MP NEWS- उद्योगपति की जेल में मौत, अस्पताल से स्वस्थ बताकर डिस्चार्ज किया गया था

होशंगाबाद
। मध्य प्रदेश की टारसी तहसील के रहने वाले पश्चात उद्योगपति एवं लिकर फैक्ट्री के मालिक चन्नी रंधावा की होशंगाबाद सेंट्रल जेल में हार्ट अटैक के कारण मृत्यु हो गई। जब उन्हें गिरफ्तार किया गया तब उनकी तबीयत खराब थी। कोर्ट के आदेश पर 9 दिन तक अस्पताल में भर्ती रहा गया। हॉस्पिटल से उन्हें स्वस्थ बता कर डिस्चार्ज कर दिया गया था लेकिन जेल में 24 घंटे भी नहीं बीत पाए और उनकी मृत्यु हो गई। इस मामले में श्री रंधावा को डिस्चार्ज करने वाला डॉक्टर जांच की जद में आ गया है। प्रकरण की मजिस्ट्रियल जांच होगी।

53 साल की चन्नी रंधावा की इंडस्ट्रियल एरिया में सिमरन इंडस्ट्रीज के नाम से फैक्ट्री थी। 2012 में चन्नी रंधावा ने अपने कारोबारी मित्र एवं रेलवे में खानपान ठेकेदार सुरेश गोयल की फर्म गोयल एंड गोयल से कारोबार के लिए रुपए उधार लिए थे। इसके बदले में 2 करोड़ 94 लाख 17 हजार 500 रु. का चेक दिया था। जब श्री रंधावा ने पैसे नहीं लौटाए और सुरेश गोयल ने उनके द्वारा दिया गया चेक बैंक में प्रजेंट किया तो इलाहाबाद बैंक द्वारा बताया गया कि खाता बंद हो गया है। 

इसके बाद सुरेश गोयल ने इटारसी कोर्ट में श्री रंधावा के खिलाफ परिवाद दाखिल किया। न्यायाधीश स्वाति जायसवाल ने आरोपी रंधावा को चेक बाउंस पर धारा 138 नेगोशियेबल इंस्ट्रूमेंट एक्ट में दोषी पाया गया। कोर्ट ने आरोपी को एक साल का कारावास एवं प्रतिकर राशि सहित 5 करोड़ रुपए से दंडित किया। 

पुलिस रिकॉर्ड में व लंबे समय से फरार चल रहे थे। 18 अक्टूबर को भोपाल पुलिस ने उन्हें मिलन होटल से हिरासत में लेकर होशंगाबाद पुलिस को सूचित किया था। 19 अक्टूबर को जब उन्हें कोर्ट में पेश किया गया, उनकी तबीयत खराब थी। उनके साथ उनका डॉक्टर भी आया था। डॉक्टर ने कोर्ट को श्री रंधावा के स्वास्थ्य के बारे में जानकारी दी थी। कोर्ट ने जेलर को आदेशित किया था कि वह श्री रंधावा के इलाज का प्रबंध करें। जेल प्रबंधन ने श्री रंधावा को जिला अस्पताल में भर्ती कर दिया था। 

बुधवार को डॉक्टर ने श्री रंधावा को पूरी तरह से स्वस्थ बता कर डिस्चार्ज कर दिया। बुधवार की रात श्री रंधावा को जेल में बंद किया गया और गुरुवार की सुबह उनकी डेड बॉडी पड़ी हुई मिली। मृत्यु की पुष्टि करते समय डॉक्टर ने बताया कि हार्ट अटैक आया था। मध्य प्रदेश की महत्वपूर्ण खबरों के लिए कृपया MP NEWS पर क्लिक करें


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here