Loading...

चंद्रशेखर आजाद की जगह अर्जुन सिंह की मूर्ति लगाने पर विवाद शुरू | BHOPAL NEWS

भोपाल। मध्यप्रदेश पूर्व सीएम अर्जुन सिंह की मूर्ति (Statue of arjun singh) को लेकर विवाद शुरू हो गया है। विवाद जगह को लेकर है, जिस जगह पर अर्जुन सिंह की मूर्ति लगी है। वहां पहले चंद्रखर आजाद की प्रतिमा (Chandrashekhar Azad statue) थी। लेकिन कुछ वर्ष पहले वहां से वह प्रतिमा ट्रैफिक सुधार के नाम पर हटा दी गई थी। लेकिन अब उसी जगह पर अर्जुन सिंह की प्रतिमा लगी है। पूर्व सीएम शिवराज सिंह (Shivraj Singh) ने इसे लेकर मध्यप्रदेश की सरकार पर निशाना साधा है।

दरअसल, लिंक रोड क्रमांक एक पर नानके पेट्रोल पंप (Nanke Petrol Pump) के पास ट्रैफिक व्यवस्थित करने के लिए करीबी तीन साल पहले रोटरी के साथ अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा को हटाकर रोड किनारे स्थापित किया था। उसी स्थआन पर शुक्रवार को अर्जुन सिंह की प्रतिमा स्थापित कर दी है। इसका प्रस्ताव करीब एक साल पहले नगर निगम परिषद ने पारित किया था। अर्जुन सिंह की यह मूर्ति 11 लाख 95 हजार रुपये की लागत से बनी है। इसकी ऊंचाई 10 फीट और वजन 985 किलोग्राम है। नगर निगम महापौर आलोक शर्मा का कहना है कि पहले महापौर परिषद और बाद में निगम परिषद में पूर्व सीएम अर्जुन सिंह की प्रतिमा लगाने का प्रस्ताव पास किया गया। ये कहां लगेगी, इसका स्थान अफसरों ने तय किया है।

वहीं, नगर निगम परिषद अध्यक्ष सुरजीत सिंह चौहान का भी कहना है कि पूर्व सीएम अर्जुन सिंह की प्रतिमा लिंक रोड पर लगाने का प्रस्ताव पास किया गया था, लेकिन यह प्रतिमा कैसे और कहां बनी और इसे किस जगह पर स्थापित किया जाना है, यह निगम अफसरों ने तय किया है। अधिकारियों ने जो स्थान तय किया है, वहां इसे स्थापित कर दिया गया है।

नगर निगम ने सड़कों से प्रतिमा हटाने के लिए तीन साल पहले मुहिम शुरू की थी। इस दौरान चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा को एक तरफ किया था। इसके बाद शहर की कई प्रतिमाओं को ट्रैफिक में बाधा का हवाला देकर साइड में किया गया। जिसमें पूर्व राष्ट्रपति डॉ शंकर दयाल शर्मा की प्रतिमा भी शामिल है। प्रदेश में सरकार बदलने के बाद अब नगर निगम ने अपने प्रस्ताव पर अमल किया है।

पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान ने लिखा कि महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा के साथ ऐसा कृत्य, मध्यप्रदेश शर्मिंदा है। इस दुस्साहस के लिए दोषियों को तत्काल कड़ी से कड़ी सजा और उचित सम्मान के साथ मां भारती के सपूत की प्रतिमा पुनः स्थापित हो, अन्यथा देश स्वयं को कभी माफ न कर सकेगा।

वहीं, संस्कृति बचाओ मंच के चंद्रशेखर तिवारी ने कहा कि नगर निगम के कमिश्नर ने सड़क चौड़ीकरण के नाम पर इस प्रतिमा को वहां से हटाई गई थी। लेकिन बाद में चंद्रशेखर आजाद की प्रतिमा की जगह वहां अर्जुन सिंह की मूर्ति लग रही है। कांग्रेस बेवजह इस विवाद को जन्म दे रही है। मैं चाहूंगा कि पूर्व सीएम अर्जुन सिंह की प्रतिमा को व्यापम चौराहे पर लगाया जाए।