Loading...

नागरिकता कानून का विरोध: पढ़िए पूरे भारत में कहां क्या हुआ | Citizenship Amendment Act: State wise report of protest

नई दिल्ली। शुक्रवार 20 दिसंबर 2019 का दिन सरकार के लिए काफी तनाव बना रहा। नागरिकता संशोधन कानून (सिटीजनशिप अमेंडमेंट एक्ट) के खिलाफ देशभर में विरोध भड़का। उत्तर प्रदेश में पुलिस फायरिंग के दौरान 5 जिलों में 9 लोगों की मौत हो गई। कई जिलों में पुलिस थाने और चौकी आप रोक दी गई। सरकारी अस्पतालों में 50 से ज्यादा घायल हो गए भर्ती होने की सूचना है। प्राइवेट अस्पतालों का डाटा उपलब्ध नहीं है। दिल्ली में जामा मस्जिद इलाके में प्रदर्शन के बाद पूरे शहर में तनाव फैल गया। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी इंडिया गेट पर प्रदर्शनकारियों से मिलने पहुंचीं।

2 दिनों में 11 प्रदर्शनकारियों की मौत, 100 से ज्यादा शहरों में इंटरनेट बंद, पांच राज्यों में धारा 144

गुरुवार और शुक्रवार को प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा में मरने वालों की तादाद 9 हो गई है। गुजरात में 8 हजार लोगों पर एफआईआर दर्ज की गई है। उत्तर प्रदेश में 20 जिलों में इंटरनेट सेवा बंद है। पूरे देश में 100 से ज्यादा जिलों में इंटरनेट सेवाएं बंद है। दिल्ली, गुजरात, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक और मध्य प्रदेश में धारा 144 लागू कर दी गई है। केरल के 4 जिलों में हाईअलर्ट जारी किया गया है। मध्य प्रदेश में भी मोबाइल इंटरनेट बंद कर दिया गया।

उत्तर प्रदेश में कहां क्या हुआ

गाजियाबाद, मेरठ, सुल्तानपुर, गोरखपुर, कानपुर, उन्नाव, बुलंदशहर, हाथरस, हापुड़, अमरोहा, मुजफ्फरनगर, सीतापुर, बिजनौर, मुरादाबाद, फिरोजाबाद, भदोही, वाराणसी, बहराइच, संभल, बुलंदशहर और वाराणसी में प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पथराव किया। पुलिस ने जवाबी कार्रवाई करते हुए आंसू गैस के गोले दागे। फिरोजाबाद, बुलंदशहर, कानपुर में पुलिस और प्रदर्शनकारियों में झड़प हुई। इस दौरान कई पुलिस चौकियां भी फूंकी गईं। मेरठ में दो पुलिस चौकियां फूंक दी गईं। पुलिस ने बताया कि झड़प और पत्थरबाजी के दौरान 50 पुलिसकर्मी घायल हुए हैं। उत्तर प्रदेश में रविवार को होने वाली शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) को स्थगित कर दिया गया है। परीक्षा की नई तारीख बाद में घोषित की जाएगी।

मध्य प्रदेश में कहां क्या हुआ

जबलपुर में नमाज के बाद प्रदर्शन कर रहे लोगों ने पथराव किया। इस दौरान पुलिसकर्मी जख्मी हुए। चार थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लागू कर दिया गया है। प्रदेश के 44 जिलों में 144 लागू है। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में 20,000 से ज्यादा मुसलमानों ने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन किया। भोपाल शहर का इंटरनेट बंद कर दिया गया। । हालात तनावपूर्ण हो गए थे लेकिन नियंत्रित कर लिए गए

