eSAATHI CHANDIGARH APP DOWNLOAD करें, पुलिस की मदद मिलेगी

चंडीगढ़ शहर में क्राइम पर अंकुश लगाने के लिए शहरवासी भी सहयोग करें। अपनी समस्या और गुप्त जानकारी देने के लिए थाने में नहीं जाना पड़ेगा। बस आपको पुलिस के 'ई-साथी' मोबाइल एप पर जानकारी देनी होगी। पीजी संचालक, नौकरों और अन्य लोगों की पुलिस वेरीफिकेशन के लिए भी इस मोबाइल एप का इस्तेमाल किया जा सकता है। यह बात चंडीगढ़ के डीजीपी संजय बेनीवाल ने सेक्टर-15 के कम्युनिटी सेंटर में चंडीगढ़ रेजिडेंट्स एसोसिएशंस वेलफेयर फेडरेशन 'क्राफेड' एग्जीक्यूटिव कमेटी की मीटिंग में कही।

डीजीपी ने बताया कि कुछ लाेग इस एप को डाउनलोड करते हुए डर रहे हैं कि कहीं पुलिस उनका डाटा न चुरा ले। डीजीपी ने चुटकी लेते हुए कहा कि 'मीठी आवाज में कोई महिला फोन करके आपसे कोई डिटेल मांगती है तो उसे तो आप सब कुछ बता देते हैं'।

बेनीवाल ने कहा कि इस एप की खूबसूरती यह है कि इसके जरिए आपको राह चलते कहीं कोई दिक्कत हो रही है, किसी के खिलाफ शिकायत देना चाहते हैं तो वहीं से अपनी बात रख सकते हैं। पुलिस से आप जो उम्मीद रखते हैं, वह सब इस एप पर है।

क्राइम को कंट्रोल करना है तो आपको पहल करनी होगी...

डीजीपी ने रेजिडेंट्स से कहा कि शहर में क्राइम को कंट्रोल करना है तो लोगों को भी इसमें पहल करनी होगी। लोगों को आगे आना होगा। यहां पर मैं आप लोगों को मुझसे क्या उम्मीद है और मैं आपके लिए क्या कर सकता हूं, इसलिए आपसे सीधे संवाद के लिए आया हूं। आरडब्ल्यू के नुमाइंदों से गुजारिश है। आपके सेक्टर में शरारती तत्व बैठे हैं और वे लड़कियों पर फब्तियां कस रहे हैं तो इसकी जानकारी आपको ज्यादा है।

यही बात अगर पुलिस को बताएंगे तो हमारा काम आसान होगा। हमने सेक्टरों में ई-बीट्स बनाए हैं। आप अपने-अपने सेक्टर से 15 लोग मिलकर सेक्टर की दिक्कतों पर बात करें। उसके मिनट्स बनाएं और यह मिनट्स मेरे पास भेजें।

अगर आपके सेक्टर में कोई अनजान व्यक्ति घूम रहा है तो उसे पूछें कि वह कौन है और कहां से आया है? आपके इतना मात्र करने से वह डर जाएगा और दोबारा कोई अनजान आपके सेक्टर में नहीं आए। आपसे एक गुजारिश है कि आपकी शिकायत पर जब मेरा जवान अगर आपके पास आए तो उससे डरें नहीं, उसे सबकुछ बताएं और उसे बिठाकर एक गिलास पानी पिलाएं।
eSaathi Chandigarh Police esathi APP DOWNLOAD करने के लिए यहां क्लिक करें