MP मेडिकल यूनिवर्सिटी घोटाला- कुलपति ने इस्तीफा दिया, मंत्री और कमिश्नर ने दुर्व्यवहार किया था

भोपाल
। Madhya Pradesh Medical Science University, Jabalpur के कुलपति डॉ टीएन दुबे ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। बताया जा रहा है कि उनके साथ चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास कैलाश सारंग और कमिश्नर निशांत वरवड़े ने दुर्व्यवहार किया था। डॉक्टर दुबे ने बताया कि वह 4 दिन पहले इस्तीफा देना चाहते थे लेकिन राजभवन के दरवाजे से लौट गए थे। वही इस्तीफा आज राज्यपाल महोदय मंगूभाई छगनभाई पटेल को सौंपा है।

परीक्षा घोटाले के दोषियों पर FIR नहीं हुई, कुलपति को इस्तीफा देना पड़ा

परीक्षा घोटाला प्रमाणित हो जाने के बावजूद दोषियों के विरुद्ध कार्यवाही ना होने के बाद न्यूरोलॉजिस्ट डॉ. टीएन दुबे ने इस्तीफा दिया है। हालांकि उन्होंने इस मामले पर कुछ नहीं रहा। इस्तीफा देने के बाद बोले ‘मेरा पहला धर्म मरीजों की सेवा करना है, लेकिन पिछले डेढ़ साल से मैं मरीजों को वक्त नहीं दे पा रहा हूं। मेरा परिवार भोपाल में रहता है। व्यस्तता के चलते मैं उन्हें भी समय नहीं दे पा रहा था। पिछले चार दिनों से इस्तीफा देने को लेकर मानसिक द्वंद्व चल रहा था। 10 अगस्त को ही मैं इस्तीफा देने राजभवन के लिए निकला था, लेकिन आखिरी समय में गेट से लौट आया था। उस दिन का लिखा हुआ इस्तीफा अब दिया है।’

ढाई महीने से यूनिवर्सिटी में चल रहा बवाल

मेडिकल यूनिवर्सिटी में पिछले ढाई महीने से सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है। पहले परीक्षा परिणामों को लेकर धांधली की बात सामने आई। परीक्षा कराने वाली माइंड लॉजिस्टिक इंफ्राटेक कंपनी, एग्जाम कंट्रोलर और एक लिपिक के बीच पर्सनल आईडी पर छात्रों के फेल-पास के नंबर भेजे जाने का मामले सामने आया था। इसके बाद इस कंपनी को टर्मिनेट कर दिया गया। एग्जाम कंट्रोलर समेत कई लोगों की प्रतिनियुक्ति समाप्त कर दी गई। इसके बावजूद वे सभी स्टे पर वापस आ चुके हैं। पिछले कुछ दिनों से यूनिवर्सिटी की परीक्षा की डेट घोषित होने की बावजूद टाल रहे हैं। इसे लेकर छात्र लगातार घेराव व प्रदर्शन कर रहे हैं। यूनिवर्सिटी की व्यवस्था अराजक हो चुकी थी। कुलपति पर आरोप लगते रहे हैं कि वे ज्यादातर समय भोपाल में देते हैं। जबलपुर आने पर एक डेंटल कॉलेज के निजी गेस्ट हाउस में रुकते हैं।

CME ने कुलपति को सबके सामने जलील किया था

सूत्रों की मानें तो मेडिकल परीक्षा और परिणामों में धांधली उजागर होने के बाद चिकित्सा शिक्षा आयुक्त निशांत बरवड़े शुक्रवार को पहली बार यूनिवर्सिटी पहुंचे थे। यहां उन्होंने बैठक में यूनिवर्सिटी के कारनामों पर नाराजगी जताई थी। अकेडमिक कैलेंडर का पालन नहीं करा पाने को लेकर कुलपति और कुलसचिव प्रभात बुधौलिया को फटकार भी लगाई थी। इस्तीफे के पीछे ये भी एक बड़ी वजह बताई जा रही है। इसी के बाद डॉक्टर दुबे ने शुक्रवार देर रात ही अपना इस्तीफा राज्यपाल को भेज दिया था।

MPMSU परीक्षा घोटाला क्या है 

यूनिवर्सिटी के कुछ अधिकारियों और ऑनलाइन परीक्षा का प्रबंधन करने वाली कंपनी माइंड लॉजिस्टिक के मैनेजमेंट ने मिलकर एक राकेट बना लिया था। यूनिवर्सिटी में योग्यता के आधार पर परीक्षा परिणाम तैयार नहीं किए जाते थे बल्कि रिश्वत के आधार पर किए जाते थे। कई अनुपस्थित छात्रों को उपस्थित बताकर पास किया गया। विद्यार्थियों को हतोत्साहित करने के लिए उनके नंबर कम किए गए। जबकि रिश्वत मिल जाने के बाद नंबर बढ़ा दिए गए। कुल मिलाकर पैसा फेंको तमाशा देखो का खेल चल रहा था। 

एक ईमानदार अधिकारी के हाथ में कुछ दिनों के लिए प्रभार आ जाने के बाद मामले का खुलासा हो गया। तभी से मामले को दबाव के लिए यूनिवर्सिटी के कुलपति सहित कई अधिकारियों पर प्रेशर क्रिएट किया जा रहा था।

14 अगस्त को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP COLLEGE ADMISSION- शिक्षा विभाग के कॉलेजों में BEd के प्रवेश का कार्यक्रम जारी
MP NEWS- सीएम राइज स्कूलों की प्लानिंग में शामिल होने का आमंत्रण
GWALIOR NEWS- तिरंगा लगा रहे 3 कर्मचारी हादसे का शिकार, मौत
JYOTIRADITYA SCINDIA OBC- ज्योतिरादित्य सिंधिया को ओबीसी नेता के तौर पर प्रतिष्ठित करने की यात्रा
EMPLOYEE NEWS- कर्मचारी को टाइपिंग परीक्षा पास करते ही इंक्रीमेंट दिया जाए: हाईकोर्ट का आदेश
INDORE NEWS- विधायक मेंदोला जी ने कैमरा देखते ही मुंह छुपा लिया
BHOPAL NEWS- अब तो रेडियो वाले भी सड़कों का मजाक उड़ाने लगे
यदि पड़ोसी ने नाली बंद कर दी तो उचित कार्रवाई कौन करेगा नगरपालिका या SDM - CrPC Section 147
भारतीय विमानों पर VT क्यों लिखा होता है, इसे हटाने ज्योतिरादित्य सिंधिया पर दबाव क्यों बनाया जा रहा है, पढ़िए
Hindi News- भारत में प्रीपेड बिजली मीटर लगाने की प्रक्रिया शुरू
MP EMPLOYEE NEWS- असिस्टेंट प्रोफेसर के टर्मिनेशन ऑर्डर पर हाई कोर्ट का स्टे

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiकार का साइलेंसर पीछे, ट्रक का साइड में और ट्रैक्टर का सामने क्यों होता है
GK in Hindiअंग्रेजी के अक्षरों में i और j के ऊपर बिंदी क्यों लगाई जाती है
GK in Hindiमाचिस की तीली किस लकड़ी से बनती है, माचिस का आविष्कार किसने और कब किया 
GK in Hindiदुबई के सभी शेख अमीर क्यों होते हैं, कोई कंगाल क्यों नहीं होता
GK in Hindi- वह कौन सी संख्या है जिसे रोमन में नहीं लिखा जा सकता
GK in Hindiरानियों के रेशमी वस्त्र किससे धुलते थे, वाशिंग पाउडर तो था नहीं
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com