नए साल के पहले दिन उज्जैन का प्लान बनाया है तो इस न्यूज़ को ध्यान से पढ़ें | NEW YEAR SPACIAL
       
        Loading...    
   

नए साल के पहले दिन उज्जैन का प्लान बनाया है तो इस न्यूज़ को ध्यान से पढ़ें | NEW YEAR SPACIAL

भोपाल। 1 जनवरी भले ही अंग्रेजी कैलेंडर का न्यू ईयर होता हो परंतु भारत में तो धार्मिक भक्ति भाव से मनाया जाता है। नए साल के पहले दिन की शुरुआत लोग अपने आस्था केंद्रों से करते हैं। स्नानादि करके मंदिर जाते हैं। इष्ट देव के दर्शन करने के बाद ही प्रसाद ग्रहण करते हैं। यदि 1 जनवरी 2020 को आप उज्जैन जाने की योजना बना रहे हैं तो कृपया इस खबर को ध्यानपूर्वक पढ़ें क्योंकि 1 जनवरी 2020 को उज्जैन के महाकाल, हरसिद्धि शक्तिपीठ एवं चिंतामन गणेश की दर्शन व्यवस्था आम दिनों से अलग होगी।

स्वर्ण महल में होंगे हरसिद्धि माता के दर्शन

इस दिन मंदिर में भी विशेष आयोजन होंगे। चामुंडा चौराहा स्थित श्री क्षत्रेश्वरी चामुंडा माता मंदिर में नए साल के पहले दिन भक्तों को माता के स्वर्ण महल में दर्शन होंगे। शक्तिपीठ हरसिद्धि में सुबह व शाम दीपमालिका सजाई जाएगी। चामुंडा माता मंदिर के पुजारी पं.सुनील चौबे ने बताया 1 जनवरी को लेकर तैयारी शुरू हो गई है। इस बार मंदिर के गर्भगृह को स्वर्ण महल का रूप दिया जाएगा। सभामंडप में देशी विदेशी फूल तथा फूलों से सज्जा की जाएगी। सुबह छह बजे माता को छप्पन पकवानों का भोग लगाकर आरती की जाएगी।

मान्यता: 1 जनवरी को दर्शन करने से साल भर सुख समृद्धि रहती है

भक्तों को दिनभर हलवा प्रसादी का वितरण होगा। इधर शक्तिपीठ हरसिद्धि में भक्तों के सहयोग से दीपमालिका सजेगी। प्रबंधक अवधेशी जोशी ने बताया लोक परंपरा में सामान्य कामकाज अंग्रेजी महीने की तारीख के अनुसार होता है। इसलिए भक्त नए साल के पहले दिन माता के दर्शन करने आते हैं। भक्तों की मान्यता है इससे वर्षभर सुख समृद्धि रहती है। भक्तों द्वारा ही मंदिर में दीपमालिका प्रज्वलित कराई जाती है।

1 जनवरी को बुधवार इसलिए चिंतामन गणेश पर होंगे विशेष इंतजाम

चिंतामन गणेश में उमड़ेंगे भक्त साल 2020 की शुरुआत बुधवार के दिन हो रही है। ऐसे में चिंतामन गणेश के दर्शन के लिए आस्था का सैलाब उमड़ेगा। पं.शंकर पुजारी ने बताया प्रत्येक बुधवार को भगवान चिंतामन गणेश के दर्शन के लिए भक्त उमड़ते हैं। इस बार नए साल की शुरुआत बुधवार से हो रही है। ऐसे में इंदौर, देवास सहित आसपास के शहरों से भी भक्त दर्शन के लिए आएंगे। पर्व विशेष पर भगवान का आकर्षक श्रृंगार किया जाएगा। मंदिर प्रशासन भक्तों की सुविधा तथा सुगम दर्शन व्यवस्था के बेहतर इंतजाम करेगा।

महाकाल भस्म आरती की ऑनलाइन बुकिंग बंद रहेगी

ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में 31 दिसंबर व 1 जनवरी को भस्मारती की ऑनलाइन बुकिंग व्यवस्था बंद है। इन दो दिनों में जिन भक्तों को भस्मारती दर्शन की इच्छा है, उन्हें मंदिर के काउंटर से ऑफलाइन अनुमति लेना होगी। भीड़ भरे इन दिनों में गर्भगृह में प्रवेश देने का निर्णय अफसर परिस्थिति अनुसार लेंगे। अगर अत्यधिक भीड़ रही, तो भक्तों को गणेश मंडपम् से भगवान महाकाल के दर्शन होंगे।