दिल्ली में शुक्रवार को क्या हुआ

जामा मस्जिद इलाके में जुमे की नमाज के दौरान भारी तादाद में भीड़ ने नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ प्रदर्शन किया। इस दौरान भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर रावण भी वहां मौजूद थे। भीम आर्मी जंतर-मंतर तक मार्च निकालना चाहती थी, लेकिन पुलिस ने उसे इसकी इजाजत नहीं दी। यहां 12 थाना क्षेत्रों में धारा 144 लागू कर दी और फ्लैग मार्च भी निकाला। डीएमआरसी ने 6 मेट्रो स्टेशन बंद कर दिए। दिनभर शांतिपूर्ण ढंग से हुआ प्रदर्शन शाम होते-होते उग्र हो गया। दिल्ली गेट पर प्रदर्शनकारियों ने पुलिस पर पत्थरबाजी की और आगजनी की। यहां पुलिस ने वाटरकैनन और आंसूगैस का इस्तेमाल कर भीड़ को खदेड़ा। प्रियंका गांधी इंडिया गेट पर प्रदर्शन कर रहे लोगों से मिलने पहुंचीं। उन्होंने कहा कि सरकार को प्रदर्शनाकरियों से बात करने के लिए यहां आना चाहिए। उधर, जाफराबाद इलाके में पुलिस को लोगों ने गुलाब भेंट किए।

गुजरात में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध की रिपोर्ट

अहमदाबाद के हाथीखाना और फेतुपुरा इलाके में भीड़ ने पुलिस पर पथराव किया। बनासकांठा में भी प्रदर्शन के दौरान पथराव और तोड़फोड़ हुई। शुक्रवार को कांग्रेस पार्षद शहजाद खान समेत 49 लोगों की गिरफ्तारी हुई। गुरुवार को अहमदाबाद इलाके में हुई हिंसा में 21 पुलिसकर्मी घायल हुए। 5 हजार लोगों पर ईसनपुर थाने में केस दर्ज हुआ है। सूत्रों ने दिव्य भास्कर नेटवर्क को बताया कि अहमदाबाद पुलिस ने हिंसा भड़कने की इंटेलिजेंस ब्यूरो की चेतावनी को नजरअंदाज कर दिया था। 

कर्नाटक में नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में कहां क्या हुआ

मंगलौर और दक्षिण कन्नड़ जिले में प्रदर्शन हुए। यहां 21 दिसंबर को रात 10 बजे तक इंटरनेट बंद रहेगा। बेंगलुरु में स्कूल-कॉलेज बंद रखे गए हैं। मंगलौर में बस सेवा बंद कर दी गई हैं। शहर में धारा 144 अब 22 दिसंबर तक बढ़ाई गई हैं। मंगलौर में प्रदर्शनकारियों ने गुरुवार को पुलिस स्टेशन में आग लगाई थी। पथराव में 20 पुलिसकर्मी जख्मी हो गए थे। पुलिस की फायरिंग में 2 लोगों की मौत हो गई थी। उधर, बेंगलुरु में प्रदर्शन और हिंसा के मामले 24 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

नागरिकता संशोधन कानून का विरोध, बिहार की रिपोर्ट

राजद ने नागरिकता कानून के खिलाफ शनिवार को प्रदेश में बंद बुलाया है। तेजस्वी यादव ने कहा कि यह कानून असंवैधानिक और मानवता विरोधी है। इससे भाजपा का विभाजनकारी चरित्र सामने आ गया है। गुरुवार को बंद के दौरान राज्य के कई जिलों में माकपा कार्यकर्ताओं ने रेलवे ट्रैक और हाईवे जाम किए थे।

असम राज्य के हालात कैसे हैं

सभी जिलों में शुक्रवार को इंटरनेट सेवा बहाल हो गई। यहां प्रदर्शन और हिंसा के चलते 11 दिसंबर से इंटरनेट पर रोक लगाई गई थी। मुख्यमंत्री ने घोषणा की है कि राज्य में स्थिति सामान्य हो चुकी है।

तमिलनाडु में क्या स्थिति है

चेन्नई में नागरिकता कानून के विरोध में प्रदर्शन करने वाले 600 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया गया। इनमें अभिनेता सिद्धार्थ और संगीतकार टीएम कृष्णा भी शामिल हैं।  

केरल की रिपोर्ट

उत्तर केरल हाई अलर्ट पर है। यहां के वायनाड, कोझिकोड, कासरगोड और कन्नूर जिले में सुरक्षा इंतजाम पुख्ता किए गए हैं।

पश्चिम बंगाल में क्या हुआ

राज्य में शुक्रवार को हालात सामान्य रहे। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आज कोलकाता के अल्पसंख्यक बाहुल्य पार्क सर्कस इलाके में धरना दिया।