जब बटन, हुक और जिप बन चुके थे तो फिर वेल्क्रो का आविष्कार क्यों किया- GK in Hindi

What is Velcro, who invented it and when

स्कूल बैग, खिलौने, जूते और ऐसी कई सारी चीजों को लॉक करने के लिए बटन और हुक का उपयोग मुगल काल से किया जा रहा है। सुविधा और मजबूत पकड़ के लिए जिप (चैन) भी बना दी गई थी। इसके बावजूद वेल्क्रो का आविष्कार किया गया। यह आसानी से चिपक जाता है और मजबूत पकड़ देता है। इन्हें हुक एंड लूप फास्टनर या आम बोल चाल की भाषा में चर-चर भी कहा जाता है। आइए पढ़ते हैं कि वेल्क्रो की खोज किसने और कब की और सबसे बड़ी बात कि इसकी जरूरत क्या थी।

मॉर्निंग वॉक से लौटने के बाद दिमाग में पहला सवाल आया

वेलक्रो की खोज की कहानी 1948 में Switerland की है और इसकी खोज का श्रेय जॉर्ज डी मेसट्रल (George De Mestral) को जाता है परंतु इसकी खोज करने की कहानी बड़ी ही रोचक है और एक प्राकृतिक घटना पर आधारित है। एक दिन जब जॉर्ज मेसट्रल अपने Dog के साथ Walk करके लौटे तो उन्होंने पाया कि उनके डॉग और उनके खुद के कोट के ऊपर कुछ बीज जैसा चिपका है। 

लोग जिसे झंझट समझते हैं वही अविष्कार का कारण बना 

ज्यादातर लोग ऐसी चीजों को झंझट समझ कर निकाल फेंकते हैं और अपने काम में जुट जाते हैं लेकिन George De Mestral ने ऐसा नहीं किया। फटाफट से उन्होंने अपना  माइक्रोस्कोप निकाला और बीजों को बारीकी से देखा तो पता लगा की बीजों में छोटे-छोटे हुक हैं। इन हुकों की मदद से बीज, कपड़ों के रेशों पर अटक गए थे। बस यही देखकर George Mastral को वेल्क्रो बनाने का आइडिया आ गया। कुल मिलाकर इसकी कोई आवश्यकता नहीं थी परंतु एक घटना के कारण इसका आविष्कार हो गया और आज दुनिया भर में वेल्क्रो का उपयोग किया जाता है।

MORAL OF THE STORY-  सही टाइम पर दिमाग की बत्ती जलना चाहिए

मोरल ऑफ द स्टोरी यह है कि जिंदगी में कभी भी कुछ नया देखने को मिले तो उसे नजरअंदाज नहीं करना चाहिए। क्या पता अपन भी कुछ अविष्कार कर डालें। (इसी प्रकार की मजेदार जानकारियों के लिए जनरल नॉलेज पर क्लिक करें) Notice: this is the copyright protected post. do not try to copy of this article (general knowledge in hindi, gk questions, gk questions in hindi, gk in hindi,  general knowledge questions with answers, gk questions for kids, ) :- यदि आपके पास भी हैं कोई मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here