मध्य प्रदेश मूल के NRI को डॉक्टर पत्नी ने गैंग बनाकर लूटा, FIR दर्ज- MP NEWS

भोपाल
। मध्य प्रदेश के उज्जैन शहर से अमेरिका गए एक परिवार ने काफी पैसा और प्रॉपर्टी बनाया। उनका बेटा इंडिया में इन्वेस्ट करने के लिए और अपनी फैमिली के लिए एक भारतीय बहू ले जाने इंडिया आया था। एक महिला डॉक्टर से शादी भी की परंतु 16 साल में यह हालत हो गई थी NRI पति अस्पताल में भर्ती है और डॉक्टर पत्नी को राजस्थान की मोतीडूंगरी थाना पुलिस तलाश रही है। 

NRI नितिन की लाइफ स्टोरी 

उन्होंने पुलिस और लोकल मीडिया को बताया कि, मेरा जन्म उज्जैन मध्य प्रदेश में हुआ। 5 साल का हुआ तो मॉम-डैड मुझे अमेरिका ले गए। डैड अमेरिका के नामी डॉक्टर थे। उन्होंने अमेरिका में काफी प्रॉपर्टी बनाई। मैंने स्टडी के बाद अमेरिका में फैमिली होटल बिजनेस का काम संभाला। इसके अलावा भी होटल, प्रॉपर्टी का बिजनेस करता था। इंडिया में जन्म और यहां की संस्कृति के चलते मुझे इंडिया से प्यार था।

इंडियन लड़की से शादी करना चाहता था, अमिता मिली

'साल 2006 में इंडिया में बिजनेस करने के लिए मैं 3.52 करोड़ लेकर आया था। मेरे पास 10 साल का बिजनेस वीजा था। प्रॉपर्टी, डॉक्टर्स ग्रुप सहित अन्य बिजनेस में डील भी की। इसी दौरान शादी के चलते मुझे अमिता का ई-मेल मिला। इसमें लिखा था कि मैं जयपुर से हूं और मेरे कॉन्टैक्ट नंबर पर कॉल करो।'

मुलाकात हुई, दोनों में प्यार हुआ और शादी कर ली

मैंने अमिता से बात की। अमिता मुझसे मिलने राजमंदिर के सामने आई। मैं उस समय राजमंदिर के पास एक होटल में रुका था। बातचीत के बाद उसने मुझे अपने परिवार से मिलवाया। मुझे होटल में रुकने के बजाय अपने घर चलने को कहा, लेकिन मैंने होटल में ही रुकने को कहा। काफी देर तक हम दोनों में बातें होती रही। अगले दिन मैं काम के सिलसिले में चंडीगढ़ चला गया। उसने कॉल कर कहा याद आ रही है। भावुक होकर सभी काम छोड़कर मैं दोबारा जयपुर आ गया। हम साथ वक्त बिताने लगे। 27 मार्च 2006 को हमने शादी कर ली।

लाइफ में हुई तीसरे की एंट्री

करीब सालभर बाद बेटे का जन्म हुआ। शादी के बाद ही अमिता का बर्ताव को देखकर मेरे मॉम-डैड ने दूरी बना ली। मैं बिजनेस के चलते इंडिया से बाहर जाता रहता था। सब कुछ जिंदगी में सही चल रहा था। कुछ समय बाद प्रॉपर्टी बिजनेस को लेकर सांगानेर निवासी शिव पुरुषोत्तम को जॉब पर रखा।'

पत्नी के पीछे पूरा गैंग काम कर रहा था

शिव पुरुषोत्तम को कम्प्यूटर ऑपरेटर का काम सिखाया। जॉब के दौरान उसने पत्नी के साथ मिलकर पैसा-प्रॉपर्टी हड़पने की प्लानिंग कर ली। इसमें पत्नी के पुराने परिचित ऋषि सक्सेना भी शामिल था। पत्नी ने मुझे कालसर्प दोष होने का भय दिखाया गया। 

फेसबुक पर सिर्फ आवाज सुनाई देती थी

दोष निवारण के लिए तांत्रिक बाबा मोहम्मद युसुफ से मिलाया। बाबा ने मुझे और अमिता को नकली नाम से नया फेसबुक अकाउंट बनाने को कहा। उस नकली अकाउंट के जरिए ही बाबा हमसे बात करता था।

