JABALPUR NEWS- लोकल पुलिस का इस्तेमाल कर, ASP के नाम पर ठगी

जबलपुर
। बड़ी वारदात का खुलासा हुआ है। राजस्थान में बैठे एक व्यक्ति ने जबलपुर की लोकल पुलिस का इस्तेमाल करके पेट्रोल पंप संचालक से ₹49000 की ठगी कर डाली। इस मामले में ठगी करने के तरीके ने पुलिस की चिंताएं बढ़ा दी है। वारदात को अंजाम देने वाला खुद को एडिशनल एसपी बता रहा था।

ठगी की वारदात में लोकल पुलिस का इस्तेमाल किया

पनागर पुलिस के मुताबिक बुधवार को थाने के लैंडलाइन पर कॉल आया। कॉल प्रधान आरक्षक सुरेश द्विवेदी ने रिसीव किया। फोन करने वाले ने खुद को एडिशनल एसपी बताया और पूछा कि थाने में कौन-कौन है। उस समय आरक्षक रूपेश सहारे मौजूद था। उसे आदेश दिया गया कि जाकर पेट्रोल पंप संचालक से बात कराओ। आरक्षक रूपए सहारे साथिया रक्षक नरेंद्र पाटिल के साथ पेट्रोल पंप पहुंचा और बताए गए नंबर पर बात कराई। पेट्रोल पंप संचालक प्रवीण मिश्रा से बात करने के बाद फोन करने वाले व्यक्ति ने एक बैंक अकाउंट नंबर दिया और ₹50000 तत्काल जमा कराने को कहा। दो आरक्षकों को देखकर पेट्रोल पंप संचालक ने ₹49000 बताए गए खाते में ट्रांसफर कर दिए।

ठगी के कांड का खुलासा कैसे हुआ

रात करीब 9:30 बजे पेट्रोल पंप संचालक ने पनागर टीआई आरके सोनी से घटना का जिक्र किया। यह सुनकर टीआई चौंक पड़े। पुलिस प्रोटोकॉल के अनुसार एडिशनल एसपी स्तर का अधिकारी सीधे थाने में फोन करके प्रधान आरक्षक एवं आरक्षक से ही इस प्रकार की बात नहीं करता। टीआई ने तत्काल अपने रिपोर्टिंग ऑफिसर से बात की और मामले का खुलासा हो गया।

राजस्थान में बैठकर जबलपुर पुलिस को नचा रहा था

साइबर सेल से जालसाज के नंबर की सर्चिंग कराई गई। पता चला, कॉल अलवर राजस्थान से किया गया था। एडिशनल एसपी के नाम पर फ्रॉड की खबर पूरे पुलिस मुख्यालय में चर्चा का विषय बन गई। पेट्रोल पंप संचालक प्रवीण मिश्रा की शिकायत पर धोखाधड़ी और पहचान छुपाकर बात करने पर आईटी एक्ट की धारा के तहत एफआईआर दर्ज की गई।

टोटल 4 बैंक अकाउंट होल्ड करा दिया जाए

टीआई आरके सोनी के मुताबिक गुरुवार को बैंक से आरोपी के बताए गए खाते का विवरण निकलवाया गया। खाता अलवर के किसी घनश्याम के नाम पर है। खाते में जैसे ही 49 हजार रुपए ट्रांसफर हुए, उसे तुरंत तीन अलग-अलग खातों में ट्रांसफर कर दिया गया था। संयोग से तीनों बैंक खातों में 20-20 और 15 हजार रुपए मौजूद थे, जिसे पुलिस ने होल्ड करा दिया है।

ठगी के तरीके ने पुलिस अधिकारियों को चिंता में डाल दिया

टीआई के मुताबिक जल्द ही टीम अलवर मामले की जांच के लिए आईजी जोन की अनुमति लेकर रवाना होगी। टीम बैंक खाते के विवरण और जरूरी दस्तावेज प्राप्त कर आरोपी तक पहुंचने का प्रयास करेगी। जिस तरह जालसाजों ने थाने के लैंडलाइन का प्रयोग अधिकारी बनकर ठगी करने में किया है, वो काफी गंभीर है। एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने भी मामले की तह तक जाने के निर्देश दिए हैं। साइबर सेल भी जांच में जुटी है।

30 जुलाई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

MP EMPLOYEE NEWS- सामूहिक अवकाश हड़ताल, कुछ ऑफिस बंद रहे कुछ सूने पड़े रहे, केसली में कर्मचारियों का अर्धनग्न प्रदर्शन
BU BHOPAL NEWSहे भगवान, ओपन बुक एग्जाम में भी विक्रम-बेताल की कहानी लिख दी
SCHOOL CORONA NEWSसोलापुर में 600 से ज्यादा स्टूडेंट्स पॉजिटिव
BANK NEWS- अब संडे को भी काम करेगा, सैलरी आएगी, किस्त कटेगी
MPPSC 2020- दूसरे पेपर में 17 प्रश्न गलत, विलोपित करने की मांग
MP CORONA NEWS- इंदौर में 7 पॉजिटिव मिले, सीएम ने चेतावनी जारी की
PM MODI ने OBC को 27% आरक्षण दिया
JABALPUR NEWS- विवेक तन्खा ने एक आग्रह किया था ज्योतिरादित्य सिंधिया ने 8 फ्लाइट दे दीं
MP उपचुनाव NEWS- पिता ने बेटे का टिकट काट दिया
MP उपचुनाव NEWS- अरुण यादव का टिकट खतरे में, कमलनाथ ने कंफर्म नहीं किया
MP NEWSअतिथि विद्वानों के नियमितीकरण का प्रस्ताव किस कैबिनेट की मीटिंग में आएगा: महासंघ 
 

महत्वपूर्ण, मददगार एवं मजेदार जानकारियां

GK in Hindiजालसाज व्यक्ति को 420 क्यों कहते हैं ​
GK in Hindiकागज के ग्लास में पानी गर्म करें तो पहले कागज जलेगा या पानी
GK in Hindiरानियों के रेशमी वस्त्र किससे धुलते थे, वाशिंग पाउडर तो था नहीं
GK in Hindiपुष्पक विमान किस ईंधन से चलता था, पेट्रोल और बैटरी तो उस समय होते नहीं थे
GK in Hindi- हिटलर की मूछें टूथब्रश जैसी क्यों थी, योद्धाओं जैसी क्यों नहीं, पढ़िए
:- यदि आपके पास भी हैं ऐसे ही मजेदार एवं आमजनों के लिए उपयोगी जानकारी तो कृपया हमें ईमेल करें। editorbhopalsamachar@gmail.com


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here