Loading...

JABALPUR NEWS: साले ने जीजा की हत्या कर लाश पटरी पर फेंकी

जबलपुर। मां से अभद्रता करने पर साले को अपने जीजा पर इतना अधिक गुस्सा आया कि पहले तो उसने उसकी हत्या कर दी और बाद में मदन महल स्टेशन के समीप ट्रेक पर डाल दिया, ताकि पूरा मामला हत्या न लगे, बल्कि आत्महत्या या हादसा प्रतीत हो, लेकिन जीआरपी ने मामले की गुत्थी सुलझा ली और हत्या के आरोपी साले को गिरफ्तार कर लिया।

जीआरपी के मुताबिक साले ने जीजा के हाथ-पैर बांधे और उसे ऑटो में डाल दिया। अंधेरे में ऑटो खड़ा कर गमछे से गला घोंटकर जीजा को मौत के घाट उतारा। इसके बाद वह लाश को मदन महल स्थित रेलवे ट्रैक पर ले गया। वहां उसने एक बार फिर लाश का गला दबाया और उसे ट्रैक पर रख दिया। घर लौटने पर आरोपी ने बहन को कहा कि उसने जीजा को मदन महल थाने में बंद करा दिया है। जांच के बाद जीआरपी की टीम ने आरोपी साले को गिरफ्तार कर लिया। यह जानकारी शुक्रवार को रेल एसपी सुनील जैन ने दी।

उन्होंने बताया कि 13 अक्टूबर को मदन महल स्थित डाउन ट्रैक पर एक युवक की लाश मिली। लाश ट्रैक पर थी, लेकिन नाक में लगी रूई और घटना स्थल देखकर मामला हत्या का प्रतीत हुआ. जीआरपी थाना प्रभारी मंजीत सिंह, चौकी प्रभारी राजेश राज व अन्य की टीम को जांच में पता चला कि मृतक स्नेह नगर लिंक रोड निवासी नितिन पटेल उर्फ नीतेश (Nitin Patel aka Nitesh) है. वह मूलत: नरसिंहपुर का रहने वाला है और यहां ससुराल में पत्नी नेहा पटेल (Neha Patel) सास व साले विनय पटेल (Vinay Patel) के साथ रहता था.

नेहा ने पूछताछ में जीआरपी को बताया कि 12 अक्टूबर को नितिन नशे में धुत होकर घर पहुंचा। उससे व उसकी मां से अभद्रता कर दी. तब नेहा ने अपने भाई विनय को बुलाया. पहले तो विनय ने नितिन को पीटा और फिर उसे ऑटो में डालकर मदन महल थाने ले जाने की बात कही। लौटने के बाद विनय ने नेहा से कहा कि वह नितिन को मदन महल थाने में बंद करा आया है। अब वह चार पांच दिन बाद छूटेगा।

पेशे से ऑटो चालक विनय को जीआरपी ने पकड़ा. पूछताछ की, तो वह टूट गया। विनय ने बताया कि आए दिन नितिन उसकी बहन नेहा और मां से अभद्रता करता था। कई बार समझाने पर भी वह नहीं माना। 12 अक्टूबर को जब वह घर पहुंचा, तब भी नितिन हंगामा कर रहा था। तब उसने नितिन को पीटा और हाथ पैर बांधकर ऑटो में डालकर ले गया। अंधेरे में ऑटो खड़ा कर उसने नितिन का गला दबाकर उसे मौत के घाट उतार दिया।

वह लाश को रेलवे ट्रैक के पास ले गया. जहां नितिन की लाश की नाक में उसने रूई लगाई। ट्रैक पर लाश रखने के बाद उसने दोबारा लाश का गला घोंटा। उसने देखा कि मदन महल स्टेशन पर ट्रेन खड़ी थी। जब ट्रेन वहां से रवाना हुई, तो उसने लाश को ट्रैक पर रखा और दूर हट गया. वह चाहता था कि लाश ट्रेन से कट जाए और किसी को यह संदेह न हो कि उसने जीजा की हत्या की है।