Loading...    
   


12वीं के परीक्षा केंद्रों में TWTA के 2 शिक्षक कोरोना संक्रमण बचाव हेतु तैनात होंगे / MP NEWS

भोपाल। जिस तरह से कोरोनावायरस का संक्रमण जिले में विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में तेजी से फैल रहा है, उसे देखते हुए 9 जून से शुरू होने वाली कक्षा 12वीं के शेष विषयों की परीक्षा संपन्न कराना जिला प्रशासन के लिए किसी चुनौती से कम नहीं है। परीक्षार्थियों, पर्यवेक्षकों, केंद्र अध्यक्षों एवं अन्य कर्मचारियों को संक्रमण से बचाते हुए परीक्षा संपन्न कराना अपने आप में एक चुनौती है। ऐसे में यदि परीक्षा केंद्रों में संक्रमण से बचाव की सभी व्यवस्थाएं सुदृढ़ होंगी तो परीक्षार्थी भय युक्त वातावरण में ठीक से पर्चा हल कर पाएंगे। 

कोरोना संक्रमण के संकट को देखते हुए ट्राईबल वेलफेयर टीचर्स एसोसिएशन के प्रांत अध्यक्ष डीके सिंगौर ने जिला प्रशासन को पत्र लिखकर जिले के सभी 76 परीक्षा केंद्रों में एसोसिएशन के 2-2 शिक्षकों को निःशुल्क तैनात  कर एसोसिएशन की ओर से सेनेटाईजेशन  व सुरक्षा  सामग्री के साथ परीक्षा केंद्रों में सहयोग करने की पेशकश की, जिस पर जिला कलेक्टर डॉ जगदीश चंद्र जटिया ने सहमति प्रदान करते हुए एसोसिएशन के शिक्षकों को परीक्षा केंद्रों में सहयोग करने की अनुमति प्रदान की, जिस पर सहायक आयुक्त विजय तेकाम ने सभी परीक्षा केन्द्रों में एसोसिएशन के 2-2 वारियर्स को तैनात रहने का पत्र जारी कर दिया है। 

एसोसिएशन के प्रांत अध्यक्ष डीके सिंगौर को इन कोरोना वारियर्स शिक्षकों के दल का प्रभारी नियुक्त किया है। परीक्षा केंद्र में कोरोना वारियर्स के रूप में एसोसिएशन के दो शिक्षक परीक्षा प्रारंभ होने के एक घंटे पूर्व उपस्थित रहकर आने वाले सभी परीक्षार्थियों एवं पर्यवेक्षकों के हाथ, पेन, कंपास आदि को सैनिटाइज कराकर आवश्यकतानुसार मास्क, ग्लबस आदि उपलब्ध कराएंगे तथा संक्रमण से बचाव से संबंधित आवश्यक दिशा निर्देश देते हुए भयमुक्त वातावरण में परीक्षा संपन्न कराने में सहयोग करेंगे। इसके लिए  ट्राईबल वेलफेयर टीचर्स एसोसिएशन के प्रांताध्यक्ष एवं अधिकारियों द्वारा जूम एप के जरिए इन कोरोना वारियर्स शिक्षकों को आवश्यक प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके साथ ही ट्राईबल वेलफेयर टीचर्स एसोसिएशन द्वारा सभी परीक्षा केंद्राध्यक्षों को निर्विघ्न और भयमुक्त वातावरण में परीक्षा संपन्न कराने के लिए कुछ आवश्यक एडवाइजरी भी जारी की गई है।

