Loading...    
   


ज्योतिरादित्य सिंधिया को भाजपा विधायक ने पित्रेश्वर पर्वत बुलाया | jyotiraditya scindia news

इंदौर। कांग्रेस में विवाद हुआ और भाजपा के लोग चूक जाएं ऐसा तो हो ही नहीं सकता। शिवराज सिंह सहित कई भाजपा नेताओं के बाद कैलाश विजयवर्गीय की टीम के विधायक रमेश मेंदोला ने भी कुछ ऐसा ही किया है। उन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया को इंदौर के पित्रेश्वर पर्वत पर बुलाया है। यहां कैलाश विजयवर्गीय ने हनुमान जी की अष्टधातु की प्रतिमा स्थापित की है। रमेश मेंदोला ने ज्योतिरादित्य सिंधिया को प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आमंत्रित किया है। पत्र में यह भी लिखा है कि इसे राजनीति से जोड़ कर ना देखें परंतु रमेश मेंदोला ने पत्र को सार्वजनिक भी कर दिया। कुल मिलाकर रमेश मेंदोला ने चुटकी तो ले ही ली।

पीड़ा के चरणों में हनुमान जी ज्योतिरादित्य सिंधिया को साहस और शक्ति देंगे

भाजपा विधायक रमेश मेंदोला ने पत्र ​में लिखा है, ''ज्योतिरादित्य जी, नमस्कार. कांग्रेस के वचन पत्र की याद दिलाने पर मुख्यमंत्री कमलनाथ जी ने मीडिया के माध्यम से सार्वजनिक तौर पर आपके साथ जैसा व्यवहार किया वो दुःखद और पीड़ादायी है। उससे आपकी पीड़ा का अंदाजा लगाया जा सकता है। हनुमान जी को कलयुग का जागृत देव माना जाता है। हनुमान जी सबके संकट और पीड़ा हर लेते हैं। हनुमान चालीसा भी यही कहती है, संकट कटे मिटे सब पीरा जो सुमरे हनुमत बलवीरा। मुझे विश्वास है कि पीड़ा के इन क्षणों में हनुमान जी की भक्ति आपको शक्ति और साहस देगी। इस पत्र के माध्यम से मैं आपको इंदौर में श्री पितरेश्वर हनुमान धाम के प्राण प्रतिष्ठा समारोह में आमंत्रित करता हूं। भाजपा के महासचिव कैलाश जी के संकल्प के अनुरूप यहां अष्टधातु से निर्मित हनुमान जी की विश्व की सबसे विराट और दिव्य प्रतिमा स्थापित की गई है।"

ज्योतिरादित्य सिंधिया को अन्याय से लड़ने और जीतने की शक्ति मिलेगी

मेंदोला ने आगे लिखा है, "इस विराट प्रतिमा के समक्ष, साधु-संतों के सानिध्य में सुंदरकांड या हनुमान चालीसा का पाठ आपको अपनी पार्टी से मिली चुनौती को पूरा करने और आपकी पार्टी में आपके साथ हो रहे अन्याय से लड़ने और जीतने की शक्ति देगा। 14 फरवरी से शुरू हुआ प्राण प्रतिष्ठा समारोह 3 मार्च तक चलेगा। इसका औपचारिक आमंत्रण पत्र इस पत्र के साथ संलग्न है। कृपया अपने आने की पूर्व सूचना प्रेषित करें और हां, एक बात और ये आमंत्रण बहुत शुभ भाव से प्रेषित है इसमें राजनीति या कोई और अर्थ मत तलाशिएगा।''


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here