Loading...    
   


बेटा नहीं बेटी ने धोखे से पिता का मकान हड़प लिया | BHOPAL NEWS

भोपाल। वृद्ध माता-पिता के मामलों में ज्यादातर यह सामने आता है कि बेटा अपने पिता की संपत्ति पर बुरी नजर रखता है और बेटी माता पिता की सेवा करती है परंतु इस कहानी में उल्टा हुआ है। यहां बेटा अपने पिता की सेवा कर रहा है और बेटी ने जालसाजी करके उनका मकान हड़प लिया। 

एक घर में कुल 17 लोग रहते हैं, सभी बेघर हो जाएंगे

इस मकान में कुल 17 लोग रहते हैं। इनमें से दो मकान मालिक वृद्ध दंपति हैं, उनके बेटे बहू और उसके अलावा शेष सभी परिवार के वह लोग हैं जिन्हें पिता ने आश्रय दिया है। पिता की समस्या यह है कि यदि मकान हाथ से निकल गया तो सभी 17 लोग सड़क पर आ जाएंगे। इधर बेटी धोखे से हड़प लिए मकान को बेचने की फिराक में है। अपनी ही बेटी के हाथों धोखाधड़ी का शिकार हुए पिता ने कलेक्टर, एसडीएम, सीएम हेल्प लाइन सहित सब जगह गुहार लगाई, लेकिन दान पत्र रजिस्टर होने के कारण कोई कार्रवाई नहीं हुई। इस पर बुजुर्ग ने अब फैमिली कोर्ट में दान पत्र निरस्त करने के लिए आवेदन दिया है। मामला फैमिली कोर्ट के प्रधान न्यायधीश आरएन चंद के यहां विचाराधीन है।

जाल साज बेटी की कहानी: प्यारेलाल की शिकायत के अनुसार

सरदार पटेल नगर निवासी प्यारेलाल को सरकारी योजना के तहत 1960 में घर मिला था। इस योजना की शर्त थी कि मकान को बिना कलेक्टर की अनुमति के न तो बेच सकते हैं और न ही दान कर सकते हैं। दो साल पहले बेटी ने हमे अपने घर बुलाया और कहा कि नए नियमों के अनुसार घर की नई रजिस्ट्री करानी पड़ेगी। इसके बाद वह उन्हें रजिस्ट्रार के ऑफिस ले गई और दानपत्र तैयार करा घर खुद के नाम करा लिया। दामाद बीएचईएल में कर्मचारी हैं। प्यारेलाल ने बताया कि उन्होंने इसके संबंध में मंगलवारा थाने में भी शिकायत है। वे कलेक्टर से लेकर सीएम हेल्पलाइन तक शिकायत कर चुके हैं, लेकिन दान पत्र निरस्त नहीं हो सका। अब उन्होंने फैमली कोर्ट में गुहार लगाई है।

विवादित मकान में कौन-कौन रहता है

प्यारेलाल ने बताया कि उनके तीन बेटे और दो बेटियां हैं। दो बेटों की मौत हो चुकी है। उनकी विधावाएं और बच्चे, एक विधवा बेटी और उसके बच्चे इसी मकान में रह रहे हैं। यानि कुल 17 लोगों के लिए यही एक छत हैं। मेरी मौत की मौत के बाद बड़ी बेटी सबको बाहर करके मकान बेच देगी। प्यारेलाल ने बताया कि पत्नी को जब इस बात की जानकारी लगी तो उसकी सदमे से मौत हो गई। बेटी मीना ने मां का दाह संस्कार कराया और बाद में मां के दाह संस्कार में खर्च हुई राशि मांगने लगी।


भोपाल समाचार: टेलीग्राम पर सब्सक्राइब करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here
भोपाल समाचार: मोबाइल एप डाउनलोड करने के लिए कृपया यहां क्लिक करें Click Here