जैसे -
*अध्ययनरत विद्यालय के प्राचार्य से मिलकर यह सुनिश्चत करना कि विद्यार्थी घर से ही अच्छी फिटिंग वाला मास्क (गमछा नहीं ) लगाकर आए। ग्रामीण क्षेत्र में सेंटर दूर होने के कारण चार पहिया वाहन में इकट्ठे होकर परीक्षार्थी आते हैं, ऐसा न हो। परीक्षार्थियों को यह भी बताया जाए कि वे परीक्षा समय के 1घंटा पहले केंद्र में पहुंचे। परीक्षार्थी अपने साथ बैग, मोबाइल, कम्पास आदि अतिरिक्त सामग्री साथ में न लाएं। स्केल, पेंसिल खुला ही लाएं। पानी की बोतल जरूर लाएं। विद्यार्थियों के नाखून कटे हों।  विद्यालय सभी परीक्षार्थियों को फोन लगाकर  ये जानकारी दे। केंद्र अध्यक्ष चाहें तो संस्था के प्राचार्य से प्रमाण पत्र ले लें, कि उन्होंने सभी परीक्षार्थियों को सूचित कर दिया है। 
* परीक्षा में लगे सभी कर्मचारी  1 घंटे पहले केंद्र में आ जाएं। गेट पर कम से कम दो कर्मचारी तैनात हों, जो अंदर प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति के हाथों, पेन, मोबाइल आदि को सेनेटाईज करे।  थर्मल स्केनिन्ग सुविधा अलग स्थान पर हो ।   पर्यवेक्षक मोबाइल लेकर न आएं तो उनके लिए भी बेहतर होगा, इसके लिए स्थानीय शिक्षकों को पर्यवेक्षक नियुक्त करना ठीक रहेगा। पालकों को अंदर बिलकुल भी प्रवेश न दिया जाए। 
* परीक्षा प्रारम्भ होने के 1 घंटे पहले से ही स्कूल की तरफ आने वाले सभी रास्तों पर गेट से काफी दूरी पर शिक्षकों को तैनात किया जाए, जो परीक्षार्थियों को चलते चलते आवश्यक निर्देश  दें  व जिनके पास मास्क नहीं है, उन्हें सुरक्षित मास्क उपलब्ध कराए। 
* केंद्र में एक कक्ष ऐसा हो जिसमें काफी विरल फर्नीचर लगे  हों , जहाँ कण्टेण्मेण्ट एरिया या संदिग्ध परीक्षार्थियों को अलग से बैठाया जाए। 
* सेंटर में सोडियम हाइपोक्लोराईट से सेनेटाइज्ड करने की भी व्यवस्था होनी चाहिए । 
*हर आधा घंटे में पर्यवेक्षकों के और हर एक घंटे में परीक्षार्थियों के हाथों और पेन  को एल्कोहल स्प्रे से सेनेटाइज करें। 
* सभी कर्मचारी सर्जिकल ग्लब्स और केप का उपयोग करें तो बेहतर होगा। इससे हाथ अच्छे से सेनेटाइज्ड होते  है, सेनेटाइजर भी कम लगता है और हाथों पर साईड इफेक्ट भी नहीं होता। केप से बालों में संक्रमण नहीं होगा,  बालों का संक्रमण घातक होता है। 
*पेपर समाप्त होने पर कापी लेने के बाद एक एक कमरे के विद्यार्थियों को क्रमशः छोड़ना चाहिए । 
* परीक्षार्थियों को सलाह दें सीधे घर जाकर घर के  बाहर ही जूता चप्पल उतारें व साबुन से नहाकर ही घर के अंदर जाएं। 
*पर्यवेक्षक कापी जमा करने के तुरंत बाद हाथों को सेनेटाइज्ड करे । इसी प्रकार बंडल बनाने वाले भी बंडल बनने के बाद तुरंत हाथों को सेनेटाइज्ड करें । 
* सेंटर में पेयजल की व्यवस्था करना एक चुनौतीपूर्ण कार्य है। यदि बच्चे बॉटल लाते हैं, तो बॉटल को भी सेनेटाइज करना पड़ेगा। बहुत बताने के बाद भी कई बच्चे बॉटल नहीं लाएंगे। उनके लिए टोंटीदार टंकी से डिस्पोजल से पानी पीने की व्यवस्था करनी पड़ेगी। टोंटी को थोड़ी थोड़ी देर में सेनेटाइज करना पड़ेगा। उपयोग वाले डिस्पोजल फेंकने के लिए ढक्कन बंद डस्टबिन हो। 
*परीक्षा समाप्ति के बाद सोडियम हाईपोक्लोराइट से पूरे फर्नीचर, आलमारी, दरवाजे, गेट व फर्श को सेनेटाइज करवाएं। ताकि अगली पारी की परीक्षा के लिए केंद्र सेनेटाइजड हो सके।
* किसी को भी पूरे समय मास्क हाथ से नहीं छूना चाहिए और न ऊपर नीचे करना चाहिए । यदि मास्क खोलना ही पड़े तो पहले हाथों को सेने टाइज्ड कर लें । 
* ऊपर प्रशासन से जो भी सिस्टम बने, पर केन्द्र अध्यक्ष को सेनेटाइजर, मास्क आदि की व्यवस्था खुद रखना चाहिए। ज्यादा किसी पर डिपेंड नहीं रहना चाहिए । क्योंकि यदि एक भी विद्यार्थी की कुछ दिन बाद रिपोर्ट पॉज़िटिव आती है, तो केंद्र के सभी लोगों को परेशान होना पड़ सकता है । 
* कुछ अतिरिक्त पर्यवेक्षक भी रखे जाएं। ड्यूटी लगाने के पूर्व पर्यवेक्षकों से सहमति जरूर ले लें । 
* ऐसे संवेदनशील अवसर पर पैसे खर्च की परवाह नहीं करना चाहिए। सबको ये लगना चाहिए कि पूरी सावधानी व सुरक्षा के साथ परीक्षा सम्पन्न हो रही  है, संक्रमण का कोई खतरा नहीं है। 
*अधिक दर्ज संख्या वाले केंद्र में स्पीकर माइक का उपयोग सुविधाजनक रहेगा । 
* यह एसोसिएशन का सुझाव है लेकिन प्रशासन /मंडल  जो एडवाइजरी जारी करेगा, उसका पालन करना चाहिए। 
*  भयभीत न रहें पर सावधानी पूरी रखें ।

