हेरिटेज ट्रेन में इंटरेस्ट नहीं ले रहे इंदौर के लोग, फिर बंद होने की कगार पर | INDORE NEWS
       
        Loading...    
   

हेरिटेज ट्रेन में इंटरेस्ट नहीं ले रहे इंदौर के लोग, फिर बंद होने की कगार पर | INDORE NEWS

इंदौर। अंग्रेजों के जमाने की पटरियों पर महू से पातालपानी, कालाकुंड तक जाने वाली हेरिटेज ट्रेन एक बार फिर बंद होने की कगार पर आ गई है। इंदौर के लोग इस हेरिटेज ट्रेन में इंटरेस्ट नहीं ले रहे हैं जबकि इंदौरियों को घूमना फिरना और खाना-पीना काफी अच्छा लगता है। रेलवे को चाहिए कि वह इस हेरिटेज ट्रेन की प्लानिंग को एक बार फिर रिव्यू करें, क्या बात है कि हेरिटेज ट्रेन टूरिस्ट को आकर्षित नहीं कर पा रही है। 

5 कोच की ट्रेन थी, एक कम हो गया

रेलवे ने महू से पातालपानी, कालाकुंड के बीच अंग्रेजाें के जमाने में बने मीटर गेज ट्रैक पर हेरिटेज ट्रेन की शुरुआत की थी। अब फरवरी आते-आते एक बार फिर से ट्रेन में यात्रियाें का दबाव कम हाे गया है। रेलवे ने फरवरी की शुरुआत में ही इसे चार काेच का कर दिया है। साेमवार काे महू से चली हेरिटेज ट्रेन में जनरल के 40 व स्पेशल काेच के करीब 12 टिकट बिके। जनरल के एक काेच की खिड़की नहीं खुली।

गर्मियां शुरू नहीं हुई, यात्रियों का टोटा पड़ गया

फरवरी में ही यात्रियाें ने ट्रेन में आना बंद कर दिया है। जबकि अभी माैसम में ठंडक है वह पातालपानी-कालाकुंड की वादियां पूरी तरह से सूखी नहीं है। इसके अलावा नदियाें में भी थाेड़ा पानी है। इसके बावजूद यात्री ट्रेन में सफर के लिए रूचि नहीं दिखा रहे है। मार्च, अप्रैल में तापमान 40 डिग्री तक जाएगा वहीं वादियां व नदियां भी सूख जाएगी। ऐसे में इतनी गर्मी में इस ट्रेन में यात्री सफर के लिए कैसे पहुंचेंगे। इस पर रेलवे काे काेई ठाेस प्लान बनाने की जरूरत है।

पिछले साल वीकली हो गई थी हेरिटेज ट्रेन

पिछले साल भी यात्रियाें के अभाव में रेलवे काे ट्रेन काे बंद करने का निर्णय लेना पड़ा था। इसमें रेलवे ने अप्रैल से लेकर जून के बाद सप्ताह में दाे दिन सिर्फ शनिवार व रविवार काे ही ट्रेन चलाने का निर्णय लिया था। इस बार भी ऐसी ही स्थिति बनती दिख रही है। क्याेंकि रेलवे गर्मी काे लेकर ट्रेन चलाने पर फाेकस नहीं कर रही है।

डीआरएम रतलाम विपिन गुप्ता का बयान

रतलाम मंडल के डीआरएम विपिन गुप्ता का कहना है हेरिटेज का एक काेच कम करने की जानकारी नहीं है। लेकिन गर्मी में वादियां व झरने सूखने से इस रूट का आकर्षण कम हाे जाएगा। इसलिए इसमें यात्री भी कम आएंगे। ऐसे में इस ट्रेन में यात्री आएं इसलिए हम अगले सप्ताह आईआरसीटीसी से अगले सप्ताह बैठक करने वाले हैं। इसमें हम कालाकुंड व पातालपानी में एडवेंचर गतिविधि शुरू करने काे लेकर चर्चा करेंगे।