अमेरिका से इंडिया आए NRI को तांत्रिक जाल में कैसे फंसाया 

बाबा ने जाल में फांसने के लिए कई चमत्कार दिखाए। बिना देखे बता देते घर में कौन सी चीज कहां रखी है। गली के तीन चक्कर लगाने को कहते। जब मैं चक्कर लगाकर आता तो लॉक फ्लैट में गुलाब के फूल मिलते।, मेरी पत्नी बाबा से मिली हुई थी, लेकिन मैं उस वक्त समझ नहीं पाया। चमत्कार के बारे में पूछने पर बाबा ने कहा- कमरे में लगी घोड़े की नाल से मुझे सब पता चल जाता है। दर्शन देने को कहा तो बाबा बोला- घोड़े की नाल से धूपबत्ती किया करो।'

बाबा प्रसाद में स्लो प्वाइजन भेजने लगा

पत्नी की निगाह मेरी प्रॉपर्टी और पैसे पर थी। वह खाने की अलग-अलग चीजों में स्लो पॉइजन मिलाकर देनी लगी। गुलाब के फूल में स्लो पॉइजन मिलाकर मुझे खिलाए। कहती- बाबा ने प्रसाद के तौर पर गुलाब भेजा है। इसको इस प्रकार खाना है कि खाते समय फूल नहीं दिखे। प्रसाद कहां से मिला पूछने पर बताया जाता कि बाबा ने कहा था कि मंदिर के अंदर एक पैकेट रखा है, ले आओ। शिव पुरुषोत्तम को भेजकर मंगवा लिया।

अदृश्य बाबा ने 1 करोड़ रुपए कैश लिया

बाबा ने विश्वास दिलाया कि वो मेरा कालसर्प दोष को खत्म कर देगा। कालसर्प दोष की पूजा के लिए करीब 1 करोड़ रुपए कैश लिया। इस रकम को शिव पुरुषोत्तम देने गया था। पैसे कहां और किसे देने हैं, पूछने पर बाबा ने कहा- मेरा भेजा आदमी खुद आगे से शिव पुरुषोत्तम को पहचान कर मांग लेगा।, मैंने शिव पुरुषोत्तम से पूछा तो उसने बताया कि रास्ते में एक बूढ़ा आदमी मिला। जिसके हाथ में लाठी थी। उसने मुझे रोककर बाबा की अमानत देने की कहकर खुद मांग ली।'

बाबा के प्रसाद का क्या असर हुआ

स्लो पॉइजन से मेरा करीब 40 प्रतिशत शरीर खत्म हो गया। दिमाग भी कम काम करने लगा। असहनीय दर्द होता। चल भी नहीं पता। पैरों के तलवों में ऐसा लगता जैसे गर्म कर कांच चुभाया जा रहा है। बाबा को असहनीय दर्द के बारे में बताता तो वो कहता- ये तेरी तपस्या का दर्द है। सहन कर ले इसे तो कोई डॉक्टर भी ठीक नहीं सकता।

मौत का डर दिखाकर अमेरिका वापस भेज दिया

पत्नी ने काल्पनिक बाबा से मिलकर मुझे कई बार जयपुर से बाहर दो-तीन दिन घुमकर आने को कहा। कालसर्प के दोष से मौत होने का भय दिखाया। कहा कि जयपुर स्थित घर पर रहोगे तो तुम्हारी मौत हो जाएगी। अमेरिका चले जाओ। जब तक नहीं कहे वापस इंडिया मत आना।

अमेरिका जाते ही प्रॉपर्टी बेच दी

जनवरी 2014 में मैं अमेरिका चला गया। पीछे से मुहाना स्थित करीब 1 करोड़ की प्रॉपर्टी को फेक साइन से बेच दिया। जनवरी 2015 में वापस इंडिया लौटने पर धोखे का पता चला। फर्जी तरीके से मेरी प्रॉपर्टी को बेचने के चलते शिव पुरुषोत्तम के खिलाफ मुहाना थाने में रिपोर्ट दर्ज करवाई। पुलिस ने कार्रवाई कर उसे अरेस्ट कर जेल भेजकर चालान पेश किया। 

ऑपरेटर गिरफ्तार हुआ तो पत्नी नाराज हो गई

जिसके बाद से ही पत्नी से विवाद होना शुरू हो गया। आए दिन झगड़े होने के साथ ही पत्नी मारपीट पर उतारू हो जाती थी। इसके बाद जैसे-तैसे साथ रहते। साल 2020 में वह घर छोड़कर चली गई।

ऐसा धोखा मिला कि सब कुछ खत्म हो गया

इंडिया में इन्वेस्ट कर बिजनेस करने आया था। ऐसा धोखा मिला कि सब कुछ खत्म हो गया। जिंदगी खराब हो गई। मैं अब यहां रहना नहीं चाहता और बेटे को तो इंडिया में बिलकुल नहीं रखना चाहता। मैं अपने बेटे को अमेरिका में ही रखूंगा। इंडिया से इतना कुछ मिला है कि भूल नहीं पाऊंगा।