Loading...

CAB SERVICE FOR WOMEN: महिला 'सखा कैब' आज से शुरु | INDORE NEWS

इंदौर। आज से महिला 'सखा कैब' (Sakha Cab) की शुरुआत होगी। इस कैब को महिला ड्राइवर चलाएंगी और इसमें सिर्फ महिला यात्री या परिवार के सदस्य ही सफर कर सकेंगे। जो महिला खरीदी के लिए बाजार जाना चाहती हैं वो भी इसका इस्तेमाल कर सकेंगी। शहर की संस्था समान सोसायटी, दिल्ली के आजाद फाउंडेशन और संख विंग (Azad Foundation and Sankha Wing) द्वारा ये 'सखा कैब' सुविधा शुरू की जा रही है। संस्था द्वारा फिलहाल शहर में तीन 'सखा कैब' की शुरुआत की जा रही है। अगले एक साल में कैब की संख्या बढ़ाकर 15 किए जाने की योजना है।  

ये कैब इंदौर शहर और आसपास के पर्यटक स्थल, उज्जैन, ओंकारेश्वर, बड़वानी, भोपाल (Tourist places, Ujjain, Omkareshwar, Barwani, Bhopal) तक भी जाएगी। कोई भी महिला यात्री संस्था के कॉल सेंटर के नंबर 9893123109 पर कॉल कर बुकिंग करवा सकेगा। इसके अलावा ये कैब एयरपोर्ट पर भी महिला यात्रियों के लिए सुविधा देगी। ये कैब एयरपोर्ट पर आखिरी फ्लाइट आने तक उपलब्ध रहेगी। इसमें महिला यात्री रात में सफर कर सकेंगी। शनिवार शाम 5.30 बजे स्कीम 54 स्थित आनंद मोहन माथुर सभागृह में मप्र लोक निर्माण मंत्री सज्जन सिंह वर्मा इसका शुभारंभ करेंगे व महिला कार ड्राइवरों को चाबी सौंपेंगे।

गौरतलब है कि शहर में तीन साल पहले भी महिला ऑटो रिक्शा व महिला टैक्सी चलाने की योजना बनाई गई थी। लेकिन प्रशिक्षित व कुशल महिला ड्राइवर नहीं मिलने से योजना अधूरी रह गई थी। समान सोसायटी के डायरेक्टर राजेंद्र बंधु के मुताबिक, शहर में चार साल पहले महिलाओं के लिए कार ड्राइविंग प्रशिक्षण की शुरुआत की गई थी। आज संस्था द्वारा 200 महिलाओं को ड्राइवर के रूप में प्रशिक्षण दिया जा चुका है। 80 से अधिक महिलाएं विभिन्न स्थानों पर ड्राइवर की नौकरी कर रही हैं।

संस्था द्वारा इन कैब संचालन के लिए फिलहाल चार महिला ड्राइवरों को चुना गया है। ये अंकिता राठौर, अर्पिता आर्य, सोनू कुशवाह और कृष्णा सोलंकी हैं। चारों पिछले दो-तीन साल से कार चला रही हैं। ये प्राइवेट कंपनी व होटल की कारें चला चुकी हैं।

'सखा कैब' में महिला ड्राइवर व महिला यात्रियों की सुरक्षा के लिए जीपीएस व पैनिक बटन भी रहेगा। ये 'सखा कैब' के कंट्रोल रूम से जुड़ा होगा। महिला ड्राइवर या महिला यात्री किसी भी आपात स्थिति में इस पैनिक बटन को दबाकर मदद प्राप्त कर सकेंगी। इसके बाद कंट्रोल रूम तत्काल अलर्ट होगा और नजदीकी पुलिस थाने व डायल 100 को सूचना दी जाएगी। इसके अलावा संस्था का स्टाफ तत्काल घटना स्थल पर पहुंचेगा।