मुख्यमंत्री ने SHAHDOL के CMHO और सिविल सर्जन को हटाया
       
        Loading...    
   

मुख्यमंत्री ने SHAHDOL के CMHO और सिविल सर्जन को हटाया

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ के निर्देश पर लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट और शहडोल जिला प्रभारी आदिम जाति कल्याण मंत्री श्री ओमकार सिंह मरकाम ने शहडोल पहुँचकर वहाँ जिला अस्पताल में 6 बच्चों की असामयिक मृत्यु के संबंध में विस्तृत जानकारी प्राप्त की। 

मंत्री श्री सिलावट ने शहडोल के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी और सिविल सर्जन (सीएमएचओ डॉ. राजेश पांडेय और सिविल सर्जन डॉ. उमेश नामदेव) को वर्तमान दायित्व से तुरंत हटाने के निर्देश दिये। बच्चों की मृत्यु की घटना की जाँच पश्चात अन्य आवश्यक कार्यवाही भी की जाएगी। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री कमल नाथ ने शहडोल की घटना को गंभीरता से लिया है। उनके निर्देश हैं कि ऐसी घटनाओं के दोषी अधिकारियों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही की जाये।

मंत्री श्री सिलावट ने कहा कि प्रदेश के सभी संभागायुक्तों की अध्यक्षता में विशेष कार्य दल गठित कर बच्चों के उपचार के लिये स्थापित अस्पतालों की चाइल्ड केयर यूनिट और संबंधित उपचार इकाइयों के निरीक्षण का कार्य कराया जायेगा। दल में संबंधित जिला कलेक्टर, सिविल सर्जन और सीएमएचओ के साथ ही विशेषज्ञ भी शामिल रहेंगे। यह दल उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी प्राप्त करेगा और व्यवस्थाओं को बेहतर बनाने के लिये अध्ययन कर राज्य सरकार को प्रतिवेदन सौंपेगा।

मंत्री द्वय ने चिकित्सकीय व्यवस्थाओं को सुधारने और वार्डों की उचित साफ-सफाई के निर्देश दिये। उन्होंने रोगियों को शुद्ध पेयजल उपलब्ध कराने के लिये आर.ओ. लगाने के निर्देश दिये। मंत्रीद्वय ने अस्पताल में भर्ती रोगियों और उनके परिजनों से बातचीत कर उन्हें मिल रही सुविधाओं की जानकारी प्राप्त की।

भोपाल में भी हुई समीक्षा बैठक

मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने शहडोल रवाना होने के पूर्व भोपाल में बैठक लेकर प्रदेश भर में बच्चों के उपचार के लिये संचालित इकाइयों की कार्य पद्धति पर विस्तृत प्रतिवेदन तैयार करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि जिलों में अस्पतालों की चाइल्ड केयर यूनिट में सभी आवश्यक संसाधन की उपलब्धता और उपयोगिता बताने के लिये भी कहा।