सीएम हाउस की तरफ दौड़ रहे शिवराज सिंह चौहान को पहली ठोकर लगी | MP NEWS
       
        Loading...    
   

सीएम हाउस की तरफ दौड़ रहे शिवराज सिंह चौहान को पहली ठोकर लगी | MP NEWS

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल स्थित बंगला नंबर 6 श्यामला हिल्स यानी मुख्यमंत्री निवास की तरफ दौड़ रहे भाजपा नेता शिवराज सिंह चौहान को पहली ठोकर लग गई है। भारतीय जनता पार्टी के केंद्रीय नेतृत्व ने शिवराज सिंह चौहान को दायरे में रहने के लिए कहा है। 

शिवराज सिंह चौहान के घर विधायकों का रात्रि भोजन कार्यक्रम रद्द 

मध्यप्रदेश में कमल नाथ द्वारा इस्तीफा देते ही शिवराज सिंह चौहान ने मुख्यमंत्री की खाली कुर्सी की तरफ दौड़ लगाना शुरू कर दिया था। सुबह से लेकर शाम तक तमाम गतिविधियों में शिवराज सिंह चौहान विधायकों को अपने साथ लेकर घूमते रहे। शिवराज सिंह के प्रशंसक पत्रकारों ने उन्हें मुख्यमंत्री पद का एकमात्र दावेदार घोषित कर दिया। अति उत्साह में शिवराज सिंह चौहान ने भाजपा विधायकों को अपने घर रात्रि भोजन पर आमंत्रित किया लेकिन इस कार्यक्रम को रद्द कर देना पड़ा। 

शिवराज सिंह की गतिविधियों से केंद्रीय नेतृत्व को आपत्ति 

मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिर जाने के बाद भारतीय जनता पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व लगातार मीटिंग कर रहा है। मध्यप्रदेश से संबंध रखने वाले श्री धर्मेंद्र प्रधान, केंद्रीय मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर एवं ताजा-ताजा भाजपा में लोकप्रिय हो गए ज्योतिरादित्य सिंधिया मीटिंग में शामिल हैं। केंद्रीय नेतृत्व ने अब तक मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री का नाम फाइनल नहीं किया है लेकिन शिवराज सिंह चौहान की एक्टिविटीज जता रही है कि मध्यप्रदेश में उनकी चौथी पारी शुरू हो रही है। केंद्रीय नेतृत्व उनकी इस तरह की गतिविधियों से खुश नहीं है। 

शिवराज सिंह की दलील खारिज 

विधायकों का रात्रि भोजन कार्यक्रम निरस्त होने की सूचना देते हुए शिवराज सिंह चौहान ने दलील दी है कि "हम सब जिम्मेदार नागरिकों का कर्तव्य है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा बताए मार्ग का अनुसरण करें। इसलिए मैंने अपने निवास पर आयोजित सामूहिक भोज के आयोजन को विधायक मित्रों और कार्यकर्ता साथियों से क्षमा मांगते हुए निरस्त कर दिया है।" शिवराज सिंह जी की यह दलील इसलिए खारिज हो जाती है क्योंकि विधायकों और भाजपा नेताओं को रात्रि भोजन का आमंत्रण प्रधानमंत्री की अपील के बाद दिया गया था।