नहीं तो आज आग लगा देता मैं इंदौर में: कैलाश विजयवर्गीय का VIDEO वायरल, यहां देखें | INDORE NEWS
       
        Loading...    
   

नहीं तो आज आग लगा देता मैं इंदौर में: कैलाश विजयवर्गीय का VIDEO वायरल, यहां देखें | INDORE NEWS

इंदौर। भारतीय जनता पार्टी के नेता कैलाश विजयवर्गीय एक बार फिर सुर्खियों में है। उनके बेटे विधायक आकाश विजयवर्गीय ने नगर निगम के कर्मचारी पर क्रिकेट का बल्ला मारा था। कैलाश विजयवर्गीय ने आज इंदौर के कमिश्नर के प्रति आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया। वह इस कदर भड़क उठे, उन्होंने यह तक कह डाला कि ' वह तो संघ के पदाधिकारी हैं साथ में, नहीं तो आज आग लगा देता मैं इंदौर में।'

क्या नजर आ रहा है वीडियो में 

वीडियो में कैलाश विजयवर्गीय के साथ विधायक रमेश मेंदोला साफ नजर आ रहे हैं। कैलाश विजयवर्गीय बोल रहे हैं " उनके पास समय नहीं है, इतने बड़े हो गए क्या इतनी औकात हो गई क्या उनकी। हम राइटिंग में पत्र दे रहे हैं कि हम आपसे मिलना चाहते हैं, इतने बड़े अधिकारी हो गए क्या। उनको समझना चाहिए कि वह जनता के नौकर हैं। आखिर कोई प्रोटोकॉल होता है कि नहीं होता है, यह चिट्ठी लिखी है कि हम मिलना चाहते हैं। आप यह भी सूचना नहीं दोगे कि हम बाहर हैं शहर के। हम बर्दाश्त नहीं करेंगे अब। वह तो हमारे संघ के पदाधिकारी हैं नहीं तो आज आग लगा देता मैं इंदौर में।"

मामला क्या है
इंदौर में अतिक्रमण और भू-माफिया के ख़िलाफ प्रशासन की कार्रवाई जारी है। बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने नगर निगम और प्रशासन पर नियम विरुद्ध काम करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा शहर में नियम विरुद्ध मकान तोड़े जा रहे हैं। खासतौर से बीजेपी कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया जा रहा है। विजयवर्गीय ने कहा मैंने ऐसे 167 कांग्रेस कार्यकर्ताओं की सूची प्रशासन को दी है जिन्होंने अवैध कब्ज़े कर रखे हैं लेकिन उनके खिलाफ कार्रवाई ना कर बीजेपी कार्यकर्ताओं को निशाना बनाया जा रहा है। कैलाश विजयवर्गीय ने चेताया कि अब अगर हमारे कार्यकर्ताओं पर कार्रवाई की गयी तो हम विरोध करेंगे। राजनेता और अधिकारी मुगालते में ना रहें। बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने अधिकारियों को धमकी देते हुए कहा- मेरा कमर के नीचे वार न करने का संकल्प टूट भी सकता है।

कमिश्नर के बंगले पर धरना
उसके बाद कैलाश विजयवर्गीय अपने तमाम समर्थकों और नेताओं के साथ कमिश्नर आकाश त्रिपाठी के बंगले के बाहर धरना देकर बैठ गए। उनके साथ सांसद शंकर लालवानी, विधायक रमेश मेंदोला, गोपीकृष्ण नेमा, राजेश सोनकर भी हैं।