Amazing facts in Hindi- मध्य प्रदेश का एक हिस्सा राम राज्य में शामिल था

भारतीय धर्म ग्रंथों के अनुसार भगवान विष्णु ने त्रेता युग में राम के रूप में अवतार लिया था। पृथ्वी को राक्षसों से मुक्त कराने के बाद रामराज की स्थापना की थी। यह एक ऐसी शासन व्यवस्था थी जिसमें नागरिकों को स्वतंत्रता का अधिकार दिया गया था और शासन व्यवस्था नागरिकों के प्रति जिम्मेदार और जवाबदेह थी। 

भगवान श्रीराम का जन्म अयोध्या में हुआ था परंतु रावण वध करके लौटे राम कोशल (कोसल) नामक राज्य के राजा थे। इस राज्य की दो राजधानियां थी। पहली अयोध्या और दूसरी श्रावस्ती। कौशल राज्य प्राचीन भारत के 16 महाजनपदों में से एक था। इसका क्षेत्रफल वर्तमान में संपूर्ण उत्तर प्रदेश से लेकर पश्चिम में ओडिशा तक फैला हुआ था। भगवान राम के कौशल राज्य के नक्शे पर जमीन का एक टुकड़ा ऐसा भी आता है जो वर्तमान में मध्य प्रदेश में स्थित है। 

मध्य प्रदेश का बघेलखण्ड, भगवान राम के कौशल राज्य का हिस्सा था। भगवान राम ने जब वन की ओर प्रस्थान किया तब वह इसी भूमि पर थे। जहां से राज्य की सीमा समाप्त होती है और जंगल प्रारंभ होता था। यहां के जंगलों में नाथपंथी योगी तपस्या किया करते थे। यही कारण है कि बघेलखंड क्षेत्र में आम नागरिकों के बीच आज भी शैव, शाक्त और वैष्णव परंपरा स्पष्ट रूप से दिखाई देती है।