CM Sir, कर्मचारियों की पदोन्नति की नीति बदल दीजिए, प्रदेश की सूरत बदल जाएगी- Khula Khat

आज की वर्तमान समय मे शासकीय कार्यालयों में कर्मचारी वर्ग की स्थिति ठीक नहीं हैं। जो माहौल बन गया है वह कर्मचारियों की कार्यशैली को प्रभावित करता है। एक बात समझ में नहीं आती कि जब सभी कर्मचारियों के लिये दण्ड के रूल्स एक समान प्रतिरोपित किये जाते हैं तो पदोन्नति के मापदंड पृथक-पृथक क्यों। 

आईएएस और आईपीएस एवं उच्च शिक्षा विभाग और स्कूल शिक्षा विभागों में पदोन्नति नियमो में विभिन्नता हैं और अतिरिक्त योग्ताएं रखने पर स्कूल और उच्चशिक्षा विभाग में अतिरिक्त वेतनवृद्धियां दे दी जाती हैं। जबकि दूसरे कई विभागों में ऐसा कोई विकल्प नहीं है। ऐसी असमानता तृतीय और चतुर्थ वर्ग के कर्मचारियों के साथ क्यों। जब की सभी वर्ग के कर्मचारी राज्य के ही आधीन कार्य करते हैं। 

मध्यप्रदेश शासन के लिए मेरा सुझाव है कि वो कर्मचारियों को प्राइवेट सेक्टर की भाँति योग्यता के आधार पर सभी वर्ग के कर्मचारियों को समान पदोन्नति हेतु नियम बना कर लागू करे। हर वर्ग के लिए एक समान नियम लागू हो। क्रमोन्नति किसी भी कर्मचारी का सेवाकाल के आधार पर अधिकार हो सकता है परंतु पदोन्नति का आधार तो योग्य के अलावा कुछ और होना ही नहीं चाहिए। ✒ राजकुमार अहिरवार

इससे पूर्व प्रकाशित हुए खुले खत पढ़ने के लिए कृपया Khula Khat पर क्लिक करें. खुला खत एक ओपन प्लेटफार्म है। यहां मध्य प्रदेश के सभी जागरूक नागरिक सरकारी नीतियों की समीक्षा करते हैं। सुझाव देते हैं एवं समस्याओं की जानकारी देते हैं। यदि आपके पास भी है कुछ ऐसा जो मध्य प्रदेश के हित में हो, तो कृपया लिख भेजिए हमारा ई-पता है:- editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here