अमित शाह जी, जनता नहीं मप्र के माफिया शिवराज सिंह को याद कर रहे हैं: कांग्रेस | MP NEWS

भोपाल। मध्य प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने जबलपुर में गृहमंत्री श्री अमित शाह द्वारा प्रदेश के मुख्यमंत्री एवं देश के अन्य मुख्यमंत्रियों के बारे में जिस भाषा का प्रयोग किया है ,वह निंदनीय है ।शाह जी यह भूल गए हैं कि वे देश के गृह मंत्री हैं ।उन्हें अपनी नहीं तो देश की मर्यादा का ध्यान रखना चाहिए।

गुप्ता ने कहा कि देश में ऐसा पहली बार हो रहा है कि किसी कानून को समझाने के लिए सरकार को घर घर जाना पड़ रहा है ।समझाने वाली इस  सभा में वे कानून को तो नहीं समझा पा रहे हैं लेकिन विपक्ष के सारे नेताओं को गाली देकर वह इस कानून की महत्ता को सिद्ध करना चाहते हैं ,यह तो और भी दुर्भाग्यपूर्ण है ।

गुप्ता ने गृह मंत्री अमित शाह जी से प्रश्न किया है कि अगर कानून अच्छा है और वे उसे समझाने में भी सक्षम है तो आसाम के मुख्यमंत्री को जाकर क्यों नहीं समझाते वे तो उनकी पार्टी के ही हैं, लेकिन विरोध कर रहे हैं । वे जब पूरे देश में दौरा कर रहे हैं तो आसाम और उत्तर-पूर्व के दौरे रद्द क्यों कर रहे हैं ? वे वहां जाने की और लोगों को नागरिकता संशोधन कानून समझाने की कोशिश  क्यों नहीं कर पा रहे हैं। उन्हीं की पार्टी के संसद सदस्य इस कानून के विरोध में त्यागपत्र क्यों दे रहे हैं ? जाहिर है कि यह कानून संख्या बल के आधार पर पारित हुआ है जनमत के आधार पर नहीं ।

 गुप्ता ने हैरानी जाहिर की कि श्री शाह को मध्यप्रदेश में बन रही गौशालाओं की जानकारी दूरबीन से देखने पर भी नहीं मिल पा रही है जबकि पूरे प्रदेश में गौशालाओं का निर्माण तेजी से चल रहा है ।जब गौशालायें मार्च तक जनता के सामने आएंगी तो भा जा पा की आंखें फटी रह जाएंगीं। कमलनाथ सरकार को दो-दो हाथ करने की चेतावनी देने वाले भाजपा नेता से उन्होंने आग्रह किया कि वह झारखंड महाराष्ट्र और हरियाणा के परिणामों से शिक्षा लें और लोकतंत्र का सम्मान करें ।गुप्ता ने उनके इस बयान को  हास्यास्पद बताया है जिसमें उन्होंने कहा था कि प्रदेश की जनता शिवराज सिंह को याद कर रही है गुप्ता ने स्वीकारा की चंद माफिया जरूर शिवराज जी को याद कर रहे हैं जिन पर कमलनाथ सरकार कहर की तरह टूट पड़ी है और उससे भाजपा की सप्लाई चैन गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो चुकी है । आज प्रदेश की जनता नैतिक मूल्यों के साथ खड़ी है माफिया की शक्ति से सत्ता चलाने वाले लोगों को जनता ने उखाड़ दिया है।  भविष्य में भी जनता लोकतंत्र को नष्ट करने वाले प्रयासों को.फिर से धूल चटायेगी।