DHANTERAS 2022- खास ग्रह, योग, नक्षत्र के कारण विशेष है, 22 या 23 अक्टूबर कब मनाएं

DHANTERAS 2022-
धनतेरस का पर्व दो दिन 22 और 23 अक्टूबर को मनाया जाएगा। दोनों दिन ग्रह-नक्षत्रों का विशेष संयोग शुभ और स्थायी फलदायी होगा। खास ग्रह, योग, नक्षत्र के चलते दोनों दिन सभी कार्य शुभ फलदायी होंगे। धनतेरस के दोनों दिन शनिवार और रविवार को प्रदोष के साथ तेरस भी है। 23 अक्टूबर को सर्वार्थ सिद्धि और अमृत सिद्धि योग का संयोग भी रहेगा। 

ज्योतिषियों के अनुसार, 22 अक्टूबर को दोपहर करीब 1 बजे से उत्तरा फाल्गुनी नक्षत्र लग जाएगा। इस नक्षत्र के रहते सोना-चांदी समेत संपत्ति आदि की खरीदारी शुभ रहेगी। अहम बात ये भी है कि यह नक्षत्र स्थिर लक्ष्मी का कारक माना जाता है। खरीदारी के लिए धनतेरस के दोनों दिन श्रेष्ठ हैं। 22 अक्टूबर को त्रिपुष्कर योग भी है। यह योग दोपहर 12.59 से शाम 4.02 बजे तक रहेगा। इस योग में किए गए कार्य का तीन गुना फल मिलता है। यानी खरीदारी समेत अन्य कार्य तीन गुना फायदे वाले होंगे।

इस धनतेरस पर प्रदोष काल में ऐंद्र योग बन रहा है। यह सत्ताईस योग में प्रमुख है। इस योग में खरीदारी भी समृद्धि तथा दीर्घकालिक सूचक मानी जाती है। इस दिन शुक्र आदित्य योग भी बन रहा है। इसे समृद्धि, वैभवशाली रहन-सहन और शानो-शौकत का कारक बताया गया है। शुक्र आदित्य योग में साज-सज्जा की वस्तुएं स्वर्ण, रजत, ताम्र के आभूषण और इनसे बने यंत्र, बर्तन, कपड़ा, इलेक्ट्रॉनिक सामान, वाहन खरीदना शुभ होता है। वहीं नया निवेश, नई मशीनरी का आरंभ, नए उद्योग का आरंभ करना लाभदायक होता है।

dhanateras ka shubh muhoort kab hai? dhanateras kisakee pooja hotee hai? haan dhanateras kab hai? dhanateras poojan kitane baje ka muhoort hai? When is the auspicious time of Dhanteras,Who is worshiped on Dhanteras, when is Dhanteras,What time is Dhanteras Puja Muhurta?