04 जून को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

जब खून लाल है तो नसों का रंग नीला क्यों होता है
बर्फ ठंडी होती है, फिर उसमें से भाप क्यों निकलती है
MP BOARD 10th-12th EXAM RESULT कब आएगा, यहां पढ़िए
SSC EXAM 2020 DATE घोषित, शेड्यूल जारी
दुनिया में जब रेजर नहीं थे, लोग सेविंग कैसे करते थे
छतरपुर में युवा कर्मचारी ने CMO की पत्नी को गोलियां मारीं
इंदौर में व्यापारी के गोदाम से नोटों से भरे बोरे बरामद
जबलपुर में DTH की छतरी ने ली महिला की जान
CBSE 12th EXAM NOTIFICATION जारी, यहां पढ़िए
शिवराज सिंह की संभावित कैबिनेट में कितने कांटे, आइए गिनते हैं
पालतू कुत्तों की पूंछ क्यों काट दी जाती है
आम रास्ते में रुकावट पैदा करने वाले के खिलाफ किस धारा के तहत FIR दर्ज होती है
शिवलिंग गोल होते है, फिर आधी परिक्रमा क्यों करते हैं
PNB सेविंग अकाउंट होल्डर के लिए बुरी खबर
MUMBAI के तूफान का MADHYA PRADESH पर क्या असर पड़ेगा, यहां पढ़िए
राजेंद्र शुक्ला ने सोनू सूद के बहाने शिवराज सिंह के गाल पर तमाचा मारा
दुनिया में जब रेजर नहीं थे, लोग सेविंग कैसे करते थे
शिवलिंग गोल होते है, फिर आधी परिक्रमा क्यों करते हैं
ओवरलोड बस का चालान बनता है, ओवरलोड नाव का क्या होता है, यहां पढ़िए
PNB सेविंग अकाउंट होल्डर के लिए बुरी खबर
शिवपुरी में पंचायत सचिव तबादला घोटाला: एक्शन के इंतजार में इन्वेस्टिगेशन रिपोर्ट


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here