MP CM RISE SCHOOL- जहां जन-गण-मन 6 साल तक बंद रहा, डीईओ को आपत्ति नहीं

भोपाल।
मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दिल्ली के सरकारी स्कूलों से टक्कर लेने के लिए सीएम राइज स्कूल योजना बनाई। दावा किया कि आधुनिक संसाधनों के साथ संस्कारों की शिक्षा दी जाएगी परंतु उनके अपने विदिशा जिले में एक सीएम राइज स्कूल ऐसा है, जहां पर राष्ट्रगान नहीं होता। नोट करने वाली बात यह है कि जिला शिक्षा अधिकारी को पता है परंतु उन्हें कोई आपत्ति नहीं है। 

यह मामला शासकीय उत्कृष्ट उच्चतर माध्यमिक विद्यालय कुरवाई का है, जिसे योजना के तहत सीएम राइज स्कूल बनाया गया है। गंज बासौदा के पत्रकारों ने इस मामले की छानबीन की है। पत्रकार अंकुर शर्मा की रिपोर्ट के अनुसार पिछले 6 साल से इस स्कूल में राष्ट्रगीत और राष्ट्रगान नहीं हुआ है। स्कूल स्टाफ, विद्यार्थियों के पेरेंट्स और आसपास के लोगों से पूछताछ करने के बाद पत्रकार अंकुर शर्मा की इन्वेस्टिगेशन रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इस स्कूल में पिछले 6 साल से राष्ट्रगीत एवं राष्ट्रगान का गायन नहीं हुआ है। केवल ऐ मालिक तेरे बंदे हम प्रार्थना की जाती थी। 

रिपोर्ट के अनुसार इस स्कूल की पूर्व प्राचार्य का नाम शाहिना फिरदौस है। सन 1992 में उनकी प्राचार्य के पद पर पदस्थापना हुई थी। तभी से राष्ट्रगान एवं राष्ट्रगीत को बंद कर दिया गया। फरवरी 2022 में यहां कुछ कंस्ट्रक्शन कराया गया जो मजार जैसा दिखाई देता है। 

जिला शिक्षा अधिकारी अतुल कुमार मौदगिल का कहना है कि उन्हें इस बारे में जानकारी है। मजार नुमा चबूतरा तोड़ने के लिए कलेक्टर को लिखा है, अब कलेक्टर साहब जब चाहेंगे तब तोड़ेंगे। राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत के मामले में अतुल कुमार का कहना है कि सीएम राइज स्कूल में प्राचार्य बदल गए हैं। अब नियमित रूप से राष्ट्रगीत और राष्ट्रगान गाया जा रहा है। कुल मिलाकर अतुल कुमार बड़ी ही चतुराई के साथ शाहीना फिरदौस को किसी भी प्रकार की कार्यवाही से बचा रहे हैं। 

प्राचार्य के पद पर रहते हुए स्कूल में 6 साल तक राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत का गायन बंद रखना, आईपीसी की किस धारा के तहत और कितना गंभीर अपराध है। इस तरह के अपराध को छुपाने का प्रयास करना, कितना गंभीर अपराध है। कलेक्टर विदिशा के लिए यही तो प्रश्न है।

भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा का बयान सुनिए