GWALIOR NEWS- 11वीं की छात्रा किले से कूदी, 50 फीट नीचे झाड़ियों में मिली

ग्वालियर
। किले के ऊपर से आत्महत्या करने के लिए कूदी एक लड़की 50 फीट नीचे झाड़ियों में जाकर अटक गई। वहां मौजूद एक युवक ने अपने दोस्त के साथ पहुंचकर उसे बचा लिया। करीब 1 घंटे तक लड़की को बचाने की कोशिश की जाती रही। इस दौरान पुलिस और फायर बिग्रेड भी आ गई थी। लड़की के स्कूल बैग से एक सुसाइड नोट भी मिला है। जिसमें उसने अपनी जिंदगी से परेशान होने की बात लिखी है।

ग्वालियर किले में है सुसाइड प्वाइंट, टूटी दीवार नहीं जोड़ी गई

किला स्थित स्मार्ट सिटी की पार्किंग के पास सुसाइड पॉइंट है। यहां किले की दीवार टूटी हुई है। इस दीवार को जोड़ा नहीं गया लेकिन आत्महत्या के कई मामले आने के बाद यहां जाली लगा दी गई। छात्रा की उम्र लगभग 17 साल बताई गई है। उसने स्कूल बैग रखा और किले की दीवार पर चढ़कर कूद गई। लेकिन दीवार के नीचे झाड़ियां हैं। लगभग 50 फीट गहराई में झाड़ियों में जाकर लड़की अटक गई। 

पास ही एक दुकान पर मौजूद रित्विक नाम के लड़का उसे बचाने दौड़ा। पहले वह कोटेश्वर की तरफ से गया, लेकिन रास्ता नहीं मिला। इसके बाद वह वापस ऊपर आया। वहीं, दूसरे पॉइंट से नीचे उतरा। नीचे पहुंचने के बाद उसे छात्रा नहीं दिख रही थी। इसी समय तक वहां पुलिस और रेस्क्यू टीम पहुंच गई। जब लड़की का बैग देखा, तो उसमें सुसाइड नोट के साथ छात्रा का नाम मिला। उसका नाम लेकर आवाज लगाना शुरू की, तो झाड़ियों से आवाज आई। इसके बाद रस्सी डालकर बाहर निकाला गया। 

पुलिस ने उसे एम्बुलेंस के माध्यम से जेएएच के ट्राॅमा सेंटर में भर्ती कराया है। कूदने वाली लड़की की पहचान हो गई है। वह 11वीं की छात्रा है। पुलिस यह पता लगा रही है कि वह कहां की रहने वाली है। उसे ट्रॉमा में भर्ती किया है।

सुसाइड नोट में यह लिखा
बैग से नोटबुक पर सुसाइड नोट भी मिला है। इसमें लिखा है" कि I AM SORRY, मुझे माफ कर देना। मुझे अब जीने का मन नहीं करता। मैं खुद से परेशान हूं। संजय भैया आप प्लीज पापा का ध्यान रखना। मैं अपनी फैमिली की जिम्मेदारी आप को दे रही हूं। फिर लिखती है I AM SORRY, आखिर में लिखा है कि जिस किसी को भी यह रजिस्टर मिले। वह इन नंबर पर कॉल करना' अब पुलिस इन नंबर पर संपर्क कर सूचना दे रही है।

रेस्क्यू करने वाले रित्विक ने बताया कि जब छात्रा गिरी, तो मैं पास ही दुकान पर मैगी खा रहा था। इसके बाद उसे बचाने का प्रयास किया। पहले नीचे से उसे बचाने के लिए गया, लेकिन वहां से रास्ता नहीं मिला। इसके बाद वापस उसी पॉइंट पर आया और नीचे उतरा। काफी देर तक उसका पता नहीं चल रहा था। जब ऊपर से किसी ने आवाज देकर उसका नाम संजना बताया। जब उसका नाम पुकारा, तो उसकी आवाज आई और स्पॉट मिला जहां वह झाड़ियों में फंसी थी। इसके बाद उसे रेस्क्यू किया गया। ग्वालियर की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया GWALIOR NEWS पर क्लिक करें.


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here