Loading...    
   


लॉकडाउन के कारण बीड़ी मजदूर भुखमरी की कगार पर, वर्क फ्रॉर्म होम की मांग / JABALPUR NEWS

सिहोरा/जबलपुर। लॉकडाउन की वजह से प्रखंड भर के ग्रामीण क्षेत्रों मे बीड़ी श्रमिकों का रोजगार छिन गया। नतीजतन श्रमिक गंभीर आर्थिक संकट का सामना कर रहे हैं। बीड़ी व्यापारियों का भी काफी नुकसान हो चुका है। 

बीड़ी श्रमिकों ने मांगा वर्क फ्रॉर्म होम 

श्रमिकों की मांग है कि बीड़ी श्रमिकों को लॉकडाउन के समय प्रशासन कुछ राहत प्रदान करते हुए कच्चा माल लाकर बीड़ी बनाने की अनुमति दे-ताकि प्रतिदिन कार्य कर कमाने वाले श्रमिकों को कुछ राहत मिल सके। जिले भर में हजारों की संख्या में श्रमिक बीड़ी बनाते हैं। बीड़ी व्यापारियों की ओर से प्रतिदिन कच्चा माल दिया जाता है। जहां इन बीड़ी श्रमिकों प्रतिदिन एक हजार बीड़ी बनाने पर ₹109 रुपए मिलते हैं। अब जिले भर के श्रमिकों को चिंता सता रही है। सैकड़ों बीड़ी श्रमिकों के खाने पीने की काफी कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है। एक-एक रुपए के मोहताज हो गए है। यदि लॉकडाउन की अवधि 17 मई के बाद भी बढ़ती है तो समस्या और बढ़ेगी।

वर्षों से बीड़ी बना रहे हैं, 2 वक्त की रोटी मुश्किल से मिली थी

बीड़ी बनाकर अपने परिवार का भरण-पोषण करने वाले इन मजदूरों की हालत दयनीय बनी हुई है। आर्थिक दशा से बेहद कमजोर गरीबी और लाचारी के जिंदगी में जी रहे बीड़ी मजदूरों की हालत देखकर तरस आना स्वाभाविक है। अधिकांश ऐसे बीड़ी मजदूर हैं जो वर्षों से बीड़ी बना रहे हैं फिर भी उनके घरों में दो वक्त की रोटी के लिए लाले पड़े हैं। वर्षों से बीड़ी बनाकर अपने परिवार को पालने वाले ये मजदूर अपने मालिकों को अमीर तो बना दिया लेकिन आज भी इनकी पहचान एक बीड़ी मजदूर के रूप में ही की जाती है।

घर में बीड़ी बनाने की अनुमति क्यों नहीं

ग्राम खितौला खम्परिया सहित अन्य ग्राम की जमुना बाई, कमला बाई, मुन्नी बाई , रेखा आदि सहित सैकड़ों बीड़ी मजदुरों ने मांग उठाई की बीड़ी बनाने का काम घर पर ही करते हैं जिसमे सोशल डिस्टेंसिंग भी बनी रहती है फिर भी शराब की दुकानों तो खोल दिया लेकिन बीड़ी मजदूरों के लिए कोई का आदेश नही जिससे हम लोगों की जीविका चलाना बहुत ही कठिन हो रहा हैं बीड़ी मजदूरी की अनुमति नही मिलती तो इन मजदूरों की हालत बद से बद्दतर हो जाएगी। 

मानव अधिकार आयोग के जिला अध्यक्ष विनोद चौबे ने बताया कि जिले की एकमात्र बीड़ी कंपनी मोहनलाल हरगोविंद दास लॉक डाउन के बाद से बंद पड़ी हुई है जिससे बीड़ी मजदूरों का जीवन यापन चलता है लेकिंन अब इन मजदूरों का जीवन सीमित राशन तक ही सिमट कर सीमित रह गया । जिसमें हमारी मांग है कि बीड़ी मजदूरी की अनुमति दी जाए जाए जिससे इन मजदूरों का जीवन पटरी पर वापस आ सके।

11 मई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

SC-ST गरीबों को आरक्षण में प्राथमिकता के खिलाफ विधायकों की लामबंदी
शिवराज सिंह सरकार ने 4.50 लाख कर्मचारियों का 1500 करोड़ रुपए रोका 
ग्वालियर मुस्कुराया: शहर में निर्माण कार्य शुरू, मजदूर खुश हुए
मध्य प्रदेश कोरोना 39वें जिले में, 11 मौतें, 116 पॉजिटिव, 131 डिस्चार्ज
मध्यप्रदेश में ई-पास के संबंध में नये निर्देश 
सचिन अतुलकर को उज्जैन एसपी के पद से हटाया, तीन जिलों के एसपी बदले 
बस 10 दिन और दे दीजिए: इंदौर कलेक्टर की अपील 
बिजली के झटकों से उपकरण खराब हो जाते हैं तो इलेक्ट्रिक वायर क्यों नहीं टूटता
ट्रेन से कटे शहडोल-उमरिया के 16 मजदूरों को कंपनी वाले घर से ले गए थे 
अमित शाह की अफवाह उड़ाने वाले फिरोज, सरफराज, सज्जाद और शहजाद गिरफ्तार
MP IAS TRANSFER LIST 09 MAY 2020 / मप्र आईएएस अफसरों की तबादला सूची
बीजेपी मध्यप्रदेश के 24 जिला अध्यक्षों की लिस्ट जारी
पति प्राइवेट फोटो दोस्तों को भेजता था, इसलिए गीता फांसी पर झूली 
समाधि, श्मशान या मकबरा या कब्रिस्तान के अपमान या नुक्सान पर क्या कार्रवाई होती है 
कुछ लोग मेरी मौत की दुआ कर रहे हैं लेकिन मैं स्वस्थ हूं: गृह मंत्री अमित शाह 
गुरुद्वारों में लंगर क्यों चलते हैं, वहां सभी धर्मों के लोगों को भोजन क्यों कराते हैं


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here