Loading...    
   


एक साथ 50 लोगों से VIDEO CONFERENCE करनी है तो केवल एक APP काम आएगा

लॉकडाउन के दौरान कई तरह के video chat app सुर्खियों में आए। ZOOM इतना पॉपुलर हुआ कि गृह मंत्रालय को उसकी सुरक्षा के बारे में एडवाइजरी जारी करनी पड़ी। ZOOM की लोकप्रियता के पीछे सबसे बड़ी वजह यह थी कि उसमें किसी भी competitor mobile app से ज्यादा लोग video conference ज्वाइन कर सकते थे लेकिन यदि आप एक साथ 50 लोगों से video conferencing करना चाहते हैं तो एक मोबाइल एप्लीकेशन है जो आपके काम आएगी। इस एप्लीकेशन का नाम है Facebook Messenger Rooms.

फेसबुक (Facebook) ने यूजर्स के लिए वीडियो काफ्रेंसिंग ऐप फेसबुक मैसेंजर रूम्स को कुछ समय पहले लॉन्च किया है। फेसबुक का ये ऐप ZOOM के विकल्प के रूप में प्रचारित किया जा रहा है। वीडियो कॉलिंग की बढ़ती डिमांड के बीच Zoom ऐप को लेकर कई विवाद भी सामने आ चुके हैं। जिसमें यूजर्स का निजी डेटा लीक होने से लेकर अन्वांटेड वीडियो एक्सेस तक शामिल है। यही कारण था कि गृह मंत्रालय ने एक एडवाइजरी जारी कर इसे असुरक्षित बताया था।

जूम ऐप से बेहतर है फेसबुक रूम

दोनों ही वीडियो कॉलिंग ऐप्स फ्री वर्जन में Available हैं। Zoom के लिए दो तरह के प्रीमियम सब्सक्रिप्शन हैं। Zoom ऐप के फ्री वर्जन में यूजर को 40 मिनट का टाइम लिमिट मिलता है। अगर, यूजर ज्यादा देर तक कनेक्ट रहना चाहते हैं तो आपको इसके लिए सब्सक्रिप्शन लेना पड़ता है। वहीं, फेसबुक मैसेंजर रूम्स पूरी तरह से फ्री ऑफ कॉस्ट है। इसमें यूजर बिना किसी टाइम लिमिट के लोगों के साथ कनेक्ट रह सकते हैं।

बिना फेसबुक अकाउंट के भी हो सकते हैं ऐड

फेसबुक मैसेंजर रूम्स की खास बात ये है कि इसमें यूजर एक साथ 50 लोगों के साथ कनेक्ट कर सकते हैं। इस ऐप के जरिए उन लोगों के साथ भी कनेक्ट कर सकेंगे जिनके पास फेसबुक अकाउंट नहीं है। वहीं, Zoom के बेसिक पर्सनल मीटिंग प्लान में यूजर्स एक साथ 100 लोगों के साथ कनेक्ट कर सकतें हैं। वहीं, प्रीमियम यूजर्स एक साथ 500 लोगों के साथ कनेक्ट कर सकते हैं। हालांकि, फेसबुक मैसेंजर में पहले से ही वीडियो चैट का फीचर है लेकिन इसमें ज्यादा लोग एक साथ वीडियो कॉल नहीं कर सकते हैं।

आईडी और पासवर्ड है जरूरी

फेसबुक मैसेंजर रूम्स के जरिए लोगों से कनेक्ट करना काफी आसान है। इसके मैसेंजर रूम के इन्वाइट को किसी भी न्यूज फीड, ग्रुप या इवेंट के जरिए शेयर कर सकते हैं। इसमें डिफॉल्ट प्राइवेसी सेटिंग्स में इस तरह का प्रोविजन है कि इसमें अपने मुताबिक रूम क्रिएट कर सकेंगे। वहीं, Zoom ऐप के हर मीटिंग में कनेक्ट होने के लिए यूनिक मीटिंग ID क्रिएट करना होता है। Zoom ऐप में मीटिंग मे जुड़ने के लिए मीटिंग आईडी और पासवर्ड की जरूरत होती है।

मीटिंग लॉक करने का है प्रोवीजन

इन दोनों ही ऐप्स में मीटिंग लॉक करने का प्रोवीजन है। अगर यूजर नहीं चाहते हैं कि कोई भी अनवांटेड गेस्ट मीटिंग में प्रवेश करे तो मीटिंग शुरू होने के बाद उसे लॉक कर सकते हैं। मीटिंग को लॉक करने के बाद कोई भी अनवांटेड यूजर आईडी और पासवर्ड होने के वावजूद आपकी मीटिंग में प्रवेश नहीं कर सकेगा।


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here