अमित शाह के कार्यक्रम में मंत्री विजय शाह का हाई वोल्टेज ड्रामा - JABALPUR MP NEWS

जबलपुर
। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के कार्यक्रम से पहले मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह चौहान सरकार के वन मंत्री विजय शाह का हाई वोल्टेज ड्रामा सुर्खियों में आ गया। ' आदिवासियों के कार्यक्रम में- आदिवासी मंत्री का अपमान' शीर्षक के साथ वीडियो वायरल हो रहा है।

जबलपुर में मंत्री विजय शाह का अपमान- घटना का विवरण 

गोंडवाना साम्राज्य के अमर शहीद राजा शंकर शाह रघुनाथ शाह के 164 वें बलिदान दिवस के अवसर पर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह उनके शहीद स्थल पर आने वाले थे। प्रोटोकॉल के तहत मौजूद पुलिस बल केवल उन्हीं व्यक्तियों को प्रवेश दे रहा था जिन की सूची शासन की ओर से उपलब्ध कराई गई थी। वन मंत्री विजय शाह का नाम अतिथियों की सूची में नहीं था। 

वन मंत्री ने प्रोटोकॉल तोड़कर प्रवेश करने की कोशिश की

यह जानकारी मिलने के बावजूद शासन स्तर पर बात करने के बजाए मंत्री विजय शाह ने जबरदस्ती कार्यक्रम स्थल पर जाने का प्रयास किया। ऐसी स्थिति में उन्हें आगे बढ़ने से रोकने के लिए मौजूद पुलिस बल उनके सामने एक लाइन में खड़ा हो गया। इसके बाद वन मंत्री विजय शाह ने विपक्ष के नेता की तरह प्रतिक्रिया करना शुरू कर दिया। 

वन मंत्री ने विपक्षी पार्टी के नेता की तरह प्रतिक्रिया दी

उन्होंने कहा कि हमें हमारे पूर्वजों का पूजन करने से रोका जा रहा है। ऐसी व्यवस्था को दूर से ही प्रणाम। फिर मौजूद पुलिस अधिकारियों की तरफ मुखातिब होते हुए सबसे कहा आपको भी प्रणाम, और हमारे पूर्वजों को भी दूर से ही प्रणाम। फिर उन्होंने अपनी कार मंगवाई और मौजूद पुलिस अधिकारियों के कई बार विनम्र निवेदन करने के बावजूद कार में बैठ कर चले गए।

आदिवासियों के कार्यक्रम में आदिवासी मंत्री का अपमान 

इस घटनाक्रम का वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। कांग्रेस पार्टी के लोग जनता के सामने इस वीडियो को पेश करते हुए बता रहे हैं कि किस प्रकार भारतीय जनता पार्टी में आदिवासियों के हितों का ढोंग किया जाता है, जबकि पार्टी के भीतर आदिवासी नेताओं को कोई महत्व नहीं दिया जाता। 

वन मंत्री विजय शाह को क्या करना चाहिए था 

श्री विजय शाह मध्यप्रदेश में सरकार का अंग है। कैबिनेट मंत्री हैं। शासकीय सेवाओं का उपयोग करते हैं, शासन के वेतन एवं भत्तों का लाभ उठाते हैं। आदर्श आचरण संहिता के तहत व्यवस्था की किसी भी गलती पर वह इस प्रकार की राजनीति नहीं कर सकते। कोई भी शासकीय सेवक नहीं कर सकता। यदि किसी सूची में उनका नाम नहीं था तो कैबिनेट मंत्री होने के नाते उन्हें तत्काल कार्यपालक मजिस्ट्रेट को बुलाना चाहिए था। बाकी सब कुछ जिला प्रशासन अपने आप कर देता। 

पहली बार नहीं किया.... 

कैबिनेट मंत्री विजय शाह ने इस प्रकार का हाई वोल्टेज ड्रामा पहली बार नहीं किया। राज्यपाल श्री मंगू भाई पटेल के शपथ ग्रहण समारोह के दौरान भी मंत्री विजय शाह ने इसी प्रकार से हाई वोल्टेज ड्रामा करके सुर्खियां बटोरी थीं। उस समय भी राजभवन की सिक्योरिटी से उनकी झड़प हुई थी। कैबिनेट मंत्रियों की बैठक में भी यशोधरा राजे सिंधिया के साथ मंत्री विजय शाह की अनबन हो चुकी है। उनके कुर्सी पर बैठने के तरीके से बैठक में मौजूद महिला मंत्री असहज हो गईं थी।
---

18 सितम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP NEWS- चयनित शिक्षकों की नियुक्ति के लिए हलचल तेज
MP BOARD- त्रैमासिक परीक्षा का संशोधित टाइम टेबल जारी
MP BOARD NEWS- त्रैमासिक परीक्षा का सिलेबस जारी, यहां पढ़िए
MP CPCT स्कोरकार्ड की वैधता वाला आदेश जारी, यहां पढ़िए
MP NEWS- पुलिस, शिक्षक, पटवारी भर्ती प्रक्रिया प्रारंभ की जाएगी: CM शिवराज सिंह
MP BOARD NEWS- लो सिलेबस में भी संशोधन, त्रैमासिक परीक्षा के लिए, यहां पढ़िए
EMPLOYEE NEWS- मात्र 1 साल पुराने कर्मचारियों को भी ग्रेच्युटी मिलेगी
JABALPUR में POST OFFICE एजेन्ट चयन हेतु इंटरव्यू की सूचना
BHOPAL NEWS- शासकीय उचित मूल्य दुकान के लिए आवेदन बुलाए
न्यूमोनिया क्या है, कैसे फैलता है, लक्षण एवं उपाय - What Is Pnemonia, How Does It Spreads
MP NEWS- 7.50 किलो की देव प्रतिमा पानी में नहीं डूबी, तैरती रही

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiशिवलिंग पर जल क्यों चढ़ाते हैं, कोई वैज्ञानिक कारण है या बस परंपरा
GK in Hindiशेरों के शिकार की परंपरा क्यों बनाई, उसका तो मांस भी नहीं खाया जाता
GK in Hindiगेहूं की रोटी में हवा कैसे भर जाती है, ज्वार और मक्का की रोटी में क्यों नहीं भरती
GK in Hindiजब अमेरिका 110V बिजली से जगमगाता है तो भारत में 220V बिजली सप्लाई क्यों की जाती है
GK in Hindiदुनिया की पहली डामर रोड कहां और कब बनी थी
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here