Loading...

कलेक्टर के खिलाफ रात को धरने पर बैठे थे पूर्व विधायक, मच्छरों ने काटा तो उठ गए | DHAR MP NEWS

भोपाल। मध्य प्रदेश के धार जिले से एक मजेदार खबर आ रही है। पूर्व विधायक कालू सिंह ठाकुर कलेक्टर की एक कार्रवाई के खिलाफ रात 10:00 बजे धरने पर बैठ गए थे। थोड़ी देर बाद जब मच्छरों ने काटना शुरू किया तो उठकर अपनी कार में बैठ गए, सुबह कलेक्टर के आते ही मीटिंग की और धरना खत्म कर दिया। 

मामला क्या है 

विवाद विधायक निधि से बने यात्री प्रतीक्षालयों का है। प्रशासन का कहना है कि विधायक निधि से 8 यात्री प्रतीक्षालय बनाए गए थे। यह सार्वजनिक स्थान पर होने चाहिए थे परंतु 4 यात्री प्रतीक्षालय प्राइवेट स्कूलों के अंदर बना दिए गए। प्रशासन इन्हें वहां से हटाकर सार्वजनिक स्थान पर लगाने जा रहा था। पूर्व विधायक कालू सिंह ठाकुर ने इस कार्यवाही का विरोध किया। 

रात 10:00 बजे धरने पर बैठे, मच्छरों ने काटा तो कार में बैठ गए 

पूर्व विधायक कालू सिंह ठाकुर कलेक्टर की कार्यवाही के खिलाफ रात 10:00 बजे धरने पर बैठ गए। थोड़ी देर बाद जब मच्छरों ने काटना शुरू किया तो धरना स्थल से उठे और अपनी कार के अंदर जाकर बैठ गए। कार के ड्राइवर को उन्होंने अपनी जगह धरने पर बैठा दिया। सारी रात इसी तरह गुजरी सुबह वापस धरने पर आ गए  11:00 बजे कलेक्टर ऑफिस आए पूर्व विधायक उनसे मिलने जा पहुंचे। 10 मिनट की मुलाकात के बाद 14 घंटे का ड्रामा खत्म हो गया। 

वह प्रतीक्षालय विधायक निधि से नहीं निजी खर्चे से बने हैं: विधायक

मैंने कलेक्टर के सामने अपनी बात रखी है। जहां प्रतीक्षालय के ऑर्डर है वहां होना चाहिए। स्कूल वाले निजी है। उनका मैं बिल दूंगा। कलेक्टर ने तीन दिन का आश्वासन दिया है। इसलिए धरना समाप्त कर रहा हूं। 2 यात्री प्रतीक्षालय सही लगे थे, दो चोरकोट वाले स्थान पर लगे थे। वह गलत थे। इसको लेकर आपत्ति थी। मैं बिल दूंगा।
कालूसिंह ठाकुर, पूर्व विधायक भाजपा 

बिल पेश करने के बाद आगे की कार्रवाई होगी

शिकायत मिली थी कि विधायक निधि से 8 यात्री प्रतीक्षालय स्वीकृत हुए थे। कुछ निजी स्कूल में लगे हैं। चार यात्री प्रतिक्षालय स्कूल के अंदर बनाए गए थे। जबकि चार बाहर बनाए थे। जांच की गई प्रतीक्षालय स्वीकृति वाले स्थान पर नहीं मिले थे। जिस पर उन्हें हटाया गया था। जहां जरूरत है वहां लगाने के लिए कहा है। पूर्व विधायक का कहना है कि निजी खर्चे से लगवाए हैं। उनके पास बिल भी है। बिल आने के बाद आगे की कार्रवाई करेंगे। लगाने वाले एंजेंसियों को भी नोटिस दिया है।
श्रीकांत बनोठ, कलेक्टर