Loading...

हार्दिक पटेल अंडर ग्राउंड, 20 दिन से तलाश रही है पुलिस, पत्नी किंजल ने मोर्चा संभाला | GUJARAT NEWS

नई दिल्ली। गुजरात की राजनीति करवट ले रही है। एक बार फिर पाटीदार आंदोलन सुलग रहा है। हार्दिक पटेल अंडर ग्राउंड है। 20 दिन से पुलिस उनकी तलाश कर रही है। इस बीच अहमदाबाद में पाटीदार अमानत आंदोलन समिति की बैठक का आयोजन किया गया। इस मीटिंग में हार्दिक पटेल तो नहीं आई लेकिन उनकी पत्नी किंजल पटेल ने मोर्चा संभाला। मीटिंग में तय किया गया कि उचित समय आते ही सभी पाटीदार भाजपा और कांग्रेस पार्टी या छोड़कर बाहर निकल आएंगे। गुजरात में शायद किसी नई पार्टी के गठन की तैयारी चल रही है।

नवसारी से वापस लौटने के बाद पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के कन्वीनर अल्पेश कथिरिया ने सोमवार को अहमदाबाद में पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (PAAS) समिति की एक मीटिंग बुलाई। इस मीटिंग में पास के सभी कन्वीनर शामिल हुए। वहीं इस मीटिंग में एक चेहरा सबको आश्चर्य में डालने वाला दिखा वो थीं हार्दिक पटेल की पत्नी किंजल पटेल। यही नहीं उन्हें स्टेज पर जगह भी दी गई। मीटिंग में किंजल ने अनामत का मुद्दा उठाते हुए कहा, 'हमने 10 फीसदी अनामत दिलाई है पर अभी भी इसका पूरा फायदा अभी तक मिला नहीं है।'

अहमदाबाद में सोमवार को पाटीदार अनामत आंदोलन समिति की बैठक हुई। इसमें कन्वीनर अल्पेश कथिरिया समेत पाटीदार अनामत आंदोलन समिति के सभी सदस्य इसमें शामिल हुए। बैठक के दौरान पाटीदार युवाओं पर हुए केस को लेकर भी चर्चा हुई। साथ ही में हार्दिक पटेल का मुद्दा भी उठाया गया।

हार्दिक पिछले कई दिनों से लापता हैं और पुलिस हार्दिक को ढूंढ रही है। हार्दिक की पत्नी किंजल सरकार पर पहले भी आरोप लगा चुकी हैं कि सरकार हार्दिक को निशाना बना रही है। बताया जा रहा है कि किंजल ने इस बात को सार्वजनिक मंच से भी बोला था।

वहीं मीटिंग में हार्दिक की पत्नी किंजल ने आक्रमक तेवर दिखाते हुए फिर एक बार सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, 'अपना समय आएगा तब तानाशाहों के पते बदल देंगे। मेरे पति 20 दिन से वापस नहीं लौटे हैं। हम सबकी विचारधाराएं अलग हो सकती हैं पर हम सबको समय आने पर कांग्रेस-भाजपा छोड़ सबको एक होने की जरूरत है।'

अहमदाबाद में आयोजित इस मीटिंग में फैसला लिया गया है। पाटीदार आंदोलन के दौरान पाटीदार युवाओं पर हुए पुलिस केस को लेकर जिन्होंने सरकार के साथ मध्यस्थता की थी। उनसे भी मुलाकात की जाएगी। साथ ही केस वापस लेने के लिए बातचीत होगी। वहीं हार्दिक पटेल के मुद्दे को लेकर राज्यभर में प्रशासन को ज्ञापन सौंपा जाएगा।