मीना-मीणा विवाद एक बार फिर चर्चा में- संसद में भारत सरकार ने स्थिति स्पष्ट की- India National News

नई दिल्ली।
राजस्थान में मीना और मीणा विवाद एक बार फिर सुर्खियों में आ गया है। संसद सदस्य डॉ किरोड़ी लाल मीणा ने राज्यसभा में अतारांकित प्रश्न पूछा था। जिसके जवाब में जनजातीय कार्य मंत्रालय के राज्य मंत्री श्री विश्वेश्वर टुडू ने सारी स्थिति को एक बार फिर स्पष्ट किया है। 

मीना और मीणा जातियों में क्या अंतर है- राजस्थान जनरल नॉलेज

भारत सरकार के जनजातीय कार्य मंत्रालय की ओर से संसद में स्थिति स्पष्ट करते हुए राज्य मंत्री श्री विश्वेश्वर टुडू ने अतारांकित प्रश्न संख्या 1734 का उत्तर दिनांक 16 मार्च 2022 को दिया। उन्होंने बताया कि अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति आदेश (संशोधन) अधिनियम 1976 (1976 का अधिनियम संख्या 108) के तहत भारत के संविधान के अनुच्छेद 342 के अंतर्गत राजस्थान राज्य की अनुसूचित जनजाति सूची में MINA समुदाय को क्रम संख्या 9:00 पर सूचीबद्ध किया गया है। इस आदेश के हिंदी संस्करण में MINA का अनुवाद मीना के रूप में किया गया था। तथापि मीणा (MEENA) समुदाय राजस्थान की अनुसूचित जनजाति सूची में शामिल नहीं है। 

Rajasthan reservation current affairs

राजस्थान राज्य सरकार ने दिनांक 23 अक्टूबर 2020 को (ई-मेल) पत्र दिनांक 5 अक्टूबर 2020 के माध्यम से राजस्थान के मीना (MINA)/ मीणा (MEENA) समुदाय की अनुसूचित जनजाति (ST) स्थिति पर स्पष्टीकरण मांगा। राज्य सरकार को सूचित किया गया कि यदि राज्य सरकार का यह विचार है कि राजस्थान में अनुसूचित जनजातियों की सूची में संशोधन की आवश्यकता है, तो उनके द्वारा मौजूद कार्यप्राविधियों के अनुसार, उनके मानव जाति विज्ञान अध्ययन सहित एक विस्तृत प्रस्ताव भेजा जाना आवश्यक है। दिनांक 16 मार्च 2022 तक राजस्थान सरकार की तरफ से इस दिशा में कोई नई कार्यवाही नहीं हुई। उच्च शिक्षा, सरकारी और प्राइवेट नौकरी एवं करियर से जुड़ी खबरों और अपडेट के लिए कृपया MP Career News पर क्लिक करें.