Loading...    
   


लॉक डाउन के बाद स्कूल ओपन होंगे, HRD मिनिस्ट्री की प्लानिंग फाइनल / SCHOOL OPEN AFTER LOCK-DOWN

नई दिल्ली। भारत सरकार का मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय इस चुनौती के साथ आगे बढ़ रहा है कि महामारी के इस दौर में स्टूडेंट्स की पढ़ाई का नुकसान ना हो। ऑनलाइन स्टडी मटेरियल के अलावा टीवी पर डेडीकेटेड चैनल शुरू करने का प्रस्ताव आया है। प्लानिंग में शामिल ज्यादातर ऑफिसर्स इस बात पर सहमत हैं कि स्कूलों में क्लास का आयोजन होना चाहिए। 50% स्टूडेंट्स की उपस्थिति के साथ ऑड-ईवन सिस्टम लागू किया जा सकता है।

सोशल डिस्टेंसिंग की शर्त पर कक्षाओं के आयोजन की अनुमति

केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय (MHRD) और राष्ट्रीय शैक्षणिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद (NCERT) द्वारा लॉक डाउन के बाद स्कूलों में नये सेशन की क्लासेस के लिए ऑड-ईवन सिस्टम को लागू करने की योजना बनाई जा रही है। विभिन्न स्कूलों को कक्षाओं के आयोजन की अनुमति होगी लेकिन उन्हें सोशल डिस्टैंसिंग का पालन करना होगा, जिसके लिए ऑड-ईवन एक विकल्प के तौर पर देखा जा रहा है। 

स्कूलों में ऑड-ईवन के बारे में दिशा-निर्देश जल्द

स्कूलों में लॉक डाउन के बाद कक्षाओं के आरंभ को लेकर ऑड-ईवन के बारे में दिशा-निर्देश जल्द ही जारी किये जा सकते हैं। कक्षाओं में ऑड-ईवन लागू होने से शिक्षकों के पास छात्रों के बेहतर ढंग से पढ़ाने में मदद मिलेगी। स्कूलों की कक्षाओं में दिनों के हिसाब से ऑड-ईवन लागू करने से अलग साप्ताहिक रूप से ऑड-ईवन की व्यवस्था को लागू करने पर भी विचार किया जा रहा है। 

ज्यादातर अफसर साप्ताहिक ऑड-ईवन के समर्थन में

योजना कार्यों में योगदान दे रहे मंत्रालय के ही कुछ अधिकारियों का मानना है कि साप्ताहिक ऑड-ईवन से छात्रों को अधिक फायदा मिलेगा और इससे न सिर्फ छात्रों बल्कि अध्यापकों की भी पढ़ाई को लेकर तारतम्यता बनी रहेगी। 

ऑनलाइन स्टडी मटेरियल तैयार किया जा रहा है

इस बीच NCERT ONLINE STUDY मैटेरियल के प्रोडक्शन में लगा है, जिसका प्रसारण टेलीविजन चैनलों पर किया जा सकेगा। इस स्टडी मैटेरियल से उन स्कूलों को भी मदद मिलेगी जिनके पास इंटरनेट ऑधारित ऑनलाइन कक्षाओं के आयोजन के लिए जरूरी आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं है। 

स्कूल के हर स्टैंडर्ड के लिए टीवी पर एक डेडीकेटेड चैनल

स्कूलों में पहली से लेकर 12वीं तक की कक्षाओं के लिए सभी विषयों के लिए स्टडी मैटेरियल के टेलीविजन पर प्रसारण को पर्याप्त समय मिले, इसके लिए हर स्टैंडर्ड के लिए एक डेडीकेटेड चैनल पर भी विचार किया जा रहा है। एनसीईआरटी के निदेशक के अनुसार सभी स्टेकहोल्डर्स को साथ लेते हुए महामारी के दौरान छात्रों की पढ़ाई का नुकसान न होने देने में यह योजना कारगार साबित होगी। उन्होंने कहा कि इस योजना का खाका, मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सोमवार को मंत्रालय के समक्ष प्रस्तुत किया जा सकता है।

09 मई को सबसे ज्यादा पढ़े जा रहे समाचार

मध्यप्रदेश में ई-पास के संबंध में नये निर्देश
बस 10 दिन और दे दीजिए: इंदौर कलेक्टर की अपील
जबलपुर कलेक्टर की हेयर कटिंग सोशल मीडिया पर वायरल 
सचिन अतुलकर को उज्जैन एसपी के पद से हटाया, तीन जिलों के एसपी बदले
बर्फ कठोर होता है फिर पानी में डूबता क्यों नहीं, यहां पढ़िए
शिवराज सिंह सरकार ने 4.50 लाख कर्मचारियों का 1500 करोड़ रुपए रोका
ट्रेन से कटे शहडोल-उमरिया के 16 मजदूरों को कंपनी वाले घर से ले गए थे 
SC-ST गरीबों को आरक्षण में प्राथमिकता के खिलाफ विधायकों की लामबंदी 
क्या इंसान के दिमाग में कंप्यूटर जैसे डीलिट और रिसाइकिल बिन फीचर्स होते हैं 
मध्य प्रदेश कोरोना 38वें जिले में, 2685 में से 90 पॉजिटिव 
भारत सरकार द्वारा 10वीं-12वीं की परीक्षा तारीख घोषित 
बिजली के झटकों से उपकरण खराब हो जाते हैं तो इलेक्ट्रिक वायर क्यों नहीं टूटता 
ग्वालियर आउट ऑफ कंट्रोल: शराब की दुकानों के साथ पूरा बाजार भी खुल गया 
रेल गाड़ी के इंतजार में पटरी पर लेटे थे, मालगाड़ी गुजर गई, 16 मजदूरों की मौत


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here