कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग ने इस्तीफा क्यों दिया, पढ़िए | MP NEWS
       
        Loading...    
   

कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग ने इस्तीफा क्यों दिया, पढ़िए | MP NEWS

भोपाल। मध्य प्रदेश के संवेदनशील राजनीतिक हालात में जबकि कांग्रेस और भाजपा के लिए 1-1 विधायक महत्वपूर्ण है, कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग ने इस्तीफा दे दिया है। श्री हरदीप सिंह बेंगलुरु में है। कांग्रेस ने दावा किया था कि हरदीप सिंह सहित सभी चार विधायक जो बेंगलुरु में है गुरुवार शाम तक वापस आ जाएंगे। ऐसा कुछ तो नहीं हुआ लेकिन गुरुवार शाम हरदीप सिंह का इस्तीफा गया। सवाल ये है कि जब कमलनाथ और दिग्विजय सिंह की टीम ने ऑपरेशन लोटस को फेल कर दिया था तो फिर हरदीप सिंह ने इस्तीफा क्यों दिया।

दलाल और भ्रष्टाचारी सरकार में बैठे हैं: विधायक हरदीप सिंह डंग

मंदसौर के सुवासरा से दूसरी बार विधायक बने हरदीप सिंह डंग ने इस्तीफे में लिखा, "सरकार बनने के 14 महीने बीतने के बाद भी मेरे विधानसभा क्षेत्र की उपेक्षा की जा रही है। मंत्री काम करने के लिए तैयार नहीं हैं। दलाल और भ्रष्टाचारी सरकार में बैठे हैं।" करीबियों की मानें तो डंग सरकार के मुआवजा वितरण के तरीके को लेकर नाराज थे। 19 फरवरी को सीतामऊ में हुए कर्जमाफी के दूसरे चरण के सम्मेलन में भी प्रभारी मंत्री हुकुमसिंह कराड़ा की मौजूदगी में ही डंग ने ऐलान किया था कि किसानों की समस्याएं नहीं सुनी जा रही हैं और इसके लिए मंदसौर में बड़ा आंदोलन किया जाएगा। 

मैं किसी गुट से नहीं हूं इसलिए परेशान हूं: विधायक हरदीप सिंह डंग


हरदीप सिंह डंग ने अपना इस्तीफा स्पीकर एनपी प्रजापति और मुख्यमंत्री कमलनाथ को भेजा है। डंग तीन दिन से लापता थे। अपने इस्तीफे में डंग ने लिखा कि वे अपने विधानसभा क्षेत्र की अनदेखी से दुखी हैं। उन्होंने लिखा, "न मैं कमलनाथ गुट का हूं, न दिग्विजय सिंह और न ही सिंधिया गुट का हूं। मैं सिर्फ कांग्रेस का कार्यकर्ता हूं। इसलिए मुझे परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।" सूत्रों का कहना है कि अभी कुछ और विधायक भी इस्तीफा दे सकते हैं।

  1. श्री हरदीप सिंह डंग विधानसभा क्षेत्र सुवासरा जिला मंदसौर से विधायक है। 
  1. श्री हरदीप सिंह डंग अपने क्षेत्र के लोकप्रिय कांग्रेस नेता हैं। 
  1. श्री हरदीप सिंह डंग मंदसौर लोकसभा क्षेत्र में एकमात्र कांग्रेस विधायक हैं। 
  1. श्री हरदीप सिंह डंग जमीनी कांग्रेस कार्यकर्ता है एवं किसी भी गुट में शामिल नहीं है।