पांडवों में नकुल और सहदेव की क्या उपयोगिता थी- GK in Hindi

महाराजा पांडु के पांच पुत्रों में से युधिष्ठिर धर्मराज, अर्जुन धनुर्धारी और भीम गदाधारी योद्धा थे। तीनों का वर्णन प्रमुख रूप से मिलता है। पांचों भाइयों में अर्जुन और भीम सर्वाधिक लोकप्रिय जबकि युधिष्ठिर सर्वाधिक सम्मानजनक प्रतिष्ठित किए गए हैं। सवाल यह है कि नकुल और सहदेव की क्या उपयोगिता थी। इन दोनों भाइयों की क्या विशेषता थी। आइए पता लगाते हैं:-

पांडवों के चौथे भाई नकुल की विशेष बातें

बहुत कम लोग जानते हैं कि नकुल और सहदेव दोनों जुड़वा भाई थे। कहते हैं दोनों का जन्म देवताओं के चिकित्सक अश्विन के वरदान स्वरुप हुआ था। नकुल बहुत ही रूपवान एवं प्रेम युक्त व्यक्ति थे। उनका रूप ऐसा था कि कोई भी मोहित हो जाता था। नकुल अपने कालखंड के सबसे सफल पशु शल्य चिकित्सक थे। घोड़ों का प्रशिक्षण एवं चिकित्सा उनकी स्पेशलिटी थी। तलवार उनका प्रमुख शस्त्र थी। 

पांडवों के पांचवें भाई सहदेव की विशेषताएं 

सहदेव को पांडवों में सबसे विद्वान माना गया है। नकुल विज्ञान तो सहदेव ज्ञान का भंडार थे। दोनों माता माद्री के पुत्र हैं। सहदेव को त्रिकालदर्शी भी कहा जाता था। वह अपने युग के सर्वश्रेष्ठ ज्योतिष विद्वान थे। उनकी विद्वता इतनी प्रसिद्ध थी कि कौरवों के जेष्ठ दुर्योधन किसी भी कार्य को करने से पहले सहदेव के पास उसका भविष्य जानने के लिए जाते थे। शास्त्रों में उल्लेख है कि युद्ध के लिए तत्पर होने से पहले भी दुर्योधन, सहदेव से परामर्श करने गए थे। सहदेव परशु अस्त्र के निपुण योद्धा थे।

यहां उल्लेख करना आवश्यक है कि कर्ण भगवान सूर्य के मंत्र से प्रकट हुए कुंती पुत्र थे, पांडू पुत्र नहीं थे इसलिए उन्हें पांडव नहीं कहा जाता। माता कुंती के 4 पुत्र और माता माद्री के 2 पुत्र थे। नकुल और सहदेव माता माद्री के पुत्र हैं। (इसी प्रकार की मजेदार जानकारियों के लिए जनरल नॉलेज पर क्लिक करें) Notice: this is the copyright protected post. do not try to copy of this article (general knowledge in hindi, gk questions, gk questions in hindi, gk in hindi,  general knowledge questions with answers, gk questions for kids, ) :- यदि आपके पास भी हैं कोई मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here