्त के समान है। 

मेला परिसर में कचरा ही कचरा क्योंकि प्राधिकरण ने ठेका गलत दे दिया

ग्वालियर। ग्वालियर व्यापार मेला प्राधिकरण ने सफाई के मामले में वह ऐतिहासिक गलती कर दी जो कम से कम बिजनेस वर्ल्ड में कभी कोई नहीं करता। 104 एकड़ में फैले हुए मेला परिसर की सफाई का ठेका मात्र ₹8 लाख में रिटायर्ड नगर निगम कर्मचारी अशोक मौरे की फर्म गालव इंटरप्राइजेज को दे दिया जबकि नगर निगम ने इस काम के लिए 1.16 करोड़ रुपए का प्रपोजल भेजा था। कितनी अजीब बात है 1.16 करोड़ रुपए का काम 8 लाख रुपए में। ठेका देने से पहले प्राधिकरण ने बिल्कुल नहीं सोचा कि कीमतों में इतना ज्यादा अंतर क्यों है। नतीजा पूरा मेला परिसर कचरा-कचरा हो गया है। सफाई नाम की चीज नहीं है।

झूले वालों की लड़ाई 
वैसे कोई बड़ी बात नहीं है लेकिन वीडियो वायरल हो गया है। सैलानियों अपने झूले में आमंत्रित करने की प्रतियोगिता में दो कर्मचारियों के बीच बहस हो गई। फिर मारपीट शुरू हो गई। कुछ लोगों ने इसका वीडियो बनाकर इंटरनेट पर डाल दिया। समाचार बस इतना ही है क्योंकि इस तरह की मारपीट इन लोगों के लिए सामान्य बात है। यह लोग इसे खेल की तरह लेते हैं। दुश्मनी नहीं पालते। मेले का शोर खत्म होते ही साथ खड़े हो जाते हैं। 

✔ इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें एवं यहां क्लिक करके हमारा टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल पर कुछ स्पेशल भी होता है।