MP NEWS- मध्यप्रदेश में मंकीपॉक्स वायरस, नागरिकों से सावधान रहने की अपील

संचालनालय स्वास्थ्य सेवाएं मध्यप्रदेश शासन द्वारा आम नागरिकों के नाम एक अपील जारी की गई है। इसमें नागरिकों से मंकीपॉक्स से सावधान रहने के लिए कहा गया है। बताया गया है कि मंकीपॉक्स एक वायरल संक्रमण है जो इंसानों से जानवरों में और जानवरों से इंसानों में फैलता है।

मंकीपॉक्स के लक्षण क्या हैं, कैसे फैलता है

रोगी को आम तौर पर बुखार, रैशेज और लिम्फ नोड्स में सूजन आती है। कुछ रोगियों में स्मॉलपॉक्स (चेचक) जैसे लक्षण भी दिखते हैं। यह बीमारी पशुओं से मनुष्य या मनुष्य से मनुष्य में फैलती है। कटी-फटी त्वचा, घाव, आंख, नाक या मुंह से भी वायरस शरीर में प्रवेश कर सकता है।

मंकीपॉक्स संक्रमण- क्वारंटाइन पीरियड, कब तक रहता है

मंकीपॉक्स बीमारी 7-14 दिनों की होती है। लक्षण 2-4 सप्ताह में समाप्त हो जाते है। संक्रमित व्यक्ति से 14 दिन के बाद संक्रमण नहीं फैलता है। संक्रमित व्यक्ति के चकत्तों से जब तक पपड़ी गिर न जाए तब तक संक्रमणमुक्त नहीं माना जा सकता। यानी इसका क्वॉरेंटाइन पीरियड 14 दिन है।

मंकीपॉक्स से बचने क्या सावधानी क्या रखें 

सभी संदिग्धों को अलग रखना चाहिए। चकत्तों, घावों पर त्वचा की एक नई परत बन जाने के बाद ही संक्रमित को अस्पताल से छुट्टी दी जानी चाहिए।