BHOPAL में SBI के क्लर्क, शिक्षक दंपति के बेटे ने सुसाइड किया

भोपाल। चिनार ग्रीन सिटी में रहने वाले स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के क्लर्क ने छठवीं मंजिल से कूदकर जान दे दी। ये कदम उठाने के कुछ देर पहले ही उन्होंने मां से कहा था कि मंदिर चलते हैं। पिता ने मिसरोद पुलिस को बताया है कि वह काफी समय से डिप्रेशन में था। इंजीनियरिंग करने के बाद क्लर्क की जॉब से भी वह संतुष्ट नहीं था।

अभिनव श्रीवास्तव ने मां से मंदिर चलने को कहा फिर छत पर जाकर कूद गया

चिनार ग्रीन सिटी निवासी 27 वर्षीय अभिनव श्रीवास्तव इन दिनों नरसिंहगढ़ एसबीआई में क्लर्क थे। मार्च 2019 में ही वह यहां पदस्थ हुए थे। पिता यतेंद्र पचोर में शिक्षक और मां किरण मंडीदीप में शिक्षिका हैं। छोटी बहन शानू इन दिनों बेल्जियम में है। एएसआई शिवबाबू त्रिपाठी के मुताबिक शनिवार को अभिनव ने मां से मंदिर चलने के लिए कहा था। शाम 4 बजे वह कॉलोनी की छत (छठवीं मंजिल) पर पहुंच गए। कुछ मिनट बाद ही कुछ गिरने की आवाज सुनकर मां ने बाहर झांका। देखा कि इकलौता बेटा अभिनव जमीन पर गिरे हैं और शरीर से खून निकल रहा है। पड़ोसियों की मदद से उन्होंने अभिनव को अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। रात करीब आठ बजे हमीदिया से मिली सूचना के बाद मिसरोद पुलिस पहुंची और मर्ग कायम कर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

योग्यता अनुसार जॉब नहीं मिलने के कारण डिप्रेशन में था

एएसआई ने बताया कि अभिनव का डिप्रेशन का इलाज जारी था। उनका मन हल्का करने के लिए पिता यतेंद्र उन्हें शुक्रवार को बाजार भी ले गए। नए कपड़े दिलवाए, फिर भी उनका तनाव कम नहीं हुआ। डिप्रेशन के कारण अभिनव का वजन काफी बढ़ गया था। इसलिए डॉक्टर ने उन्हें साइकिलिंग की सलाह दी थी। जान देने से कुछ देर पहले वह साइकिलिंग करके ही घर लौटे थे।

इंजीनियरिंग पास करने के बाद क्लर्क की जॉब मिली थी

चाचा सौरभ श्रीवास्तव ने बताया कि कुछ समय से अभिनव ने इलाज के लिए छुट्टी ली थी। दोबारा ज्वाइन किया तो बैंक प्रबंधन मेडिकल फिटनेस सर्टिफिकेट मांग रहा था। अभिनव इंजीनियरिंग कर चुके थे। क्लर्क के तौर पर नौकरी करने से भी वह संतुष्ट नहीं था।