ज्योतिरादित्य सिंधिया- मध्यप्रदेश में मंत्री और BJP सांसद के बीच खुली जंग शुरू - MP NEWS

भोपाल
। मध्यप्रदेश में ज्योतिरादित्य सिंधिया के कारण गुना से भाजपा सांसद के पी यादव और पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया के बीच खुली जंग शुरू हो गई है। सांसद ने पत्रकारों को बुलाकर कहा कि 2020 में हमसे गलती हो गई थी। 

2020 में ज्योतिरादित्य सिंधिया भाजपा में शामिल हुए थे 

उल्लेखनीय है कि सन 2020 में ज्योतिरादित्य सिंधिया, अपने समर्थक विधायकों के साथ भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए थे। सिंधिया के दल बदल के कारण मध्यप्रदेश में सत्ता परिवर्तन हुआ। कमलनाथ की सरकार गिर गई थी और शिवराज सिंह चौहान फिर से सरकार बनाने में कामयाब हो गए थे। महेंद्र सिंह सिसौदिया उसी टीम के विधायक हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया की शर्तों के कारण मध्यप्रदेश में कैबिनेट मंत्री बनाए गए हैं। 

दोनों नेता एक ही पार्टी के तो फिर लड़ाई क्यों हो रही है 

सांसद केपी यादव और मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया दोनों भारतीय जनता पार्टी के नेता हैं। दोनों कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल हुए हैं और मजेदार बात यह है कि दोनों की राजनीतिक रोटियां ज्योतिरादित्य सिंधिया के चूल्हे पर पकती हैं। फिर भी दोनों लड़ रहे हैं क्योंकि, गुना लोकसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी का सांसद है फिर भी पंचायत मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया हर कार्यक्रम में ज्योतिरादित्य सिंधिया से कहते हैं कि, महाराज गुना की जनता से भूल हो गई थी, गुना की जनता को माफ करें। सांसद केपी यादव का सवाल है कि 2020 में भारतीय जनता पार्टी को वोट देकर गुना की जनता ने कौनसी भूल की थी।

कहीं महेंद्र सिंह का जाल तो नहीं 

2020 में केपी यादव ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को 100000 वोटों से हराया था। यह अंतर कम नहीं होता। अगला लोकसभा चुनाव आने वाला है। ज्योतिरादित्य सिंधिया को गुना सीट से चुनाव लड़ना है लेकिन केपी यादव का दावा मजबूत है। कहीं ऐसा तो नहीं कि मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया कोई जाल बुन रहे हैं। जिस में फंसकर केपी यादव कोई ऐसी गलती करें जिसके आधार पर उनका टिकट कटवाया जा सके।