BHOPAL NEWS- बैरागढ़ में 4 दिन में डेंगू से दो भाइयों की मौत, 2 महीने में चार ने दम तोड़ा

भोपाल।
मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल डेंगू की चपेट में आती दिखाई दे रही है। अकेले बैरागढ़ नगर में सिर्फ 4 दिनों में एक परिवार के 2 जवान लड़कों की मौत हो गई। पिछले 2 महीनों में बैरागढ़ में चार लोगों की मौत डेंगू के कारण हो चुकी है।

प्राइवेट अस्पताल में इलाज नहीं कर पाया

जानकारी के अनुसार मकान नंबर 396 वन ट्री हिल्स निवासी लखन राजपूत के पुत्र राजीव राजपूत के प्लेटलेट्स काउंट कम हो गए थे। उसे इलाज के लिए बैरागढ़ के किशनानी अस्पताल में भर्ती कराया गया था लेकिन तबीयत में सुधार नहीं हुआ। बाद में उसे राजधानी के एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां 25 नवंबर को राजीव ने दम तोड़ दिया था।  राजपूत परिवार राजीव की मौत के सदमे से उबरा ही नहीं था कि मंगलवार को राजीव के छोटे भाई तरूण ने भी इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। 

परिवार बेहद दुखी है। नगर में शोक की लहर छा गई है। स्वजनों के अनुसार तरुण के प्लेटलेट्स काउंट भी कम हो गए थे। चिकित्सकों के तमाम प्रयासों के बावजूद से बचाया नहीं जा सका। तरुण के अंतिम संस्कार में शामिल हुए पूज्य सिंधी पंचायत के महासचिव माधु चांदवानी के अनुसार तरुण का पहले एक निजी अस्पताल में इलाज कराया गया, बाद में उसे एम्स में भर्ती किया गया था।

बैरागढ़ में पिछले दो माह में चौथे डेंगू संदिग्ध की मौत हुई है। चिकित्सक भी कह रहे हैं कि डेंगू के संदिग्ध मरीजों की संख्या बढ़ गई है, लेकिन प्रशासन मौत का कारण डेंगू नहीं मानता। अधिकारी कहते हैं एलाइजा टेस्ट की रिपोर्ट आए बिना डेंगू की पुष्टि नहीं की जा सकती। जिन युवाओं की मौत हुई है, उनके स्वजन साफ कह रहे हैं कि मृत्यु डेंगू से ही हुई है। दो माह पहले लक्ष्मण नगर निवासी एक युवक की मौत हो गई थी। 

12 नवंबर को जी वार्ड निवासी प्रदीप मोतियानी ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया था। अब दो सगे भाइयों की मौत से चिंता का माहौल है। नगर निगम लगातार जांच अभियान भी चला रहा है। जोन के स्वच्छता प्रभारी रविकांत औदिच्य के अनुसार टंकियों में लार्वा पाए जाने पर स्पाट फाइन किया जा रहा है।