MP TET VARG 3 Topic- आईवन पावलव का शास्त्रीय अनुबंधन का सिद्धांत

IVAN PAVLOV THEORY OF CLASSICAL CONDITIONING

आपने अक्सर महसूस किया होगा कि किसी पसंदीदा भोजन की खुशबू आते ही हमारे मुंह में  पानी (लार ,Saliva) आ जाता है जो कि एक अनैच्छिक क्रिया (Reflex Action) है। जिस पर हम कंट्रोल नहीं कर सकते और यह पूरी तरह से प्राकृतिक है परंतु इसी प्रकार की क्रिया को किसी बाहरी उद्दीपक (Artificial Stimulus) द्वारा आर्टिफिशयली करवाया जाना क्लासिकल कंडीशनिंग कहलाता है। 

फिजिक्स के सिद्धांत के अनुसार स्विच ऑन करने पर लाइट या फेन का चालू हो जाना। 
केमिस्ट्री  में देखें तो हल्दी पर साबुन लगते ही, हल्दी का लाल हो जाना। 
अलार्म बजने पर नींद का खुल जाना। 
लंच की घंटी बजने पर बच्चों को भूख लगना। 
किसी एडवर्टाइजमेंट को देखने पर उस चीज को खरीदने की इच्छा होना।
यह ऑफर लेंगे तो ज्यादा फायदा मिलेगा, बिल या फीस नहीं भरेंगे तो ये नुकसान होगा और  आज के समय में websites, News portals, You Tube पर बेल आइकॉन पर क्लिक करेंगे  नोटिफिकेशन प्रेस करेंगे तो आगे आने सभी वीडियोस के नोटिफिकेशन मिलते रहेंगे। यह सब क्लासिकल कंडीशनिंग ही है। 

इवान पावलव (Ivan Pavlov) कौन थे

इवान पावलव जो की एक Russian physiologists थे इन्हें 1904 में पाचन (Digestion, डाइजेशन) के काम के लिए नोबेल प्राइज भी मिला। उन्होंने अपने प्रयोग तो पाचन पर किए परंतु अचानक ही उनका यह काम एजुकेशनल साइकोलॉजी की लर्निंग थ्योरी के लिए काफी मददगार साबित हुआ। इवान पावलव को पायनियर इन कंडीशनिंग भी कहा जाता है। 

Conditioning का सामान्य रूप से अर्थ है कोई आदत डलवाना। इन्होंने एक Dog पर अपने प्रयोग किए। जिसमें उन्होंने बताया कि किस तरह से जब डॉग के सामने खाना रखा जाता है तो वह कोई रिएक्शन नहीं करता, परंतु जब उसे घंटी बजाने की आदत डाल दी जाती है तो घंटी बजते ही उसके मुंह में से लार आने लगती है। 

उन्होंने अपनी थ्योरी में उद्दीपक (Stimulus) और अनुक्रिया (Response) दो चीजों पर काम किया। इस कारण इस थ्योरी को Respond Conditioning / Conditioned Reflex / Conditioned Response / Pavlovian Conditioning आदि नामों से जाना जाता है। इस थ्योरी से जुड़े कुछ अन्य रोचक तथ्यों की चर्चा हम कल के आर्टिकल में करेंगे।
मध्य प्रदेश प्राथमिक शिक्षक पात्रता परीक्षा के इंपोर्टेंट नोट्स के लिए कृपया mp tet varg 3 notes in hindi पर क्लिक करें.


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here