MP NEWS- शिवपुरी में माफी मांगने आए भाजपा विधायक को वापस लौटाया, पढ़िए ऐसा क्या हुआ

भोपाल
। मध्यप्रदेश के शिवपुरी जिले में भारतीय जनता पार्टी की कोलारस विधानसभा सीट से विधायक श्री वीरेंद्र रघुवंशी को शिवपुरी मेडिकल कॉलेज में अनपढ़ और गवार कहा गया। इसके बावजूद भाजपा विधायक को सार्वजनिक रूप से माफी मांगने पड़ी लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें माफ नहीं किया। एक बार फिर अपमानित करके वापस लौटा दिया। 

वीरेंद्र रघुवंशी विधायक और डॉक्टरों के बीच विवाद का मामला क्या है

शिवपुरी मेडिकल कॉलेज में भाजपा विधायक वीरेंद्र सिंह रघुवंशी की भतीजी भर्ती है। वह अपनी भांजी का स्वास्थ्य जानने के लिए मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल पहुंचे थे। यहां ड्यूटी पर मौजूद जूनियर डॉ. हरिओम धाकड़ और भाजपा विधायक के बीच बहस हो गई। बहस के दौरान जूनियर डॉक्टर ने भाजपा विधायक को अनपढ़ और गवार कहा। गुस्से में विधायक वीरेंद्र रघुवंशी ने डॉक्टर की कॉलर पकड़ ली। इतने मैं वहां मौजूद विधायक के ड्राइवर ने डॉक्टर को चांटा मार दिया। 

घटना मंगलवार रात 10:00 बजे की है। विधायक को सूचना मिली थी कि ड्यूटी डॉक्टर इलाज में लापरवाही कर रहा है। विधायक ने प्रोटोकॉल का पालन करते हुए मेडिकल कॉलेज के डीन डॉक्टर केबी वर्मा से फोन पर चर्चा की और स्वयं अस्पताल पहुंचे। यहां उन्होंने ड्यूटी डॉक्टर धाकड़ की कॉलेज के डीन से फोन पर बात करवाई। इसके बाद दोनों के बीच बहस हुई।

विधायक वीरेंद्र रघुवंशी का बयान

कोलारस विधायक वीरेंद्र रघुवंशी ने इस मामले में सफाई देते हुए कहा- कि मेरी भांजी का अपेंडिक्स लीक होने के कारण उसे रात में मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था। मैं और मेरा ड्राइवर उसे देखने गए थे। मेरे साथ न गनमैन था और न कोई अन्य स्टाफ। डॉक्टर वहां 3 नर्सों के साथ बैठे थे। मैंने उनसे पूछा कि मरीज को क्या दवाएं दे रहे हैं। उन्होंने मुझे बताने से इनकार कर दिया। मैंने अपने मोबाइल से डीन केबी वर्मा को कॉल लगा दिया। मैंने डॉक्टर से कहा कि आप मुझे नहीं बता पा रहे हो तो अपने डीन को बता दो। इस पर उन्होंने डॉ. वर्मा को कहा कि यहां कहां-कहां से गंवार और बदतमीज लोग आ जाते हैं। उसने जब मुझे अपशब्द कहे तो मेरे ड्राइवर ने उसे एक थप्पड़ मार दिया। इस पर मैंने उसे रोका और मामले की शिकायत डीन को करते हुए कार्रवाई करवाने की बात कही।

डॉ हरिओम धाकड़ का बयान

मैंने विधायक को बताया कि मैं कंपाउंडर नहीं, बल्कि ड्यूटी डॉक्टर हूं। इसी बात पर उन्होंने मेरी कॉलर पकड़ ली। इसके बाद उनके साथ आए पीए और अन्य लोगों से कहा कि डॉक्टर को पीटो। इस पर सभी लोगों ने मुझसे मारपीट की। मैंने इसकी जानकारी डीन डॉ. केबी वर्मा को दी तो उन्होंने जांच के बाद कार्रवाई के लिए कहा। मैं अपने साथियों के साथ बुधवार रात कोतवाली पहुंचा और विधायक के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई। डॉक्टर ने कहा कि विधायक ने मुझसे मारपीट का एक मिनट का वीडियो भी डिलीट करा दिया।

शिवपुरी मेडिकल कॉलेज में मरीज के परिजनों को जानकारी नहीं देते

विधायक वीरेंद्र रघुवंशी का कहना है कि मेडिकल कॉलेज कोरोना काल से ही बदनाम है। मेडिकल कॉलेज में कोरोना काल में सैकड़ों मौत हुई थीं। लोगों का डर आज तक नहीं निकल पाया है। मेडिकल कॉलेज में आज भी उनके पास मरीजों के अटेंडरों के सिर्फ इसी बात के फोन आते हैं कि उनके मरीजों को कैसा ट्रीटमेंट दिया जा रहा है। मरीज की हालत कैसी है, डॉक्टर-नर्स नहीं बता रहे हैं। जबकि डॉक्टर ओर नर्स को मरीजों के अटेंडर को समय समय पर मरीज के बारे में बताते रहना चाहिए, ऐसा शिवपुरी के मेडिकल कॉलेज में नहीं होता।

विधायक के बयान पर भड़के जूनियर डॉक्टर, हड़ताल पर गए

इधर भाजपा विधायक के कोरोना काल वाले बयान पर जूनियर डॉक्टरों ने भी उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया। जूनियर डॉक्टर गुरुवार सुबह से ही प्रदर्शन कर रहे हैं। जूनियर डॉक्टरों का कहना है कि विधायक का एक वीडियो सामने आया है। इसमें वह मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों पर कोरोना काल में मरीजों को मारने के आरोप लगा रहे हैं। जबकि कोई भी डॉक्टर ऐसा नहीं करता। डॉक्टरों की मांग है कि पहले विधायक वीरेंद्र रघुवंशी अपने इस बयान पर माफी मांगे। जिसके बाद ही वे अपने हड़ताल खत्म कर काम पर लौटेंगे। इसके अलावा डॉक्टर्स का कहना है कि जब तक विधायक रघुवंशी पर प्रोटेक्शन एक्ट के तहत FIR नहीं हो जाती, तबतक वे काली पट्‌टी लगाकर ही काम करेंगे।

मेडिकल कॉलेज माफी मांगने पहुचे विधायक

मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों की हड़ताल की खबर मिलने के बाद भाजपा विधायक वीरेंद्र रघुवंशी मेडिकल कॉलेज पहुंचे। वहां उन्होंने डॉक्टरों से माफी मांगते हुए कहा कि उनके साथियों से गलती हुई। हमें माफ करें। डॉक्टरों ने विधायक के माफीनामे को अस्वीकार कर दिया। ड्यूटी डॉक्टर विधायक पर एफआईआर दर्ज करने की बात पर अड़े हुए हैं। सिटी कोतवाली थाना प्रभारी सुनील खेमरिया ने डॉक्टरों के एक दल को थाने में बयान दर्ज करने को कहा है।