Loading...    
   


इंजीनियर लड़की ने वृद्ध दंपति को धोखा देकर ₹200000 की ठगी की - JABALPUR NEWS

जबलपुर
। कटनी की रहने वाली एक लड़की सुलोचना रैदास को जबलपुर पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया है। आरोप है कि उसने एक वृद्ध असहाय दंपति के यहां बतौर केयरटेकर जॉब शुरू की और उन्हें विश्वास में लेकर उनका एटीएम कार्ड हासिल कर लिया। दीपावली की छुट्टी के नाम पर जॉब छोड़ कर चली गई एवं एटीएम कार्ड से ₹200000 निकाल लिए।

ओमती टीआइ एसपीएस बघेल ने बताया कि मिशन कम्पाउंड निवासी श्रीमती वायलेट प्रसाद (81) ने लिखित शिकायत की थी कि उसके बेटा और बेटी दूसरे राज्य में नौकरी करते हैं। वह अपने पति के साथ रहती है। दोनों को चलने में परेशानी होती है, तो वह अपने दैनिक कार्य भी ठीक से नहीं कर सकते। जिसे देखते हुए उन्हें केयर टेकर की आवश्यकता थी। जिसे देखते हुए क्षेत्र में काम करने वाली पूजा काछी को घर में रहकर ही काम करने वाली युवती के बारे में बताने के लिए कहा था। पूजा कुछ दिन बाद उनके घर सुलोचना रैदास को लेकर आई। 

7 अक्टूबर को सुलोचना रैदास को केयर टेकर के काम पर रखा। सुलोचना ने कुछ ही दिनों में उन दोनों की बहुत सेवा करके विश्वास जीत लिया। बैंक नहीं जा पाने के कारण वह सुलोचना को ही भेजने लगे। सुलोचना को बैंक रुपये निकालने भेजा, तो उसने कहा कि हस्ताक्षर काम नहीं कर रहे हैं। इसके बाद उन्होंने अंगूठे का निशान लगाकर दिया, लेकिन फिर भी जब रुपये नहीं निकले, तो उन्होंने सुलोचना पर विश्वास करते हुए उसे ATM दिया और PIN CODE बताकर 15 हजार रुपये निकालने के लिए कहा। सुलोचना रुपये निकालकर ले आई और उन्हें 15 हजार रुपये दिए लेकिन ATM CARD वापस नहीं किया।

13 नवंबर को दीपावली की छुट्टी लेकर गई और ₹200000 निकाल लिए

सुलोचना ने श्रीमती वायलेट प्रसाद से 13 नवंबर को दीपावली में घर जाने के लिए छुट्टी मांगी। इसके बाद 20 नवंबर को बैंक अधिकारी का फोन आया और बताया कि आपके ATM से लगातार रुपये निकल रहे हैं। यह रुपये आप लोग निकाल रहे है क्या। यह सुनकर श्रीमती वायलेट ने इंकार कर दिया, जिसके बाद एटीएम बंद कर दिया गया। जानकारी में पता चला कि सुलोचना ने 2 नवंबर से 19 नवंबर के बीच 2 लाख 4 हजार रुपये उनके अकाउंट से निकाल लिए। वहीं उन्हें 15 हजार रुपये ही दिए।

सुलोचना रैदास ने जबलपुर के प्राइवेट कॉलेज से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग की है

सुलोचना का नंबर ही वृद्ध दंपती के पास था, जबकि वह कहां रहती है यह नहीं पता था। जांच में पता चला कि सुलोचना का पैतृक घर एनकेजे कटनी में है और वह गोरखपुर हाथीताल कॉलोनी में रह रही थी। आरोपित सुलोचना का मोबाइल ट्रेस कर जानकारी निकाली गई, जिसमें पता चला कि वह कटनी में है। इसके बाद टीम को कटनी रवाना कर आरोपित सुलोचना को गिरफ्तार किया। सुलोचना रैदास जबलपुर स्थित एक प्राइवेट इंजीनियरिंग कालेज से इलेक्ट्रीकल इंजीनियरिंग की हुई है। जिससे रुपये बरामद करने के प्रयास किए जा रहे है।

04 दिसम्बर को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार



भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here