GWALIOR की गलियों में नया ठिकाना तलाश रहा है तेंदुआ, जंगल में माफिया का राज- NEWS TODAY

ग्वालियर
। वैसे तो जंगल में शेर का राज होता है और बाघ, तेंदुआ, चीता एवं भालू राज परिवार के सदस्यों की तरह जंगल में दबदबा बनाकर रहते हैं परंतु माफिया के सामने किसी की नहीं चलती। जंगल में जब माफिया आ जाता है तो जान बचाने के लिए सबको इंसानों की बस्तियों की तरफ दौड़ना पड़ता है। माफिया से जान बचाकर आया एक तेंदुआ ग्वालियर के सिकंदर कंपू कुशवाहा मार्केट की गली में दिखाई दिया है। 

कुशवाहा मार्केट, सिकंदर कंपू, ग्वालियर की पीछे वाली गली में तेंदुआ

कुशवाहा मार्केट, सिकंदर कंपू, ग्वालियर की पीछे वाली गली में सीसीटीवी की रिकॉर्डिंग में नजर आया कि सोमवार-मंगलवार की दरमियानी रात एक तेंदुआ घूम रहा था। उसकी चाल और गतिविधियां देखकर प्रतीत होता है कि वह शिकार के लिए नहीं आया था बल्कि अपने लिए कोई नया असरा ढूंढ रहा है। ऐसा तभी होता है जब जंगल में माफिया जाता है और उसकी मशीनें, जानवरों को किसी राक्षस की तरह प्रतीत होती हैं। 

Amazing facts in Hindi about leopard

  • तेंदुआ भी बिल्ली मौसी का भतीजा है। 
  • तेंदुआ केवल अफ्रीका और एशिया में पाया जाता है। 
  • यह विडाल प्रजातियों जैसे शेर, बाघ और जैगुअर की तुलना में सबसे छोटा होता है। 
  • इसे जंगल का चतुर जानवर माना जाता है। 
  • एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने के लिए तेंदुआ हमेशा रात में ट्रैवल करता है। 
  • यदि जान का खतरा ना हो तो तेंदुआ भी इंसानों के साथ रहना पसंद करता है।