Loading...    
   


कपड़ा व्यापारी को हनीट्रैप गैंग ने फंसाया, ध्यान से पढ़िए ताकि आप बचे रहें | INDORE NEWS

इंदौर। हनी ट्रैप गैंग ने एक कपड़ा व्यापारी को इतनी चतुराई से अपने जाल में फंसाया कि कोई कितना भी सतर्क रहें, उनके जाल में फंसने से बच नहीं सकता था। यह घटनाक्रम समाज के लगभग हर पुरुष के लिए जानना बेहद जरूरी है। ताकि वह सतर्क रहें और वक्त आने पर अपने आप को बचा सके।

साथी व्यापारी ने बातों के जाल में उलझाया

अन्नपूर्णा थाने के एसआई तोसीफ अली के अनुुसार सुदामा नगर में रहने वाले कपड़ा मार्केट के दलाल शिवनारायण पोरवाल की रिपोर्ट पर उनके परिचित बलराम (31) पिता नटवर चाणक निवासी 519 ए सुदामा नगर और उसकी दोस्त आशू उर्फ आरती (42) पिता बद्रीलाल वर्मा निवासी सुदामानगर को गिरफ्तार किया है। पोरवाल ने पुलिस को बताया कि वे बलराम और उसके पिता दोनों को जानते हैं। बलराम भी कपड़ा मार्केट में दलाल है। उसे पोरवाल ने अपना बिजली का बिल भरने के लिए 450 रुपए दिए थे। दस दिन बाद जब उसने रुपए जमा नहीं करवाए तो पोरवाल ने तकादा लगाया। इस पर बलराम ने उन्हें शुक्रवार दोपहर में यशवंत निवास रोड स्थित राजवाड़ा पर मिलने बुलाया। पोरवाल वहां पैदल पहुंच तो बलराम ने अपनी एक्टिवा पर उन्हें बैठाया। बोला कि हरसिद्धी पर किसी व्यक्ति से 2000 रुपए लेना है। वो लेकर देता हूं। 

थाने का पता पूछने के बहाने महिला बैठी पीछे

बलराम ने हरसिद्धी पर जाकर गाड़ी रोकी। तभी एक महिला (आरती) आई बोली कि छत्रीपुरा थाना किधर है। पोरवाल ने उसे एड्रेस बताया तो महिला ने उसे धमकाया। बोली कि मुझे छेड़ रहा है, अब तुझे बंद करवाउंगी। तभी बलराम ने कहा कि चलो थाने चलते हैं। बलराम बाइक पर बैठा, बीच में पोरवाल और पीछे महिला को बैठा लिया। वे सीधे लालबाग में एकांत जगह पर पहुंचे। बलराम ने चाकू निकालकर मारने का बोलकर धमकाया और महिला पोरवाल की जेब से 7 हजार रुपए निकाल लिए। फिर बलराम बोला कि यदि छेड़छाड़ से बचना है तो 50 हजार कि फिरौती देना होगी। उसके बाद हर महीने 5 हजार रुपए देना होंगे। पोरवाल ने बलराम से कहा कि परिचित होने के बाद भी तो ऐसी हरकत क्यों कर रहा है। इस पर महिला ने अपने वस्त्र खोलने का डर दिखाया।

CCTV कैमरे ने बचाया

पोरवाल ने अपने ससुर को फोन लगाया। आरोपी ने लाउड स्पीकर चालू करवा दिया। फिर पोरवाल ने ससुर से कहा कि उन्हें 50 हजार रुपए चाहिए, वो लेकर गंगवाल बस स्टैंड पहुंचे। तब तक उन्हें वहां बंधक जैसा बनाकर रखा। ससुर ने गंगवाल बस स्टेंड पर दोस्त अजय शर्मा की दुकान पर पहुंचने की जानकारी दी। इस पर बलराम अपनी गाड़ी पर पोरवाल और महिला को बैठाकर वहां पहुंचा। वहां शर्मा की दुकान पर सीसीटीवी कैमरे देख पोरवाल को छोड़कर भाग गए। उसके बाद पोरवाल ने अपने दोस्त व ससुर को जानकारी दी। उन्होंने तत्काल थाने पर रिपोर्ट दर्ज करने को कहा। वहां पुलिस ने केस दर्ज किया और सिपाही मंगल सिंह बघेल व जोगेश लश्करी की टीम ने दोनों को केशर बाग रोड के कोने से शराब दुकान के पास से गिरफ्तार कर लिया। दोनों के खिलाफ पहले से मारपीट और वसूली के केस दर्ज हैं। उनसे लूटा गया माल और आधार कार्ड भी बरामद हो गया है।


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here