GWALIOR MELA NEWS- 15 दिन में 350 करोड़ से ज्यादा का कारोबार, भारी भीड़

ग्वालियर व्यापार मेला
अपने खुमार पर है। 15 दिन में 350 से ज्यादा का कारोबार हो चुका है। ऑटोमोबाइल सेक्टर में भारी भीड़ लगी हुई है। टोटल 5440 वाहन बिक चुके हैं। मेले में वाहनों की खरीदारी से उपभोक्ताओं को ₹15 करोड़ की बचत हुई है। 

कई जिलों के लोग ग्वालियर मेला में वाहन खरीदने आ रहे हैं

ग्वालियर व्यापार मेले में आठ जनवरी से वाहनों का सत्यापन शुरू हो गया था, जो वाहन सत्यापित हुए, उन्हें रोड टैक्स में 50 फीसद की छूट मिल गई। पहले दिन 324 चार पहिया बिके। ऑटोमोबाइल सेक्टर से वाहन बिक्री के 15 दिन पूरे हो गए हैं। हर वैरियंट की गाड़ी मेले से खरीदी जा रही है। दूसरे जिलों के लोग गाड़ी खरीदने ज्यादा आ रहे हैं। एजेंसी पर खरीददार व अस्थाई क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय में वाहन सत्यापन की कतार लगी हुई है। 

RTO रजिस्ट्रेशन में 2 दिन की वेटिंग

मेले में वाहन सत्यापन के दो दिन बाद लोगों की गाड़ियों का पंजीयन हो रहा है। इसके बाद वाहन-4 पर विक्रय पत्रक अपलोड करना होता है। वाहनों की बिक्री अधिक होने से लोड बढ़ा है। RTO एचके सिंह का कहना है कि पोर्टल पर 2931 गाड़ियां पंजीकृत हो चुकी हैं। रोड टैक्स में नौ करोड़ की छूट मिली है।

मौसम के कारण ग्वालियर मेला फूड सेक्टर की लॉटरी लग गई

सुबह के समय हल्की सी बूंदाबांदी और दिनभर मौसम में रही ठंडक ने रविवार मेले की रौनक में चार चांद लगा दिए। इसका सीधा असर मेले के फूड सेक्टर पर देखने मिला। परिवार के साथ मेला घूमने आए सैलानियों ने सर्द मौसम में जमकर गरमा गरम व्यंजनों का लुत्फ उठाया। 

इस माह है सहालग, इसलिए खरीदारों की संख्या ज्यादा

वर्तमान में शादी समारोह का सीजन चल रहा है। विवाह में गाड़ी देने के लिए लोग मेले से खरीद रहे हैं। चार पहिया पर 50 फीसद की छूट की वजह से बड़ी बचत हो रही है। इस हफ्ते बड़ी लग्न हैं। विवाह में गाड़ी देने के लिए लोग वाहन खरीदने ग्वालियर आ रहे हैं। कोविड-19 की वजह से पिछले दो साल से वाहन आसानी से नहीं मिल रहे थे। लंबी वेटिंगी थी, लेकिन कुछ माडल को छोड़ दिया जाए। अधिकतर माडल आसानी से मिल रहे हैं। रविवार को 55 लेकर 85 लाख रुपये तक की तीन गाड़ियां बिकी है। ये लक्जरी गाड़िया हैं।

✔ इसी प्रकार की जानकारियों और समाचार के लिए कृपया यहां क्लिक करके हमें गूगल न्यूज़ पर फॉलो करें एवं यहां क्लिक करके हमारा टेलीग्राम चैनल सब्सक्राइब करें। क्योंकि भोपाल समाचार के टेलीग्राम चैनल पर कुछ स्पेशल भी होता है।