Loading...

INDORE NEWS: 5 स्टार होटल गोल्डन गेट में पार्किंग की जगह बने 'बार' में लगी थी आग

इंदौर। गोल्डन गेट होटल (Golden Gate Hotel) मालिक सीएस सिंह (CS Singh) ने पार्किंग की जगह बार बना रखा था। यहीं सबसे पहले आग सुलगी थी। आग होटल के बेसमेंट में लगी थी। वहां होटल मालिक ने बार बना रखा था, जबकि वहां होटल की पार्किंग (Hotel Parking) बनना थी। होटल के वाहन अलग जगह पार्क होते थे। होटल में 20 कमरे भी थे, जहां लोगों के रुकने की व्यवस्था थी। बार में धुआं अधिक होने से आसपास के लोगों ने जैसे ही कांच फोड़ा तो आग भड़क गई थी। आग इतनी तेज थी कि लोग वहां से भागे और उन्होंने दमकल को सूचना दी, लेकिन तब तक आग ने पूरी होटल को चपेट में ले लिया। यदि लोग धुआं निकलते समय ही दमकल बुला लेते तो आग पूरी होटल को जलाकर खाक नहीं कर पाती। 

विजयनगर स्कीम-54 स्थित गोल्डन गेट होटल (Golden Gate Hotel)  सोमवार को जलकर खाक हो गई। होटल में लगभग चार करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान होने की बात सामने आ रही है। होटल के बार में देर रात तक पार्टियां होती थीं। सोमवार को होटल कर्मचारी बार व रेस्टोरेंट बंद करके आराम करने ऊपर के कमरे में चले गए, तभी भूतल में बने बार में आग लग गई। एक घंटे तक अंदर ही अंदर आग धधकती रही, जब बार के अंदर से धुआं निकलना शुरू हुआ तो लोगों ने पहले तो सामान्य समझा। जब अधिक धुआं निकलना शुरू हुआ तो कुछ कर्मचारियों ने बार के अंदर जाने की कोशिश की, लेकिन धुआं अधिक होने से वे अंदर नहीं जा सके।

कर्मचारियों ने धुआं बाहर निकालने के लिए बाजू में लगी कांच की खिड़कियां तोड़ी तो अंदर धधक रही आग को हवा मिली और एक झटके में ही आग भयानक रूप से फैल गई। इसके बाद कुछ लोगों ने रेत व बाल्टी से पानी डालकर उसे बुझाने की कोशिश भी की लेकिन तब तक आग होटल के अन्य हिस्सों तक पहुंच चुकी थी।

देवांश अपार्टमेंट में पत्थर मारकर लोगों को जगाया 

होटल के सामने के दुकानदार व अन्य रहवासियों ने अपार्टमेंट में सो रहे लोगों को पत्थर मारकर उठाया और पूरी इमारत खाली कराई। आग इतनी फैली कि बाजू में बने देवांश अपार्टमेंट के कमरों में जाने लगी। लोग इस बहुमंजिला इमारत के अंदर सो रहे थे। गनीमत रही कि आग लगने के दौरान हवा नहीं चल रही थी। इससे लपटें केवल होटल तक ही सीमित रहीं। यदि हवा चलती तो बाजू वाली इमारतें भी चपेट में आ सकती थीं। देवांश अपार्टमेंट में रहने वाले अंकुर अग्रवाल ने बताया कि अपार्टमेंट में पांच फ्लैट हैं। होटल में आग लगने के बाद इन्हें तुरंत खाली कराया गया। जनहानि तो नहीं हुई, लेकिन अपार्टमेंट के लोगों को लाखों रुपए का नुकसान हुआ है। पांचों मंजिल पर रहने वाले लोगों के होटल के बाजू के कमरों तक आग की लपटें पहुंचने से लोगों के एसी, बिजली के तार, खिड़कियां व ड्रेनेज की लाइन गल चुकी हैं। लपटें कमरे के अंदर तक पहुंचने से दीवारें भी खराब हुुई हैं। मंगलवार से अपार्टमेंट का रखरखाव शुरू हुआ है।