Loading...    
   


क्या सचमुच बारिश के साथ केंचुए भी गिरते हैं, यदि नहीं तो अचानक कहां से आते हैं / GK IN HINDI

श्रीमती शैली शर्मा। कई बच्चे यह सवाल पूछते हैं और मध्यप्रदेश के कुछ ग्रामीण इलाकों में बच्चों को यह उत्तर दिया जाता है कि केंचुए बारिश के पानी के साथ गिरते हैं, लेकिन यह पूरी तरह गलत है। अब प्रश्न यह उपस्थित होता कि यह यदि यह उत्तर गलत है तो सही क्या है। यदि केंचुए बारिश के साथ नहीं गिरते तो फिर बारिश के मौसम में ही क्यों दिखाई देते हैं। गर्मी और सर्दी में कहां गायब हो जाते हैं। आइए जानने की कोशिश करते हैं:-

केंचुए बादलों से नहीं गिरते तो फिर जमीन पर कैसे आते हैं

केचुए जमीन की सबसे ऊपरी परत जिसे humas कहा जाता है, के नीचे पाए जाते हैं। जब बारिश का मौसम आता है तो मिट्टी की ऊपरी परत (humas) बारिश के कारण अपनी जगह से हट जाती है और केंचुए तथा अन्य छोटे छोटे जीव जंतु बाहर आ जाते हैं।

अब प्रश्न यह है कि ऐसा बारिश में ही क्यों होता है? 

तो उसका कारण है कि बाकी के मौसम इन जंतुओं के लिए प्रतिकूल होते हैं और वे हाइबरनेशन अर्थात शीत निद्रा में चले जाते हैं। उनके अनुकूल मौसम आने पर ही वे बाहर आते हैं। जैसे- केचुए, मेंढक, सांप, भालू, छिपकली आदि।

केंचुए का वैज्ञानिक नाम-

भारत में सामान्यता पाए जाने वाले केंचुए का वैज्ञानिक नाम pheritima posthuma है। 

केचुआ किस प्रकार का जीव है?

केंचुए संघ ऐनेलिडा के सदस्य हैं। केंचुए का शरीर कई खंडों का बना होता है। इसे ध्यान से देखेंगे तो उसके शरीर पर कई वलय या रिंग जैसी रचनाएं दिखाई देते हैं। इसके शरीर में 100 से 120 तक खंड होते हैं। यह एक द्विलिंगी (bisexual Or Hermaphodite) प्राणी है अर्थात नर तथा मादा जननांग एक ही शरीर में पाए जाते हैं।

पृथ्वी, प्रकृति और मनुष्यों के लिए केंचुआ क्यों उपयोगी है ?

सबसे पहले 1881 में चार्ल्स डार्विन ने केचुए की उपयोगिता के बारे में बताया था। केंचुए को किसानों का मित्र कहा जाता है। यह जीवित तथा मृत  दोनों अवस्थाओं में मनुष्य के काम आता है। इनको पालने की विधि को वर्मी कल्चर तथा उनके द्वारा बनी खाद को वर्मी कंपोस्ट कहते हैं।
लेखक श्रीमती शैली शर्मा मध्य प्रदेश के विदिशा जिले में अतिथि शिक्षक हैं।
Notice: this is the copyright protected post. do not try to copy of this article
(current affairs in hindi, gk question in hindi, current affairs 2019 in hindi, current affairs 2018 in hindi, today current affairs in hindi, general knowledge in hindi, gk ke question, gktoday in hindi, gk question answer in hindi,)


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here