Loading...

BHOPAL: पुलिस तनाव में तैनात रही, पब्लिक ने मस्त छुट्टी मनाई

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में अयोध्या विवाद पर फैसले के बाद पुलिस एवं प्रशासन तेजी से सक्रिय हुआ। पुलिस पेट्रोलिंग पार्टियों ने पूरा बाजार बंद करा दिया। यहां तक कि चाय नाश्ते की दुकानें भी बंद करा दी गई। पुलिस तनाव में थी, लेकिन पब्लिक बिल्कुल रिलैक्स थी। लोगों के बीच किसी भी तरह का तनाव नहीं देखा गया। उन्होंने मस्त छुट्टी मनाई, टीवी पर फिल्म देखी, रुक-रुक कर न्यूज़ भी देखते रहे। यह 2020 का भोपाल है और यही है भोपाल की नई पहचान।

भोपाल के मेहमानों को चाय नाश्ता तक नहीं मिला

बस स्टैंड और रेलवे स्टेशन पर आम दिनों की तरह रहने वाली भीड़ नहीं थी। पूरे शहर में बाजार बंद होने से कर्फ्यू सा नजारा है। कई पेट्रोल पंप भी अभी बंद हैं। फैसला आने के बाद भोपाल सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने रिवेयरा टाउन शिप के मंदिर पहुंची और कहा कि उनकी पूजा अभी शेष है।  आज सुबह नए और पुराने शहर में कुछ दुकाने खुली लेकिन फैसले का समय होते ही बंद हो गईं। जिन लोगों ने दुकान खोल रखी थीं उनसे पुलिस ने अपील कर कहा कि दुकान बंद कर दीजिए, मौका मिला है घर जाकर आराम करिए। लिहाजा चाय-नाश्ते की दुकानें भी बंद हो गई। दुकान बंद होने से लोग चाय-नाश्ते को भी तरस गए। सबसे ज्यादा दिक्कत उन छात्रों को आ रही है जो बाहर से राजधानी में पढ़ने आए हैं। 

ऑटो रिक्शा वालों ने ब्लैकमेलिंग की

पब्लिक ट्रांसपोर्ट की कमी के चलते बाहर से आने वाले लोगों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। इस मौके का फायदा ऑटो रिक्शा वालों ने जमकर उठाया और लोगों को गंतव्य तक पहुंचाने के लिए मनचाहा किराया वसूल कर रहे हैं। परिवहन विभाग और यातायात पुलिस ने इस मामले में कोई दखल नहीं दिया। सारा दिन यात्रियों को लूटने दिया गया।

भोपाल के दोनों पक्षों का बयान

अयोध्या का फैसला आने के बाद शहर काजी सैयद मुश्ताक अली नदवी ने कहा कि हमारी सभ्यता और संस्कृति प्रेम की है। आपसी भाईचारा और गंगा-जमुनी तहजीब हमारी पहचान है। इसको हर हाल में कायम रखना है। उन्होंने सभी नागरिकों से सद्भाव बनाए रखने की अपील की है। वहीं गुफा मंदिर के महंत चंद्रमादास त्यागी ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला हम सभी ने खुले दिल से स्वीकार किया है। सभी को इसका सम्मान करना चाहिए। 

जय गुरुदेव का समागम स्थगित 

जय गुरुदेव की तरफ से भेल दशहरा मैदान में होने वाले समागम को स्थगित कर दिया गया है। इस समागम में भाग लेने के लिए देशभर से 10 हजार लोग पहुंचे थे, बाकी जो लोग यहां भाग लेने के लिए आ रहे थे, उन्हें लौटने के लिए कहा गया है। जय गुरुदेव उमाकांत तिवारी ने श्रद्धालुओं से दो मिनट की बात की और उन्हें जाने के लिए कहा। इधर, गुरु नानक देव की 550वीं प्रकाश पर्व पर निकलने वाली नगर कीर्तन को भी स्थगित कर दिया गया है।