Loading...

नारायण त्रिपाठी का कमलनाथ से मोहभंग, लौटकर भाजपा में आए | MP NEWS

भोपाल। कांग्रेस से भाजपा में आकर विधायक बने नारायण त्रिपाठी पिछले दिनों कमलनाथ के साथ नजर आए थे। विधानसभा में हुई एक बेवजह की वोटिंग में नारायण त्रिपाठी ने कांग्रेस को वोट किया था और कांग्रेस को अपना असली घर बताया था लेकिन आज दीपावली के पहले एक बार फिर नारायण त्रिपाठी भाजपा कार्यालय में नजर आए। नारायण त्रिपाठी ने कहा कि मैं भाजपा में ही था और भाजपा में ही रहूंगा। कहा जा रहा है कि नारायण त्रिपाठी और सीएम कमलनाथ के बीच हुई डील पूरी नहीं हो पाई और कमलनाथ पर दबाव बनाने के लिए नारायण त्रिपाठी फिर से भाजपा कार्यालय में फोटो खिंचवा रहे हैं।

भाजपा खेमे में खुशी की लहर

मैहर से भारतीय जनता पार्टी के विधायक श्री नारायण त्रिपाठी ने आज प्रदेश भाजपा कार्यालय में पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह से भेंटकर कहा कि वे कल भी भाजपा में थे, आज भी भाजपा में हैं और कल भी भाजपा में रहेंगे। कांग्रेस ने उनके भाजपा छोड़ने को लेकर भ्रम फैलाया है। इसलिए कांग्रेस के भ्रम को दूर करने के लिए मैं यहां आकर बैठा हूं। इस अवसर पर पूर्व मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा, पूर्व मंत्री श्री विश्वास सारंग सहित बडी संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे।

कांग्रेस के दावे झूठे थे: राकेश सिंह

श्री नारायण त्रिपाठी को साथ लेकर प्रदेश अध्यक्ष श्री राकेश सिंह ने मीडिया से कहा कि कांग्रेस मुगालते में है और उसके साथ प्रलोभन की राजनीति के माध्यम से मध्यप्रदेश में एक वातावरण बनाने का प्रयास कर रही है। कांग्रेस झूठ, फरेब और भ्रम की राजनीति कर रही है। इस बात की पुष्टि के लिए हम सभी खडे है। पिछले दिनों कांग्रेस ने बडे बडे दावे किए कि भाजपा के विधायक उनके साथ गए है। तब भी हमने कहा था कोई कहीं नहीं गया है। भारतीय जनता पार्टी के विधायक एकजुट है। श्री नारायण त्रिपाठी हमेशा हमारे साथ है। भारतीय जनता पार्टी में थे, हैं और रहेंगे। इसकी पुष्टि के लिए वे स्वयं यहां मौजूद है।

इस अवसर पर श्री नारायण त्रिपाठी ने कहा कि कांग्रेस दिशाहीन पार्टी है। कोई नेतृत्व नहीं, कोई विचार और सोच नहीं है, कोई समझ नहीं है। मैं कभी कांग्रेस नहीं गया, भाजपा में था और भविष्य में रहूंगा। जब कश्मीर से धारा 370 हटी तो मैंने ट्वीट करके कहा कि हिन्दुस्तान में श्री अमित शाह जी जैसे नेता ही यह फैसला ले सकते है। जब भी मैंने बोला तो सिर्फ यही कहा कि हम सरकार कभी भी बना सकते है। मैं कभी भाजपा से अलग नहीं हुआ था। मैहर को स्मार्ट सिटी बनाना है जैसे तमाम कामों को लेकर मैं कमलनाथ जी के लगातार संपर्क में था। मैं कभी कांग्रेस में नहीं गया।

श्री नारायण त्रिपाठी, डॉ. नरोत्तम मिश्रा के साथ भाजपा कार्यालय पहुंचे थे। इस अवसर पर डॉ. मिश्रा ने कहा कि कांग्रेस जिस संख्या को 114 से बढाकर 116 और 121 से बढाकर 123 बता रही थी उसके भ्रम को आज हमने दूर कर दिया है। इसलिए कांग्रेस को भी अपनी गिनती में सुधार कर लेना चाहिए।